सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं : सुप्रीम कोर्ट

MSP से किसानों को परेशानी हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति- सीएम खट्टर BJP विधायक ललन पासवान ने लालू यादव के खिलाफ दर्ज कराई FIR जर्मनी में 20 दिसंबर तक बढ़ाया गया लॉकडाउन संविधान दिवस पर PM मोदी ने देश को किया संबोधित, मुंबई हमले के शहीदों को किया नमन पंजाब बॉर्डर पर किसानों का हल्ला बोल राजस्थान के 5 जिलों में कल से शीतलहर का अलर्ट पुदुचेरी में समुद्र तट से टकराया चक्रवाती तूफान निवार देशभर में 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने बुलाई हड़ताल जानिए 26 नवम्बर का राशिफल देश में 24 घंटे में एक्टिव केस में 7.5 हजार की बढ़ोतरी अंबाला बॉर्डर पर बवाल, किसानों पर हुआ लाठीचार्ज दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब

सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं : सुप्रीम कोर्ट

VIJAY SHUKLA 25-09-2020 16:09:18

सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं  : सुप्रीम कोर्ट

सोशल काका 

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया

नई दिल्ली। ना जाने एक सरकारी कर्मचारी के अपनी सेवा के बाद कितनी जिन्दगिया उसके ऊपर निर्भर होती है।  ऐसे में उसकी सेवानिवृत्ति के बाद अगर उसको पेंशन ना मिले तो यह उसकी गरिमा को ठेंस पहुँचाना हैं।  सुप्रीम कोर्ट ने पेंशन को सभी सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार माना है। शीर्ष कोर्ट ने कहा है कि पेंशन सेवानिवृत्ति के बाद की अवधि के लिए सहायता है न कि इच्छा होने पर कोई कृपा। यह कर्मचारी के लिए सेवानिवृत्ति के बाद सम्मान बनाए रखने के अधिकार के तौर पर किया गया एक सामाजिक कल्याण उपाय है। केरल के एक सेवानिवृत्त कर्मचारी की पेंशन में विसंगति दूर करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा, पेंशन सुविधा सरकारी कर्मचारी को ढलती उम्र में सम्मान के साथ जीने के लिए है और इसलिए किसी कर्मचारी को इस लाभ से अकारण वंचित नहीं किया जा सकता।
शीर्ष अदालत ने कहा कि इसमें किसी भी नियम आदि का बहाना नहीं बनाया जाना चाहिए। कर्मचारी का पक्ष लेते हुए जस्टिस एसके कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने केरल सरकार को पेंशन लाभ का निर्धारण करने में अनुबंधित कामगार के रूप में दी गई उसकी सेवा अवधि को भी शामिल करने का आदेश दिया। कर्मचारी ने दावा किया था कि सरकारी विभाग में 32 साल तक काम करने के बावजूद उसे अंतिम 13 साल के लिए ही पात्र माना गया है। सुनवाई कर रही पीठ में जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस अनुरुद्ध बोस भी शामिल थे। पीठ ने ब्याज के साथ पेंशन का बकाया आठ सप्ताह में भुगतान करने का आदेश दिया है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :