इस सर्दी मे यहाँ जाकर ले सकते है साल के अंतिम दिनो का मजा दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की शुरुआत करने वाला देश बना न्यूजीलैंड भारत के हिटमैन बने दुनिया के तीसरे सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले खिलाड़ी "महंगाई डायन खाय जात है" तीन साल के सबसे बड़े स्तर पर पहुची मुद्रास्फीति बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के F16 के इस्तेमाल पर US ने लगाई फटकार ICC T20I Batting Rankings के पहले 10 मे विराट, साथ ही के एल राहुल को फायेदा नागरिकता बिल को लेकर बांग्लादेश विदेश मंत्री ने की भारत यात्रा रद्द हिमाचल की चोटियां बर्फ से लकदक, जलोड़ी दर्रा में भी बर्फ़बारी निरमंड के नोर पंचायत का चार दशक पुराना भवन जलकर स्वाहा अब तैयार है हवा से बनी दुनिया की पहली कार्बन निगेटिव वोदका हर 5 में से 2 कर्मचारी तबीयत का बहाना लेकर लेते है बॉस से छुट्टी कमाल का बैलेंस : ये है बैलेंसराज जो किसी भी चीज को किसी पर भी बैलेंस करदे सिर्फ आतंक ही नहीं, एड्स जैसी बीमारी से भी गंभीर रूप से ग्रस्त है पाकिस्तान हार्दिक पांडया ने कही टीम मे अपनी वापसी को लेकर कुछ बाते जाने कब से ऑर क्यूँ मनाया जाता है World Human Rights Day डर लगता है पापा अब मोदी प्रधानमंत्री नहीं थे तब उन्होंने प्याज की बढ़ती कीमतों पर चिंता की थी : शिव सेना परिजनों ओर पुलिस के उत्पीड़न मे शमी की सहमति : हसीन जहां फिल्म पानीपत को लेकर भडक उठे जाट, वर्ल्ड स्क्वैयर मॉल पर प्रदर्शन, फिल्म बन्द कराई रत्नो का खेल समझने वाले खिलाड़ी है आचार्य अजय शर्मा और रत्नो की बड़ी पाठशाला है उनका गंगाराम राशि रत्न केंद्र

उत्तराखंड के 133 गांवों में पिछले 3 महीने नहीं पैदा हुई एक भी बेटी, जिला प्रशासन में मचा हड़कंप

Shweta Chauhan 22-07-2019 13:53:34



उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के 133 गांवों में पिछले 3 महीने में जन्में 216 बच्चों में एक भी बच्ची पैदा नहीं हुई है। इसकी सूचना मिलने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि इसकी वस्तुस्थिति का पता लगाने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने माना कि ये आंकड़े चौंकाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि यह हमारे 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' अभियान के लिए भी चिंताजनक है। 

जानकारी के मुताबिक, उत्तरकाशी जिले में 3 महीने में 133 गांवों में 216 बच्चे पैदा हुए लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि इनमें से एक भी बेटी का जन्म नहीं हुआ। इस बात का खुलासा खुद स्वास्थ्य विभाग के मार्च, अप्रैल और मई तक की रिपोर्ट में सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक, जिले के 133 गांवों में तीन माह के भीतर कुल 216 प्रसव हुए लेकिन इनमें एक भी बिटिया ने जन्म नहीं लिया। सरकारी रिपोर्ट में ही बिगड़ते लिंगानुपात की यह स्थिति सामने आने से जिला प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। 

डॉ. आशीष चैहान ने संबंधित गांवों की आशा कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। इस मामले को लेकर आशा कार्यकर्ताओं से बात की और ऐसा होने के कारणों की भी पड़ताल करने की कोशिश की। डीएम ने बताया कि सभी संबंधित गांवों को रेड जोन में शामिल किया गया है। उन्होंने आशा कार्यकर्ताओं की ओर से भेजी गई रिपोर्ट नियमित रूप से मदर चाइल्ड ट्रैकिंग सिस्टम पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश दिए। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :