चमकी बुखार पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार, बिहार और केंद्र दोनों से 10 दिन में मांगा जवाब

दलित परिवार का जबरन कराया धर्म परिवर्तन, फिर दी मारने की धमकी BIGG BOSS 14-शिवसेना और MNS ने शो की शूटिंग रोकने की दी धमकी आइए जानते है पूरा मामला भाजपा MLA की प्रियंका गांधी को चिट्टी, पूछा- मुख्तार अंसारी जैसे दुर्दांत को क्यों बचा रहीं? Corona से ठीक होने के बाद 10 साल बूढ़ा हो जाता है लोगों का दिमाग बिहार में चुनाव प्रचार के बाद लौटी अमीषा पटेल बताया बहुत बुरा रहा अनुभव राहुल का पीएम पर हमला, कहा- लॉकडाउन में मजदूरों को पैदल भगाया निकिता मर्डर केस: अग्रवाल कॉलेज के बाहर छात्रों का प्रदर्शन, लव जिहाद के खिलाफ नारेबाजी सेक्सवर्कर की योगी सरकार ने नहीं ली सुध, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार Bank of Baroda-अब पैसा जमा करने और निकालने पर भी देना होगा चार्ज Bigg Boss 14-आपस में टकराए कविता और रुबीना मतदान के दिन राहुल ने महागठबंधन के लिए मांगा वोट, EC जा सकती है BJP अभिषेक बच्चन ने इंस्टाग्राम पर ‘लूडो’ से अपने किरदार की फोटो शेयर की सीतारमण ने भी माना 2020-21 में GDP रहेगी शून्य के करीब Karwachauth 2020-करवाचौथ व्रत की पूजा और कथा पढ़ने का शुभ मुहूर्त गठिया के मरीजों को दवा के साइड इफेक्ट से बचाने के लिए निकला नया तरीका ग्रेटर नोएडा में चचेरे भाई ने किया बहन से बलात्कार सोने-चांदी में आई गिरावट UP राज्यसभा चुनाव से पहले BSP को बड़ा झटका लगा ड्रग्स मामला:दीपिका की मैनेजर को NCB ने आज पूछताछ के लिए बुलाया दिल्‍ली में 1 नवंबर से नहीं खुलेंगे स्‍कूल, अगले आदेश तक बंद

चमकी बुखार पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार, बिहार और केंद्र दोनों से 10 दिन में मांगा जवाब

Deepak Chauhan 24-06-2019 12:39:32

बिहार में ‘चमकी बुखार’ का जो कहर शुरू हुआ है वह थमने का नाम नहीं ले रहा है. लगातार इससे जुड़े मामले सामने आ रहे हैं और मौतों का आंकड़ा 152 तक पहुंच गया है. बुखार की वजह से मचे हाहाकार के बीच आज इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. चमकी बुखार के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और बिहार सरकार से जवाब मांगा है. अदालत ने सरकारों से तीन मुद्दे पर हलफनामा दायर करने को कहा है जिसमें हेल्थ सर्विस, न्यूट्रिशन और हाइजिन का मामला है. अदालत की तरफ से कहा गया है कि ये मूल अधिकार हैं, जिन्हें मिलना ही चाहिए.

अदालत ने सरकारों से पूछा है कि क्या इनको लेकर कोई योजना लागू की गई है. सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि उत्तर प्रदेश में भी कुछ ऐसी ही स्थिति थी, वहां पर सुधार कैसे आया. अदालत ने इतना कहते ही दोनों सरकारों को दस दिन का समय दिया है.

सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका में मांग की गई थी कि अदालत की तरफ से बिहार सरकार को मेडिकल सुविधा बढ़ाने के आदेश दिए जाएं. साथ ही केंद्र सरकार को इस बारे में एक्शन लेने को कहा जाए.

बीते बुधवार को अदालत ने इस मामले पर सुनवाई को लेकर हामी भरी थी. मनोहर प्रताप और सनप्रीत सिंह अजमानी की ओर से दाखिल याचिका में दावा किया गया है कि सरकारी सिस्टम इस बुखार का सामना करने में पूरी तरह से फेल रहा है.

गौरतलब है कि बिहार में बीते एक महीने से इसको लेकर हाहाकार मचा हुआ है. इसका सबसे ज्यादा असर मुजफ्फरपुर में दिखा है. जहां अकेले श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में अब तक 128 बच्चों की मौत हो चुकी है. एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) को दिमागी बुखार और चमकी बुखार के नाम से भी जाना जाता है.

जिस वक्त ये बुखार का मामला सामने आया, तभी मुजफ्फरपुर में अस्पताल के पीछे कुछ मानव कंकाल पाए गए थे. कुछ लोगों का दावा था कि अस्पताल के पिछले हिस्से में मानव कंकाल-हड्डियां देखने को मिली हैं, जिसके बाद इलाके में हड़कंप मचा है. मामला सामने आने के बाद इसकी जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार इस मुद्दे पर चुप्पी साधे हुए हैं. मीडिया की ओर से जब भी उनसे सवाल दागा गया तो उन्होंने चुप्पी ही साधी उल्टा कुछ मौकों पर वह मीडिया पर ही बरसते हुए दिखे.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :