Select location to see news around that location.Select Location

छात्र की हत्या का विरोध: 9 घंटे उपद्रवियों के कब्जे में रहा फतुहा, पुलिस को दौड़ाकर पीटा

छात्र की हत्या का विरोध: 9 घंटे उपद्रवियों के कब्जे में रहा फतुहा, पुलिस को दौड़ाकर पीटा

छात्र की हत्या का विरोध: 9 घंटे उपद्रवियों के कब्जे में रहा फतुहा, पुलिस को दौड़ाकर पीटा

मामले में दो दर्जन से अधिक को नामजद किया जाएगा, जबकि दो सौ ज्यादा अज्ञात पर केस दर्ज होगा

पटना/फतुहा.फतुहा के शेफाली इंटरनेशनल स्कूल के हॉस्टल में छह साल के छात्र अभिमन्यु की हत्या के आरोपियों व संदिग्धों की गिरफ्तारी नहीं होने के विरोध में गुरुवार को जाप द्वारा फतुहा बंद में शामिल भीड़ हिंसक हो गई। महारानी चौक पर बंद समर्थकों के बीच शामिल उपद्रवियों ने पुलिस को खदेड़-खदेड़ कर लाठी-डंडों से पीटा। इस घटना में पांच पुलिसकर्मी जख्मी हो गए जिन्हें पीएचसी में भर्ती किया गया। एक को पटना रेफर किया गया। करीब नौ घंटे तक फतुहा बाजार उपद्रवियों के कब्जे में रहा। हालत बेकाबू होता देख कई थानों से पुलिस को बुलाया गया। पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज करने के साथ ही फायरिंग भी की। आंसू के गोले दाग कर उपद्रवियों को तितर-बितर कर दिया। हालांकि पुलिस फायरिंग से इनकार कर रही है। इस मामले में पुलिस ने जाप नगर अध्यक्ष बबलू यादव समेत नौ लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

200 से ज्यादा अज्ञात पर केस दर्ज होगा

सूत्रों के अनुसार इस मामले में दो दर्जन से अधिक को नामजद किया जाएगा, जबकि दो सौ ज्यादा अज्ञात पर केस दर्ज होगा। घायलों में पुलिस अधिकारी आरके सिंह के अलावा जवान मनीष कुमार, ब्रजकिशाेर प्रसाद, बिजाशंकर सिंह, सुधीर कुमार हैं। बिजाशंकर की हालत गंभीर बनी हुई है। ग्रामीण एसपी आनंद कुमार ने बताया कि उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। जो भी इसमें शामिल थे, उन्हें नहीं बख्शा जाएगा। छात्र हत्याकांड में फरार चल रहे आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस छापेमारी करने में जुटी है।

महारानी चौक से रेलवे ट्रैक तक का इलाका बना रहा रणक्षेत्र :बंद समर्थक महारानी चौक पर पहुंचे और वहीं सड़क जाम कर आगजनी शुरू कर दी। इससे बख्तियारपुर, दनियावां व पटना की आेर आने वालों वाहनों की लंबी कतार लग गई। उसके बाद उग्र लोग स्टेशन रोड, पुरानी चौक तथा गोविंदपुर बाजार की ओर गए और वहां जमकर तोड़फोड़ करने के साथ हंगामा व आगजनी शुरू कर दी। इसमें बच्चे भी शामिल थे। सबों के हाथ में लाठी-डंडे थे। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो लोग और उग्र हो गए। पुलिस को दौड़ा-दौड़ाकर पीटना शुरू कर दिया। फिर वहां से पुलिस ने खदेड़कर रेलवे ट्रैक की ओर भेजा पर वहां से लोगों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ पथराव शुरू कर दिया।

नाव जब्ती से नाराज दियारा के लोग भी हो गए शामिल:दरअसल पुलिस ने फतुहा बंद को हल्के में लिया। पुलिस को इस बात का अंदाजा नहीं था कि इतनी तादाद में बंद समर्थक सड़क पर उतर जाएंगे। इसीलिए पुलिस की कम तैनाती की गई। दरअसल पिछले दिनों पुलिस ने कच्ची दरगाह में छापेमारी कर कई नाविकाें को गिरफ्तार करने के साथ ही नाव को जब्त कर ली थी। इसको लेकर दियारा व स्थानीय लोगों में पुलिस को लेकर गुस्सा था। गुरुवार को जाप के बंद में दियारा के लोग भारी तादाद में भीड़ में शामिल होकर उग्र हो गए और पुलिस को इसका आभास नहीं हुआ।

पुलिस के प्रति आक्रोश:|बंद समर्थकों में नामजदों की गिरफ्तारी में देरी होने से आक्रोश तो था ही, साथ ही एसआईटी में फतुहा डीएसपी, थानाध्यक्ष व नदी थाना प्रभारी को शामिल किए जाने से भी काफी नाराजगी थी। उनका कहना था कि टीम में इन तीनों का शामिल रहना जांच को प्रभावित कर सकता है।


Khushboo

Khushboo

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top