Select location to see news around that location.Select Location

पैसेंजर ट्रेन में झोले में मिली 5 दिन की बच्ची; भगवान बनकर आए चौकी इंचार्ज, बच्ची की हालत नाजुक

पैसेंजर ट्रेन में झोले में मिली 5 दिन की बच्ची; भगवान बनकर आए चौकी इंचार्ज, बच्ची की हालत नाजुक

पैसेंजर ट्रेन में झोले में मिली 5 दिन की बच्ची; भगवान बनकर आए चौकी इंचार्ज, बोले- भूख-प्यास से होंठ हो गए थे सफेद, पानी पिलाया तब उसे मिली राहत

कानपुर रेलवे स्टेशन का मामला, बच्ची की हालत नाजुक; अस्पताल में भर्ती कराया गया।

कानपुर (यूपी).खजुराहो पैसेंजर ट्रेन में पांच दिन की एक बच्ची भूख-प्यास से तड़पती झोले में मिली है। नवजात को जीआरपी पुलिस ने गोविंदपुरी रेलवे स्टेशन से बरामद किया है। बच्ची की हालत नाजुक बताई जा रही है। उसे हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने मां-बाप को ढूंढने का प्रयास किया, लेकिन वो नहीं मिले। भगवान बनकर आए चौकी इंचार्ज...

- गोविंदपुरी स्टेशन में तैनात चौकी इंचार्ज अमित के मुताबिक, प्लेटफार्म नंबर दो पर खजुराहो पैसेंजर 54161 खड़ी थी।

- 'मैं उधर से गुजर रहा था, पता नहीं मेरे मन में क्या आया और मैं डिब्बे में चढ़ कर देखने लगा कि सब कुछ ठीक है या नहीं।

- 'मेरी नजर खूंटी में टंगे एक सफेद रंग के झोले पर पड़ी। ऐसा लगा उसके अंदर कोई पैर चला रहा था, शक हुआ तो पास जाकर देखा। झोले में झांकते ही हैरान रह गया।'

- 'भूखी-प्यासी होने की वजह से बच्ची के होंठ सफेद हो गए थे। फौरन उसे झोले से निकाला और पानी पिलाया। फिर दूध की व्यवस्था की, तब जाकर उसे राहत मिली।'

फिर चाइल्ड लाइन के हवाले की बच्ची

- इसके बाद उन्होंने चाइल्ड लाइन और अपने जीआरपी इंस्पेक्टर को इसकी सूचना दी। फिर चाइल्ड लाइन की मेंबर संगीता सचान के हवाले कर दिया।

- बच्ची की हालत गंभीर थी, इसलिए चाइल्ड लाइन की टीम ने उसे हैलट हॉस्पिटल के बाल रोग विभाग में भर्ती कराया।

- डॉक्टर बोले- अगर समय रहते उसका इलाज नहीं कराया गया होता, तो उसका बच पाना मुश्किल था। बच्ची का वजन महज एक किलो 500 ग्राम था।

- सचान के मुताबिक, बच्ची मात्र चार से पांच दिन की है। अगर लोग बच्ची को पाल नहीं सकते, तो अनाथ आश्रम या फिर चाइल्ड लाइन से संपर्क तो कर सकते हैं। यह बेहद घिनौना काम है।

मां-बाप के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

- चाइल्ड लाइन के डायरेक्टर कमल कांत तिवारी के मुताबिक, बाल कल्याण न्यायपीठ को लिखित में मामले की सूचना दे दी गई है।

- उन्होंने बताया कि ऐसे मामले में अभिभावकों को एक साल की सजा और तीन लाख रुपए तक जुर्माने का प्रावधान है। अगर उनका पता चलता है, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।


Khushboo

Khushboo

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top