मोटर व्हीकल एक्ट: हवलदार शराब के नशे में वाहन चलाता मिला, ट्रैफिक पुलिस ने काटा 15 हजार का चालान जल्द ही दिल्ली-कटरा के बीच चलेगी देश की दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस IAS बना गली ब्वॉय,पायी 77वीं रैंक अब देहरादून निवासी घर बैठे कराएं वाहन की प्रदूषण जांच कश्मीर मैं होगा अब विकास का राज: PM मोदी बागपत: महिला सिपाही पर हमला बाघपत: करंट लगने से महिला की मौत BCCI के ACU चीफ ने दिया सुझाव, कहा मैच फिक्सिंग-सट्टेबाज को लीगल किया जाए अब लखनऊ के उबर ड्राइवर ने अपनी मधुर आवाज के साथ लोगों का ध्यान किया आकर्षित IND vs SA, 2nd टी 20 मैच में कुछ ऐसा होगा मोहाली का पिच DRDO का अनमैन्ड एरियल व्हीकल दुर्घटनाग्रस्त एक छोटी सी चिड़ियां ने सिखाई ज़िन्दगी की सीख PM मोदी के जन्मदिन पर नेताओं ने दी बधाई मुझे कश्मीर के लोगों की चिंता : गुलाम नबी आजाद बढ़ी मुश्क़िलों में गिरा लालू का परिवार IRCTC टेंडर घोटाला में 2 दिसंबर से सुनवाई क्यों नहीं रोक पा रहा सऊदी अरब खुद पर हमला सोशल मीडिया पर बटोरीं सुर्खियां PM मोदी की 8 ड्रेसिंग स्टाइल ने एक हफ्ते में 5 रुपए महंगा हो सकता है पेट्रोल दिल्ली में सरेआम लड़की का हाईवोल्टेज ड्रामा, ने बचाया हजारों का चालान बागपत: छपरौली के एक गांव में मजदूर की ईटों से पीट-पीट कर हत्या

तमिलनाडु सरकार ने ISRO के अध्यक्ष के. सिवन को एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार से किया सम्मानित

Shweta Chauhan 23-08-2019 14:34:48



तमिलनाडु सरकार ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अध्यक्ष के. सिवन को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार से सम्मानित किया है। इसरो प्रमुख ने गुरुवार को मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी से पुरस्कार हासिल किया। पुरस्कार के तहत आठ ग्राम का स्वर्ण पदक, पांच लाख रुपये नकद और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है।

वर्ष 2015 में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम के निधन के बाद तमिलनाडु की तत्कालीन मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने उनके नाम पर इस पुरस्कार की घोषणा की थी। यह पुरस्कार तमिलनाडु के रहने वाले उन लोगों को दिया जाता है, जो विज्ञान व प्रौद्योगिकी, मानवता व छात्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं।

प्रशस्ति पत्र में इसरो प्रमुख को 'रॉकेट मैन' की उपाधि दी गई है। 62 वर्षीय सिवन वर्ष 1980 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की डिग्री पाने वाले परिवार के पहले सदस्य हैं। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बेंगलुरु से एरोस्पेस इंजीनियरिंग की स्नातकोत्तर डिग्री हासिल करने के बाद वह इसरो से जुड़े। उन्हें डॉ. विक्रम साराभाई रिसर्च अवार्ड (1999) समेत कई पुरस्कार मिल चुके हैं। 

बता दें कि के सिवन ने वर्ष 1980 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में स्नातक किया। वर्ष 1982 में बेंगलुरु के IISC से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर किया। IIT बांबे से उन्होंने वर्ष 2006 में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी पूरी की है। सिवान वर्ष 1982 में इसरो में आए और पीएसएलवी परियोजना पर उन्होंने काम किया। उन्होंने एंड टू एंड मिशन प्लानिंग, मिशन डिजाइन और मिशन इंटीग्रेशन एंड एनालिसिस में काफी योगदान दिया है। हाल ही में चंद्रयान -2 मिशन को लेकर के सिवन ने विश्व में ख्याति प्राप्ति की हुई है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :