सूखी झील की खुदाई के बाद निकल आए नंदी, लोग मान रहे शिव का चमत्कार

अंग्रेजी का ऐसा लंबा शब्द, जिसे पढ़ने में लग सकता है समय भारत ही नहीं इस देश में भी है अमरनाथ जैसा शिवलिंग दलित परिवार का जबरन कराया धर्म परिवर्तन, फिर दी मारने की धमकी BIGG BOSS 14-शिवसेना और MNS ने शो की शूटिंग रोकने की दी धमकी आइए जानते है पूरा मामला भाजपा MLA की प्रियंका गांधी को चिट्टी, पूछा- मुख्तार अंसारी जैसे दुर्दांत को क्यों बचा रहीं? Corona से ठीक होने के बाद 10 साल बूढ़ा हो जाता है लोगों का दिमाग बिहार में चुनाव प्रचार के बाद लौटी अमीषा पटेल बताया बहुत बुरा रहा अनुभव राहुल का पीएम पर हमला, कहा- लॉकडाउन में मजदूरों को पैदल भगाया निकिता मर्डर केस: अग्रवाल कॉलेज के बाहर छात्रों का प्रदर्शन, लव जिहाद के खिलाफ नारेबाजी सेक्सवर्कर की योगी सरकार ने नहीं ली सुध, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार Bank of Baroda-अब पैसा जमा करने और निकालने पर भी देना होगा चार्ज Bigg Boss 14-आपस में टकराए कविता और रुबीना मतदान के दिन राहुल ने महागठबंधन के लिए मांगा वोट, EC जा सकती है BJP अभिषेक बच्चन ने इंस्टाग्राम पर ‘लूडो’ से अपने किरदार की फोटो शेयर की सीतारमण ने भी माना 2020-21 में GDP रहेगी शून्य के करीब Karwachauth 2020-करवाचौथ व्रत की पूजा और कथा पढ़ने का शुभ मुहूर्त गठिया के मरीजों को दवा के साइड इफेक्ट से बचाने के लिए निकला नया तरीका ग्रेटर नोएडा में चचेरे भाई ने किया बहन से बलात्कार सोने-चांदी में आई गिरावट UP राज्यसभा चुनाव से पहले BSP को बड़ा झटका लगा

सूखी झील की खुदाई के बाद निकल आए नंदी, लोग मान रहे शिव का चमत्कार

Khushboo Diwakar 19-07-2019 16:26:58

कर्नाटक के मैसूर में एक सूखी झील की खुदाई के बाद वहां से भगवान शिव की सवारी माने जाने वाले नंदी बैल की सैकड़ों साल पुरानी प्रतिमा मिली है जो स्थानीय लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया है. खुदाई के बाद नंदी की बेहद पुरानी प्रतिमा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं.
मैसूर से करीब 20 किलोमीटर दूर अरासिनाकेरे में जब एक सूखी हुई झील की खुदाई की गई तो लोग नंदी की विराट प्रतिमा देखकर हैरान रह गए. यहां नंदी बैल की एक नहीं बल्कि दो मूर्ति पाई गई हैं. रिपोर्ट के मुताबिक इन प्रतिमाओं को ढूंढने का काम खुद स्थानीय लोगों ने ही किया है.
सैकड़ों साल पुरानी इन प्रतिमाओं को लेकर सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि अरासिनाकेरे के बुजुर्ग झील में नंदी की मूर्ति होने की बात किया करते थे और जब झील में पानी कम होता था तो नंदी का सिर नजर आता था. बुजुर्गों की इन्हीं बातों पर भरोसा कर इस बार झील सूखने के बाद स्थानीय लोगों ने खुदाई शुरू कर दी ताकि सच्चाई का पता लगाया जा सके.
स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक नंदी की इस प्रतिमा को ढूंढने के लिए गांव वालों को तीन से चार दिनों तक लगातार खुदाई करनी पड़ी, जिसमें जेसीबी मशीन की भी मदद ली गई. अब नंदी बैल की इन मूर्तियों को बाहर निकाल लिया गया है. 
इस खबर के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पुरातत्व विभाग के अधिकारी भी मौके पर जांच करने पहुंचे. नंदी की प्राचीन प्रतिमाओं को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये 16वीं  या 17 वीं शताब्दी की हो सकती हैं. लोग इसे सावन महीने में भगवान शिव से भी जोड़कर देख रहे हैं. 









  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :