650 किमी का सफर स्कूटी से तय कर ड्यूटि करने पहुंची मुरैना की पुलिसकर्मी

कौन थी मंदोदरी, जिसने रावण की मौत के बाद क्यों किया था विभीषण से विवाह भारत का एकलौता ऐसा किला, जहां बिना किराया दिए दशकों से रह रहे हैं लोग फिरोजाबाद में मनचलों ने छात्रा से छेड़खानी के बाद की मारी गोली जीएम वायरस के जरिये अब खोई हुई रौशनी आ सकती है वापिस income tax return-अब 31 दिसंबर तक कर सकते है फाइल बिहार में 'फ्री वैक्सीन' के वादे पर शिवसेना का तंज, कहा बाकी राज्य Pak में हैं क्या? कांग्रेस शासित राज्यों में बढ़ी रेप की घटनाओं पर चुप्पी क्यों?- प्रकाश जावड़ेकर Maha Navami 2020: कल सुबह 07:41 तक ही है नवमी का शुभ मुहूर्त आज का राशिफल महबूबा के तिरंगा वाले बयान पर FIR दर्ज करने की मांग क्या तेजस्वी को मिल सकता है बर्थडे पर लालू यादव की रिहाई का तोफा पंजाब में पराली जलाने के मामले में केस दर्ज करने पर भड़के किसान BJP उम्मीदवार इमरती देवी का एक और बयान फिर चर्चा में अमेरिका के चुनाव में भी अब कोरोना की 'मुफ्त वैक्सीन' का दांव Paytm Mall Maha Shopping Festival:-यहाँ है सिर्फ ऑफर्स ही ऑफर्स प्याज पर केंद्र ने राज्यों के लिए खोला सुरक्षित भंडार दुर्गा विसर्जन 2020-नियमों का उल्लंघन करने वालों पर होनी चहिए सख्त कार्रवाई नवरात्रि का आठवां दिन-आज मां दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी की उपासना की जाती है बिहार: 108 आदिवासी गांव चुनाव का करेंगे बहिष्कार 4 नवंबर तक बंद रहेंगी पंजाब जाने वाली ट्रेनें

650 किमी का सफर स्कूटी से तय कर ड्यूटि करने पहुंची मुरैना की पुलिसकर्मी

Deepak Chauhan 28-05-2020 20:03:35

23 साल की आरक्षक को देशसेवा के जज्बे ने ऐसा प्रेरित किया कि वह 650 किमी का सफर स्कूटी से तय कर अपने पिता के साथ ड्यूटी करने मुरैना से महू थाने आ गई। सफर के दूसरे ही दिन महिला ने ड्यूटी शुरू कर दी।

महू के काेतवाली थाने में पदस्थ आरक्षक सुधा ताेमर मुरैना जिले के अंबाह की रहने वाली हैं। ताेमर लाॅकडाउन के पहले पांच दिन के लिए छुट्टी लेकर घर गई थीं। लाॅकडाउन लगने से वहीं फंस गई। इसी दाैरान विभाग से आदेश आया कि जाे पुलिसकर्मी जहां है, वह वहां संबंधित थाने में आमद देकर ड्यूटी ज्वाइन करें। इसके चलते ताेमर ने करीब डेढ़ माह अंबाह थाने में ड्यूटी की। इसके बाद आवाजाही की छूट मिली और वहीं एक आदेश आया कि अब संबंधित पुलिसकर्मी अपने थाने पर आमद दें। ताेमर को महू आने के लिए काेई व्यवस्थित साधन नहीं मिला, ताे पिता व बेटी दाेनाें अंबाह से स्कूटी से निकले और करीब 16 घंटे का सतत सफर कर महू आए।


पहली बार दोपहिया से इतना लंबा सफर किया : तोमर

सुधा ताेमर ने बताया कि सुबह 4 बजे मैं और पिताजी अंबाह से निकले थे। इस दाैरान थाेड़ा खाना व पानी साथ रखा था। पूरी गर्मी में सतत सफर के बाद रात आठ बजे करीब हम महू पहुंचे। इस सफर में हमारी आंखें पूरी तरह लाल हाे गई थीं, वहीं पैराें की हालत ऐसी हाे गई थी कि महू में घर पहुंचने के बाद ठीक से खड़े भी नहीं हाे पा रहे थे। हमने पहली बार दोपहिया वाहन से इतना लंबा सफर तय किया है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :