Select location to see news around that location.Select Location

भाई के साथ कार चलाना सीख रही लड़की ने 5 को रौंदा, नानी-नातिन की मौत, 3 गंभीर

भाई के साथ कार चलाना सीख रही लड़की ने 5 को रौंदा, नानी-नातिन की मौत, 3 गंभीर



नयाचक में हादसा, ब्रेक लगाने की बजाय एक्सीलरेटर दबा दिया

घटना से आक्रोशित लोगों ने 4 घंटे तक सड़क पर लगाए रखा जाम

पटना: रामकृष्णानगर थाना क्षेत्र के नयाचक में परती मैदान में भाई के साथ स्कॉर्पियो चलाना सीख रही लड़की ने वहां धूप सेंक रहे एक ही परिवार के पांच लोगों को कुचल दिया। इनमें एक महिला मीना देवी की मौत मौके पर हो गई, जबकि उसकी दो साल की नतिनी सपना की मौत इलाज के दौरान पीएमसीएच में हो गई। मीना की बहू गुड़िया देवी व बेटी रूबी देवी समेत तीन जख्मी हो गए। तीनों की हालत गंभीर है।

दरअसल, लड़की ने ब्रेक लगाने की बजाय एक्सीलरेटर दबा दिया, जिससे गाड़ी की रफ्तार तेज हो गई, जिससे हादसा हुआ। घटना के बाद भाई-बहन गाड़ी छोड़कर फरार हो गए। गाड़ी पुलिस के कब्जे में है। पुलिस ने गाड़ी को जब्त करने के साथ ही भाई-बहन पर गैर-इरादतन हत्या का केस दर्ज कर लिया है। मृतका मीना का परिवार पश्चिमी नयाचक में रहता है। उसके पति डोमन बढ़ई मिस्त्री का काम करते हैं। वे मूल रूप से जहानाबाद के घोसी थाने के चिरी डुमरी गांव के रहने वाले हैं।

थानेदार सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि स्कार्पियो (बीआर 01 पीई 1893) को कछुआरा गांव निवासी कारू सिंह के बेटा-बेटी चला रहे थे। जून 2013 में इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन पटना डीटीओ से अजीत कुमार के नाम से हुआ है।

चार घंटे सड़क जाम

घटना के बाद रामकृष्णानगर पुलिस पहुंची तो स्थानीय लोगों ने मीना की लाश नहीं उठने दी और मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम कर दी। करीब चार घंटे तक सड़क जाम रहने से वाहनों की लंबी कतार लग गई। बाद में कई थानाें की पुलिस पहुंची, लेकिन लोग मानने को तैयार नहीं थे। घटना के करीब पांच घंटे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने चार लाख मुआवजे का एलान किया। इसके बाद जाम हटा और 60 साल की मीना के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

मां बेटी को ले गई अस्पताल

इस घटना में सपना की मां शोभन देवी बाल-बाल बच गई। उसने बताया कि अचानक सपना और अन्य को तड़पता देख दिमाग काम नहीं कर रहा था। मां की मौत हो गई, लेकिन सपना व अन्य की सांसें चल रही थीं। स्थानीय लोग पहुंचे तो किसी तरह बेटी को गाेद में लिया और गाड़ी से पास में ही एक निजी अस्पताल पहुंची। वहां से पीएमसीएच भेजा गया लेकिन बेटी की मौत हो गई। सपना के नाना डोमन और मौसा अजय शर्मा ने बताया कि दो साल की सपना की मौत को

प्रशासन ने घंटों छिपाए रखा

घर में मचा कोहराम |मीना की मौत के बाद घर में कोहराम तो मचा ही था, सपना की मौत की खबर आते ही चीख-पुकार मच गई। सपना की मां शोभन और पिता विनाेद शर्मा का रो-रोकर बुरा हाल था। पूरे मोहल्ले के लोग वहां जमा थे। मीना की मौत पर उनके पति व अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। मोहल्ले के लोग परिजनों को सांत्वना दे रहे थे। मीना की मौत की खबर उनके दोनों बेटों को दे दी गई है। दोनों पटना से बाहर मजदूरी का काम करते हैं।


Khushboo

Khushboo

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top