किसान को MSP से नीचे अनाज बेचने पर मजबूर किया तो 3 साल जेल

Truecaller जैसा ऐप लॉन्च कर सकती है गूगल राहुल गांधी ने कोरोना वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी से पूछे सवाल रोशनी जमीन घोटाला में कांग्रेस-पीडीपी समेत NC नेता शामिल सोने की कीमतों में आया उछाल, चांदी में गिरावट दिसंबर से फिर पड़ेगा आपकी जेब पर असर बीमारियों में बैंगन खाने से करें परहेज अहमदाबाद में कर्फ्यू हटते ही आम दिनों की तरह हलचल हुई शुरू राहुल पर निशाना साधने वाले कांग्रेसी पहले आईना देखें- अधीर रंजन कोरोना काल के साथ साथ नहीं मिल रही है महंगाई में राहत ड्रग्स केस: कॉमेडियन भारती सिंह और पति हर्ष को मिली जमानत हिमाचल से भी ठंडा राजस्थान का माउंट आबू Big Boss14-घर से बेघर हुए जान ने शो के कंटेस्टेंट्स की खोली पोल मेट्रो में मास्क नहीं लगाने पर 250 रुपये देना होगा जुर्माना भारत में बन रही ऑक्सफोर्ड की कोवीशील्ड 90% तक असरदार राज्यसभा चुनाव के लिए BJP के सामने पासवान की जगह कौन Drugs case: भारती और उनके पति हर्ष को मिली मुंबई कोर्ट से जमानत ‘इंडियाज बेस्ट डांसर’ के विजेता बने अजय सिंह यूपी में शादी समारोहों में 100 लोग ही हो सकेंगे शामिल अली संग नए अपार्टमेंट में शिफ्ट हुई रिचा चड्ढा धवन के साथ दूसरा ओपनर के लिए मयंक और शुभमन रेस में

किसान को MSP से नीचे अनाज बेचने पर मजबूर किया तो 3 साल जेल

Anjali Yadav 20-10-2020 13:01:05

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,



चंडीगढ़: कृषि बिल 2020 आए हुए लगभग एक महीने बीत चुका हैं. लेकिन अभी भी केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हो रहा है. वहीं इस बीच मंगलवार को पंजाब विधानसभा में इन कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पेश कर दिया गया है. पंजाब ऐसा करने वाला पहला राज्य बना है. मंगलवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया.



MSP से नीचे देने पर किया मजबूर, तो होगी जेल 

प्रस्ताव में इस बात को शामिल किया गया है कि अगर किसान को MSP से नीचे फसल देने पर मजबूर किया जाता है, तो ऐसा करने वाले को तीन साल तक की जेल हो सकती है. साथ ही अगर किसी कंपनी या व्यक्ति द्वारा किसानों पर जमीन, फसल को लेकर दबाव बनाया जाता है तो भी जुर्माना और जेल का प्रस्ताव लाया गया है.



तीन कृषि कानूनों की आलोचना

इस प्रस्ताव में केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों की आलोचना की गई है. यहां प्रस्ताव पेश करने के बाद सीएम कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि तीन कृषि कानूनों के अलावा इलेक्ट्रिसिटी बिल में भी जो बदलाव किए गए हैं, वो भी किसान और मजदूरों के खिलाफ हैं. इससे सिर्फ पंजाब ही नहीं, बल्कि हरियाणा और वेस्ट यूपी पर भी असर पड़ेगा.

विधानसभा में केंद्र के कानूनों के खिलाफ तीन नए बिल पेश किए गए, जो केंद्र द्वारा लाए कानूनों के बिल्कुल अलग हैं और एमएसपी को जरूरी करते हैं. पंजाब सीएम ने रेलवे ट्रैक पर बैठे किसानों से अपील की है कि अब धरना खत्म कर दें और काम पर लौटें, इन कानूनों के खिलाफ हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे.

इस प्रस्ताव में केंद्र सरकार से अपील की गई है कि ताजा अध्यादेश लाया जाए, जिसमें MSP को शामिल किया जाए. इसके अलावा सरकारी एजेंसियों की प्रक्रिया को मजबूत किया जाए. कैप्टन अमरिंदर ने इस दौरान सभी से अपील करते हुए कहा कि राजनीतिक दलों को इस मसले पर एकजुट होना होगा.



केंद्र के खिलाफ एकजुट होकर करनी होगी लड़ाई

पंजाब सीएम ने इस दौरान आम आदमी पार्टी के विधायकों पर भी तंज कसा और कहा कि कुछ लोग विधानसभा में रात गुजार रहे हैं, कोई ट्रैक्टर पर आ रहा है. ऐसे में इन मुद्दों से कुछ नहीं होगा, प्रदर्शन से कोई फायदा नहीं है जबतक हम केंद्र के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई ना लड़ें. सीएम ने ऐलान किया कि अब इस बिल के आधार पर राज्य सरकार आगे की कानूनी लड़ाई लड़ेगी.



कृषि का मसला राज्य सरकार के हाथ

प्रस्ताव में इस बात को शामिल किया गया है कि संविधान के अनुसार कृषि का मसला राज्य सरकार के हाथ में है, लेकिन इसपर केंद्र ने खुद ही निर्णय ले लिया जो कि नियमों का उल्लंघन है. ऐसे में अंतिम फैसला राज्यों के ऊपर होना चाहिए. आपको बता दें कि कैप्टन अमरिंदर के बाद विधानसभा सत्र में नवजोत सिंह सिद्धू ने भी अपनी बात रखी और केंद्र के कृषि कानून का विरोध किया.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :