कानपुर के गैंगस्टर ने क्यों चुना महाकाल का मंदिर

कोरोना महामारी: एक बार फिर से बाजार में दिखने लगी रौनक बिहार में चुनाव प्रचार के दौरान भीड़ को देख आयोग ने लिया संज्ञान गरीबों के हाथ में पैसा दिए बिना नहीं सुधरेगी Economy- पी चिदंबरम सलमान खान की फिल्म राधे 2021 में ईद पर होगी रिलीज NEFT, RTGS & IMPS-आइए जानते हैं इन तीनों में से कौन सा विकल्प चुनना चाहिए पैसे ट्रांसफर करने के लिए बेरोजगारी और पलायन से बड़ा कोई आतंक नहीं- तेजस्वी यादव आज का राशिफल सोने और चांदी की कीमतों में आया परिवर्तन ‘आत्मनिर्भर बिहार’ के लिए बीजेपी ने किए ये वादे कैंसर को मात देने के बाद संजय दत्त की पहली फोटो श्रमिकों को भ्रमण-तीर्थ के लिए योगी सरकार देगी आर्थिक मदद दिल्ली से लखनऊ का सफर 2 घंटे 30 मिनट में तय करेगी हाई स्पीड ट्रेन OnePlus 9 सीरीज अगले साल अप्रैल महीने में लॉन्च किया जाएगा पश्चिम बंगाल: पीएम मोदी आज करेंगे दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन Diwali 2020:दिवाली को लेकर प्रचलित हैं ये पौराणिक कथाएं आइये जानते है नवरात्रि का अष्टमी और नवमी व्रत कब है उत्तम घोषणापत्र-BJP ने किया 19 लाख लोगों को रोजगार का वादा सीमेंट की 40 बोरियों से युवती ने बनाई अपनी अनोखी ड्रेस जाने सड़क पर कैसे दौड़ाता दिखा Robot रिक्शा कलकत्ता HC ने दी पूजा पंडालों को 'नो एन्ट्री ज़ोन' बताने वाले आदेश में ढील

कानपुर के गैंगस्टर ने क्यों चुना महाकाल का मंदिर

Deepak Chauhan 09-07-2020 16:25:52

उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए सबसे बड़ा वांछित अपराधी बन चुका विकास दुबे आखिरकार कानून के शिकंजे में आ चुका है। 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी विकास की गिरफ्तारी गुरुवार को नाटकीय अंदाज में मध्य प्रदेश के उज्जैन से हुई। महाकाल मंदिर में उसने खुद अपनी पहचान बताई- मैं हूं विकास दुबे, कानपुरवाला। जिस अपराधी को पुलिस दिल्ली, हरियाणा, यूपी के बीहड़ से पड़ोसी देश नेपाल तक में तलाशती रही वह ऐसे स्थान पर मिला जहां शक की सुई नहीं गई थी। अभी कई सवाल बरकरार हैं जिनका पुलिस को जवाब देना है। आखिर वह किस तरह एक सप्ताह तक कानून के हाथ से बचता रहा और फरीदाबाद से होटल से बचकर निकलने के बाद करीब 80 महाकाल मंदिर में उसने खुद अपनी पहचान बताई- मैं हूं विकास दुबे, कानपुरवाला। जिस अपराधी को पुलिस दिल्ली, हरियाणा, यूपी के बीहड़ से पड़ोसी देश नेपाल तक में तलाशती रही वह ऐसे स्थान पर मिला जहां शक की सुई नहीं गई थी। अभी कई सवाल बरकरार हैं जिनका पुलिस को जवाब देना है। आखिर वह किस तरह एक सप्ताह तक कानून के हाथ से बचता रहा और फरीदाबाद से होटल से बचकर निकलने के बाद करीब 800 किलोमीटर दूर उज्जैन तक कैसे पहुंचा।

दुबे को दबोचे जाने के लिए मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान से लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा तक ने पुलिस की पीठ थपथपाई है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा, 'हमारी पुलिस किसी को नहीं छोड़ती। हमारे पुलिस वालों ने उसे धर दबोचा।' हालांकि, मीडिया के कैमरों में कैद फुटेज में दिख रहा है कि पुलिसकर्मी जब उसका कॉलर पकड़कर ले जा रहे हैं तो वह चिल्लाते हुए अपनी पहचान बताता है, 'मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला।' 

माना जा रहा है कि विकास दुबे को एनकाउंटर के डर से सरेंडर के लिए एक सेफ जगह की तलाश थी। पहले बुधवार शाम को खबर आई कि वह नोएडा के फिल्म सिटी में एक टीवी स्टूडियो में खुद को सरेंडर करेगा। इसके बाद फिल्म सिटी में पुलिस की तैनाती बढ़ा दी गई। इस बीच, गुरुवार सुबह भी उसके दो साथियों प्रभात और बउअन दुबे को कानपुर और इटावा में ढेर कर दिया गया। बुधवार को उसके शार्प शूटर अमर का अंत भी इसी अंदाज में हुआ था। इससे पहले शुक्रवार को उसके दो साथियों प्रकाश पांडे और अतुल दुबे को पुलिस ने मार गिराया था।

मध्य प्रदेश पुलिस इंटेलिजेंस रिपोर्ट के आधार पर विकास दुबे की गिरफ्तारी का दावा कर रही है लेकिन सूत्रों के मुताबिक विकास दुबे ने खुद मंदिर परिसर में कई लोगों को अपनी पहचान बताई। आखिर जो शख्स एक सप्ताह तक पुलिस को गज्जा देता रहा वह एक हाई सिक्यॉरिटी जोन में क्यों जाएगा? उसने अपनी पहचान छिपाने की कोशिश क्यों नहीं की? कई तरह के अपराधों में शामिल रहा शख्स क्या मंदिर में पूजा के उद्देश्य से गया था?  

[removed]

यूपी पुलिस के एक पूर्व अधिकारी ने कहा कि यह पूरी तरह से सोच-समझकर किया गया सरेंडर है। यदि वह अब भी पुलिस से छिप रहा था तो मंदिर परिसर में बिना मास्क पहने क्यों जाता? वह जानता था कि यदि इसी तरह भागता रहा और पुलिस से अब कहीं भिड़ने की कोशिश की तो जिस तरह उसके साथ मारे गए वह भी कहीं ढेर हो जाएगा। इसलिए उसने मंदिर जैसे स्थान को चुना।

पुलिसकर्मियों की हत्या सहित दुबे के खिलाफ 60 केस दर्ज हैं। वह कानपुर के बिकरू गांव में पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद 3 जुलाई से फरार था। योगी सरकार ने दुबे के सिर पर 5 लाख रुपए का ईनाम घोषित किया था। 

[removed]

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :