केजरीवाल और सिसोदिया को करना चाहिए हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा : दिल्ली HC दिल्ली हिंसा पर बोले पीएम मोदी : जल्द से जल्द हो शांति बहाल कपिल मिश्रा का वीडियो चलवा दिल्ली हिंसा पर हाईकोर्ट के जजों ने की सुनवाई अफवाहों पर ध्यान न दें लोग, दिल्ली मौजपुर हिंसा में अब तक 11 FIR दर्ज : दिल्ली पुलिस दिल्ली हिंसा पर बोले ट्रंप : भारत का अपना मामला इससे खुद ही निपटे दिल्ली हिंसा में 130 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती, 9 की मौत दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले में जारी हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है अभी तक 15 से लोगो को लगी गोली बीजिंग की हवा में बड़ा सुधार, भारत मे सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर : रिपोर्ट स्वाइन फ्लू की चपेट में सुप्रीम कोर्ट के 6 न्यायाधीश, मास्क पहनकर कोर्ट पहुंचे जस्टिस संजीव खन्ना LIVE : केजरीवाल भी पहुंचे गृह मंत्रालय, दिल्ली हिंसा पर हाईलेवल मीटिंग शुरू CAA : कई मेट्रो स्टेशन बंद, उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा में हेड कॉन्स्टेबल की मौत पत्नी संग आगरा ताज महल पहुंचे ट्रंप कहा वाह ताज साबरमती आश्रम पहुच विजिटर बुक मे ट्रंप ने लिखा 'थैंक्यू फ्रेंड मोदी' अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत की धरती पर रखा कदम ट्रम्प का भारत दौरा / मेलानिया दिल्ली के स्कूल में बच्चों से मिलेंगी, कार्यक्रम से केजरीवाल और सिसोदिया का नाम हटा भारत अमेरिका को व्यापार मे पाहुचा रहा है बड़ी चोट : डोनाल्ड ट्रम्प वायरल वीडियो में देखें उसका दर्द, नौ साल का बच्चा क्यों मरना चाहता है यूनिवर्सिटी से 93 की उम्र में मास्टर डिग्री ले सबसे उम्रदराज छात्र बने सीबीएसई स्कूलों के बच्चों ने ‘नो बैग डे’ को बताया ‘राइट चॉइस’ अब राम जी जुड़े स्थलों की यात्रा कराएगी 'श्री राम एक्सप्रेस'

अब कैंसर का इलाज होगा और भी आसान

जो कैंसर के प्रकाश आधारित उपचार को सस्ता बनाने के साथ ही ज्यादा प्रभावी और मरीजों के लिए सुरक्षित बना सकता है।

Deepak Chauhan 19-08-2019 16:23:53



ब्रिटेन के एक विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने नयी तकनीक विकसित की है जो कैंसर के प्रकाश आधारित उपचार को सस्ता बनाने के साथ ही ज्यादा प्रभावी और मरीजों के लिए सुरक्षित बना सकता है।

प्रकाश आधारित या फोटोडाइनमिक थैरेपी पहले से ही स्वीकृत उपचार है जिसमें कैंसर कारी कोशिकाओं को खत्म करने के लिए ऐसी दवाओं का प्रयोग किया जाता है जो प्रकाश के संपर्क में आने पर ही काम करती हैं। बहरहाल, इनमें से कई दवाएं बिना प्रकाश के भी अकसर विषाक्त होती हैं जिससे मरीजों में कई दुष्प्रभाव होते हैं और इलाज बेअसर हो जाता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ शेफील्ड में पीएचडी के छात्र जोस रिकार्डो एगिलर कोस्मे के इस अनुसंधान के तहत कार्बन के बेहद सूक्ष्म कण विकसित किए जो ट्यूमर तक कैंसर की दवाएं पहुंचा सके। अनुसंधानकर्ताओं ने छोटे कार्बन डॉट्स की मदद से इन दवाओं को सुधारने का प्रयास किया।

कार्बन डॉट ऐसे चमकदार सूक्ष्म कण होते हैं जो बहुत कम विषैले होते हैं। अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि कार्बन डॉट के सतह पर रखी गई दवा प्रकाश के बिना चार गुणा कम विषैली थी जबकि कैंसर को खत्म करने की उसकी क्षमता बरकरार थी।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :