त्योहारों से पहले आलू- प्याज की कीमतें होंगी कम

पंजाब बॉर्डर पर किसानों का हल्ला बोल राजस्थान के 5 जिलों में कल से शीतलहर का अलर्ट पुदुचेरी में समुद्र तट से टकराया चक्रवाती तूफान निवार देशभर में 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने बुलाई हड़ताल जानिए 26 नवम्बर का राशिफल देश में 24 घंटे में एक्टिव केस में 7.5 हजार की बढ़ोतरी अंबाला बॉर्डर पर बवाल, किसानों पर हुआ लाठीचार्ज दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब हैदराबाद चुनाव : पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिरंजीव ने की मुख्यमंत्री की तारीफ स्पीकर के चुनाव में नहीं काम आया RJD का विरोध कांग्रेस के संकटमोचक अहमद पटेल का निधन IND vs AUS: वनडे सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के हेड कोच जस्टिन लैंगर का बड़ा बयान

त्योहारों से पहले आलू- प्याज की कीमतें होंगी कम

Anjali Yadav 31-10-2020 15:36:28

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,



नई दिल्ली: आलू- प्याज की लगातार बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार हरकत में आ गई है और इससे त्योहारी सीजन में महंगाई से राहत की उम्मीद है. उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि सरकार प्याज, आलू की घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठा रही है.

 

 

सहकारी एजेंसी नाफेड भी करेगी आयात

उन्होंने कहा कि निजी व्यापारी पहले ही 7,000 टन प्याज का आयात कर चुके हैं जबकि 25,000 टन दिवाली से पहले आने की उम्मीद है. गोयल ने यह बात ऐसे समय कही है जब देश के कुछ भागों में प्याज के दाम 80 रुपये किलो से ऊपर पहुंच गए हैं. वहीं, आलू की कीमत भी गुणवत्ता के आधार पर 60 रुपये किलो से ऊपर निकल गई है. मंत्री ने कहा कि सहकारी एजेंसी नाफेड भी आयात करेगी. इससे बाजार में प्याज की पर्याप्त आपूर्ति होगी.

 गोयल ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्याज, आलू और कुछ दाल के खुदरा दाम बढ़े हैं. लेकिन स्थानीय स्तर पर आपूर्ति बढ़ाने के लिए प्याज के निर्यात पर पाबंदी समेत सरकार के सक्रियता से उठाए गए कदमों के कारण पिछले कुछ दिनों से कीमतें स्थिर बनी हुई हैं. उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर प्याज का खुदरा मूल्य पिछले तीन दिनों से 65 रुपये किलो और आलू 43 रुपये किलो पर स्थिर बना हुआ है.

 



त्योहारों के दौरान मिले सस्ती दरों पर

गोयल ने कहा कि हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं लोगों को त्योहारों के दौरान ये चीजें सस्ती दरों पर मिले. सरकार ने प्याज के आयात के लिए कदम उठया है और दिसंबर तक प्याज के आयात पर धूम्र-शोधन की शर्तों में ढील दी है. उन्होंने कहा, ‘अबतक 7,000 टन प्याज निजी व्यापारियों ने आयात किए हैं, इसके अलावा 25,000 टन प्याज दिवाली से पहले आने की उम्मीद है.’

 गोयल ने कहा कि निजी व्यापारी प्याज मिस्र, अफगानिस्तान और तुर्की जैसे देशों से मंगा रहे हैं. उन्होंने कहा कि आयात के अलावा मंडियों में अगले महीने खरीफ की नई फसल की आवक शुरू होने से आपूर्ति स्थिति सुधरेगी और कीमतों पर दबाव कम होगा। सरकार ने खरीफ और खरीफ मौसम में देरी से आने वाले प्याज का उत्पादन चालू वर्ष मे 6 लाख टन कम होकर 37 लाख टन रहने का अनुमान जताया है.

 

उन्होंने कहा कि अन्य उपायों में सरकार ने प्याज के बीजों के निर्यात पर पाबंदी लगाई है और जमाखोरी रोकने के लिए व्यापारियों पर भंडार सीमा लगाए गए हैं. इसके अलावा नाफेड करीब एक लाख टन बफर स्टॉक में से खुले बाजार में प्याज की बिक्री कर रही है. अबतक उसने 36,488 टन प्याज बेचे हैं.

 



10 लाख टन आलू का किया जा रहा आयात

गोयल ने कहा कि आलू के खुदरा मूल्य पर लगाम लगाने के लिए 10 लाख टन आयात किया जा रहा है. इसमें से करीब 30,000 टन आलू भूटान से अगले कुछ दिनों में आ जाएगा. 10 लाख टन आलू के आयात के लिए सीमा शुल्क जनवरी 2021 तक कम कर 10 प्रतिशत कर दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि आलू, प्याज और अन्य जरूरी चीजें त्योहारों के दौरान सस्ती दरों पर मिले.’

 

दलहन के दाम स्थिर

दाल के बारे में गोयल ने कहा कि ज्यादातर दलहन के दाम अभी स्थिर हैं. वास्तव में पिछले चार साल के मुकाबले दाल के दाम काफी नीचे हैं. उन्होंने कहा कि हालांकि घरेलू आपूर्ति बढ़ाने के लिए सरकार ने 4 लाख टन तुअर दाल के आयात को लेकर समयसीमा दिसम्बर तक बढ़ा दी है.

 मंत्री ने कहा कि 1.5 लाख टन उड़द दाल के लिए लाइसेंस जारी किए गए हैं और मसूर पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क दिसम्बर अंत तक जारी रहेगा. सरकार ने 2 लाख टन तुअर दाल के आयात के लिए मोजाम्बिक के साथ समझौता ज्ञापन को अगले पांच साल के लिये बढ़ाने का भी निर्णय किया है. साथ ही 2.5 लाख टन उड़द दाल के आयात के लिये म्यांमा से पांच साल के लिए एमओयू किया है.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :