पंजाब में पराली जलाने के मामले में केस दर्ज करने पर भड़के किसान

मोदी सरकार को वापस लेने होंगे काले कानून- राहुल गांधी जंहा माराडोना को मिली शोहरत, वहीं लगी थी ड्रग्‍स की लत नीतीश कुमार ने किया तेजस्वी यादव पर पलटवार कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताई जानें चुकंदर खाने के 10 फायदे 'दिल्ली चलो' मार्च-किसानों को मिली दिल्ली में घुसने की इजाजत अगली सुनवाई 11 दिसंबर को होगी जेल से बाहर आने के लिए लालू को अभी और करना होगा इंतजार ममता को लगा बड़ा झटका-शुभेंदु अधिकारी ने परिवहन मंत्री के पद से दिया इस्तीफा Corona Update- जापान और कंबोडिया की लैब के फ्रीजर में पड़े मिले चमगादड़ों में मिले कोरोना के वायरस NCR के शहरों से दिल्ली में आज भी प्रवेश नहीं करेगी मेट्रो लालू की जमानत को लेकर बोलीं राबड़ी देवी-न्यायालय का जो भी फैसला होगा, मंजूर होगा Indian Air Force 2020 : आवेदन की प्रक्रिया शुरू, सिर्फ कल शाम 5 बजे तक का समय UP-लड़की के शव को नोच कर खा रहे है कुत्ते की फोटो हुई वायरल इस महीने फिर बढ़े 7वीं बार पेट्रोल-डीजल के दाम 27 नवम्बर का राशिफल आइए जानते है क्यों की जाती है कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजा आज भी दिल्ली कूच पर अड़े किसान MSP से किसानों को परेशानी हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति- सीएम खट्टर BJP विधायक ललन पासवान ने लालू यादव के खिलाफ दर्ज कराई FIR जर्मनी में 20 दिसंबर तक बढ़ाया गया लॉकडाउन

पंजाब में पराली जलाने के मामले में केस दर्ज करने पर भड़के किसान

Anjali Yadav 24-10-2020 13:30:56

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,



पटियाला: सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भी पंजाब में पराली जलाने का सिलसिला थम नहीं रहा. राज्य में पराली जलाने के मामलों का आंकड़ा 10 हजार के पार पहुंच गया. 22 जुलाई तक पराली जलाने के 10,775 मामले सामने आ चुके हैं. पिछले साल यह आंकड़ा 4,085 था.



हवा की गुणवत्ता में लगातार आ रही गिरावट

पराली जलाने के बढ़ रहे मामलों से हवा की गुणवत्ता में भी लगातार गिरावट आ रही है. पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड  पहले अमृतसर, बठिंडा, जालंधर, खन्ना, लुधियाना, मंडी गोबिंदगढ़ और पटियाला में ही एक्यूआइ  की जांच करता था. इस साल पीपीसीबी ने 48 मैनुअल मशीनें स्थापित की हैं जिनमें से 24 गांवों में हवा की गुणवत्ता जांचने के लिए लगाई गई हैं.

पराली जलाने के सबसे अधिक 2326 मामले तरनतारन में सामने आए हैं. अमृतसर में 1730 और फिरोजपुर में 1257 मामले सामने आए हैं. मुख्यमंत्री का गृह जिला 908 मामलों के साथ चौथे नंबर पर है. पठानकोट जिले में सबसे कम पांच मामले पराली जलाने के सामने आए हैं.



गांवों में खराब हुई हवा की गुणवत्ता

पीपीसीबी की ओर से स्थापित मैनुअल मशीनों के आंकड़ों के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में भी हवा की गुणवत्ता मध्यम से खराब श्रेणी में पहुंच गई है.



मैनुअल मशीनों से प्राप्त एक्यूआइ का आंकड़ा

जिला                           एक्यूआइ

गुरु की ढाब (फरीदकोट)  118

खरौड़ी (फतेहगढ़ साहिब) 110

पीर मोहम्मद (फाजिल्का) 118

फतेहपुर (पटियाला)         115

किला भरियां (संगरूर)      112

नौधारानी (संगरूर)          122

चंगल (संगरूर)               117

असपल खुर्द (बरनाला)    119



केस दर्ज होने पर किसान भड़के

बस्सी पठाना में पराली जलाने के 16 केस दर्ज किए जाने के बाद किसान भड़क उठे हैं. किसानों ने शुक्रवार को फतेहगढ़ साहिब रेलवे स्टेशन के पास सरेआम पराली जलाकर एसडीएम को चुनौती दी है. भारतीय किसान यूनियन (सिद्धूपुर) के महासचिव सुरिंदर सिंह लुहारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए 2500 रुपये प्रति एकड़ मुआवजा देने के आदेश दिए हैं, लेकिन सरकार ने आज तक किसानों को मुआवजा नहीं दिया. बिना मुआवजा दिए केस दर्ज करना गलत है. एसडीएम के खिलाफ अदालत की अवमानना की याचिका दायर करेंगे. वहीं, बस्सी पठाना के एसडीएम जसप्रीत सिंह का कहना है कि सरकार के निर्देश पर टीम ने 16 चालान किए हैं. कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :