Select location to see news around that location.Select Location

शराब के नशे में युवक ने पड़ोसी के बेटे पर हथौड़ों से किया वार

लुधियाना के चंडीगढ़ रोड स्थित एलआईजी फ्लैट्स के नजदीक की घटना, बच्चे के सिर-नाक की हड्डी टूटी

लुधियाना. लुधियाना के चंडीगढ़ रोड स्थित एलआईजी फ्लैट के नजदीक रंजिश के चलते शराब के नशे में एक व्यक्ति ने पड़ोसी के बेटे पर हथौड़ों से वार कर दिया। उसके बेहोश होने के बावजूद भी आरोपी उसे पीटता रहा। तभी लोगों की भीड़ जुटी और बच्चे दीपक(10) को अस्पताल पहुंचाया। वहीं, आरोपी हनुमान (39) को लोगों ने दबोच लिया और बुरी तरह से पीटा। तब तक थाना डिवीजन 7 की पुलिस मौके पर पहुंची। गंभीर हालत में उसे भी अस्पताल में भर्ती करवाया।

दीपक की मां सुनैना ने बताया कि उनके पति राज कुमार सब्जी का काम करते हैं। उनके छह बच्चे हैं, जिसमें पांच बेटियां और दीपक इकलौता बेटा है। वो मूलरूप से पटना के रहने वाले हैं, लेकिन यहां किराये पर रहते हैं। उनके पड़ोस में ही आरोपी हनुमान अपने परिवार के साथ रहता है और मजदूरी करता है। वो अकसर शराब पीकर आता है और अपने बच्चों व पत्नी को पीटता था। 15 दिन पहले वो दोबारा बच्चों को पीट रहा था, तभी सुनैना ने उसे जाकर कहा कि वो रोज-रोज परिवार को पीटता है, ऐसा न करे। तब आरोपी ने उसके साथ भी गाली-गलौज की। इसके बाद पीड़िता ने उसकी शिकायत मकान मालिक से कर दी। इसी के चलते मालिक ने उसे डांटा और दोबारा एेसी हरकत करने से रोका। हनुमान ने इस बात की रंजिश रख ली।

सोमवार की शाम साढ़े 6 दीपक अपने दोस्त के साथ पार्क में खेल रहा था। तभी आरोपी आया, उसके हाथ में हथौड़ा था और शराब के नशे में धुत था। उसने आते ही दीपक को पकड़ लिया और हथौड़ों से पीटना शुरू कर दिया। पीटते-पीटते दीपक की आवाज भी आनी बंद हो गई और वो बेहोश हो गया, लेकिन आरोपी फिर भी उस पर हथौड़े बरसाता रहा। ये देखते ही लोग इकट्ठा हो गए और आरो‌पी को पीटना शुरू कर दी। वहां से गुजर रहे लोगों ने उसे गाड़ी में डालकर अस्पताल पहुंचाया, लेकिन हालात गंभीर होने की वजह अस्पताल ने उसे सीएमसी रेफर कर दिया। जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। क्योंकि उसके सिर और नाक की हड्डी टूट चुकी हैं। उधर, लोगों ने डंडों से आरोपी को जमकर पीटा, जिससे वो भी गंभीर हो गया। उसे भी अस्पताल पहुंचाया।

आर्थिक तौर पर कमजोर होने की वजह से दीपक का पिता राज कुमार बेटे के इलाज के लिए पैसे इकट्ठे करने के लिए घूमता रहा। जिसकी वजह से वो पुलिस को बयान भी नहीं दे पाया। दीपक अपने माता-पिता का इकलौता बेटा है और चौथी कक्षा में पढ़ता है। अस्पताल में मंहगा इलाज होने की वजह से वो इतने पैसे भी नहीं जुटा पा रहा।


Khushboo

Khushboo

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top