मुझे कश्मीर के लोगों की चिंता : गुलाम नबी आजाद बढ़ी मुश्क़िलों में गिरा लालू का परिवार IRCTC टेंडर घोटाला में 2 दिसंबर से सुनवाई क्यों नहीं रोक पा रहा सऊदी अरब खुद पर हमला सोशल मीडिया पर बटोरीं सुर्खियां PM मोदी की 8 ड्रेसिंग स्टाइल ने एक हफ्ते में 5 रुपए महंगा हो सकता है पेट्रोल दिल्ली में सरेआम लड़की का हाईवोल्टेज ड्रामा, ने बचाया हजारों का चालान बागपत: छपरौली के एक गांव में मजदूर की ईटों से पीट-पीट कर हत्या PSA के तहत हिरासत में लिए गए जम्मू-कश्मीर के पूर्व CM फारुक अब्दुल्ला आर्थिक तंगी से गुजर रहे पद्मश्री से सम्मानित 92 साल के संगीतकार वनराज भाटिया आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व स्पीकर के.शिव प्रसाद राव ने फांसी लगाकर की आत्म्यहत्या सांसे हो रही कम पेड़ लगाए हम... जरूरत पड़ी तो UP में भी लागू करेंगे NRC: योगी आदित्यनाथ 60 साल का हुआ दूरदर्शन भारत में 2.55 करोड़ बच्चे कुपोषण के चलते बौनेपन का शिकार राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा का शपथ ग्रहण समारोह हुआ संपन्न जम्मू-कश्मीर की हालात पर बोले रंजन गोगोई - जरूरत पड़ी तो खुद जाऊंगा कश्मीर तेजी से नशे के दलदल में फंस रहे भारत के दो बड़े शहर विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद अब लगभग खत्म सऊदी अरब में कच्चे तेल की रिफ़ाइनरी पर ड्रोन हमले का दिखा असर एक साथ दोनों हाथ से लिखती है रायपुर की यह लड़की

अब महिला के नाइटी पहने का समय भी फिक्स

Deepak Chauhan 21-05-2019 16:20:03



पहले जीन्स

फिर स्कर्ट

अब नाइटी

कपडे पहनना और अपने हिसाब से कपड़ों का चुनाव कर उन्हें अपने शरीर पर डालना, ये अधिकार हर महिला के लिए उतना ही जरुरी है जितना की एक मर्द के लिए। खैर कई बार देखा गया है, की लोग समय अनुसार अपने कपड़ो का चयन करते है। मतलब अगर किसी पार्टी में जाना हो तो अलग सूंदर दिखने वाले कपडे पहनना पसंद करते है साथ ही अगर किसी की मईयत में जाना हो तो कुछ खाश न दिखने वाले कपडे भी पहन के चले जाते है। आज कल तो व्यक्ति के खेलने के कपडे अलग घूमने के अलग यहाँ तक की रात को सोने के कपडे भी अलग होने लग गए है। इन कपडे को समय अनुसार महिला और पुरुष दोनों ही चुनाव करते है।  परन्तु एक बार फिर से महिलाओं के कपड़ों पर चर्चा सिविल सोसाइटी के कुछ ज्ञानियों के पसंदीदा कामों में से एक है. जीन्स, स्कर्ट के बाद अब चर्चा का विषय बनी है नाइटी. मम्मी लोगों का सबसे आरामदायक परिधान। 

आंध्र प्रदेश के गोदावरी ज़िले के थोकालापल्ली गांव में एक अजीब सा क़ानून बनाया गया है. क़ानून के तहत सूरज ढलने से पहले महिलाएं नाइटी (या इस जैसे परिधान) पहनकर गांव में नहीं निकल सकती। 

गांव के बड़े-बुढ़ों ने क़ानून बनाया है कि सुबह के 6 बजे से शाम के 7 बजे तक महिलाएं नाइटी पहनकर नहीं निकल सकती. जिस महिला ने ये क़ानून तोड़ा, उसे गांव की विकास कमिटी को 2000 रुपए जुर्माना देना होगा. इसके साथ ऐसा करने वाली महिला के बारे में जानकारी देने वाले को 1000 रुपए का ईनाम भी दिया जाएगा। 

HT के मुताबिक, ये नियम लगभग 7 महीने पहले लागू किया गया था. निदामार्रु ब्लॉक थाना के सब-इंस्पेक्टर एम.विजय कुमार को इस नियम के बारे में एक ग़ुमनाम ख़त से पता चला। 

सब-इंसपेक्टर ने जांच करवाई, जिसमें पता चला कि गांव कमिटी को पुरुषों ने एक चिट्ठी द्वारा बताया कि नाइटी में घूमती महिलाओं को देखकर वे असहज महसूस करते हैं. कमिटी ने मीटिंग बुलाई जिसमें कुछ महिला संगठन भी शामिल थे. सबकी सहमति से ही ये क़ानून बनाया गया। 

गांव कमिटी के सदस्या भाले सीतारामुडू ने पुलिस को बताया कि ये नियम Women Self-Help Group ने ही बनाया है और पुरुषों का इसमें कोई हाथ नहीं है. उन्होंने ये भी बताया कि अभी तक किसी भी महिला पर जुर्माना नहीं लगाया गया है। 

आखिर क्या वजह है की पुरुषों को महिलाओं के हर प्रकार कपड़ों को लेकर धीरे-धीरे दिक्कते होने लगी है। क्या हम ये माने की आजकल के मर्दो को महिलाओं से ज्यादा उनके कपडे दिखाई देने लगे हैं, अगर है तो जनाब हमारी मानो और दिन में रोज तीन बार अपनी आँखों में गुलाब जल डाला करों। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :