कर्नाटक संकट: कांग्रेस के 5 बागी विधायकों ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

जल्द ही मेट्रो के स्मार्ट कार्ड से बस में खरीद सकेंगे टिकट आत्मविश्वास से भरी किंग्स इलेवन पंजाब से दिल्ली कैपिटल्स को रहना होगा बचकर किसान को MSP से नीचे अनाज बेचने पर मजबूर किया तो 3 साल जेल PM मोदी आज शाम 6 बजे देश को देंगे संदेश अब मेट्रो में मास्क नहीं पहनने पर कटेगा भारी चलन नवरात्रि 2020: आइए जानते है पूजा में पान के पत्‍ते और लौंग का महत्व सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट, जानिए क्या है भाव CM अरविंद केजरीवाल ने बाढ़ प्रभावित हैदराबाद के लिए 15 करोड़ मदद की घोषणा की भारत में कोविड-19 संक्रमण की रफ्तार में आई कमी बिहार: आज पहली चुनावी रैली से गरजेंगे योगी आदित्यनाथ 5G सेवा शुरू करने के लिए मुंबई और दिल्ली को अरब रुपये से अधिक करने पड़ेंगे खर्च Special Trains : आज से शुरू हुईं 392 स्‍पेशल ट्रेन Punjab Assembly-कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में तीन बिल पेश आज का राशिफल जाने दुनिया के वो 5 देश, जहां सबसे ज्यादा है भुखमरी जाने भारत में 'प्रथम' भारतीय महिलाओं का इतिहास कलकत्ता हाई कोर्ट ने महामारी के चलते दुर्गा पूजा पंडालों में लगाया प्रतिबंध क्या दिल्ली में फिर बढ़ रहा है प्रदूषण CM शिवराज ने सोनिया गांधी को पत्र लिख कड़ी कार्रवाई की मांग नाक से दी जाने वाली वैक्सीन का देश में फाइनल ट्रायल जल्द

कर्नाटक संकट: कांग्रेस के 5 बागी विधायकों ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

Deepak Chauhan 13-07-2019 16:29:19

कर्नाटक संकट का मामला एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। कर्नाटक कांग्रेस के बागी विधायक आनंद सिंह और रोशन बेग सहित समेत पांच विधायकों ने विधानसभा स्पीकर के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका स्वीकार की है। इस याचिका में विधायकों ने स्पीकर से इस्तीफा स्वीकार करने की मांग की है। 

वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष से शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस और जेडीएस के 10 बागी विधायकों के इस्तीफे और अयोग्यता के मामले में यथास्थिति बनाई रखी जाए। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरूद्ध बोस की पीठ ने इसके साथ ही कर्नाटक के राजनीतिक संकट को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई 16 जुलाई के लिए स्थगित कर दी। 

पीठ ने अपने आदेश में विशेष रूप से इस बात का उल्लेख किया कि कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार इन बागी विधायकों के त्यागपत्र और अयोग्यता के मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लेंगे। ताकि मामले की सुनवाई के दौरान उठाए गए व्यापक मुद्दों पर न्यायालय निर्णय कर सके।

पीठ ने अपने आदेश में इस तथ्य का भी जिक्र किया है कि अध्यक्ष और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत बागी विधायकों द्वारा दायर याचिका की विचारणीयता का मुद्दा भी उठाया है। पीठ ने यह भी कहा कि बागी विधायकों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने अध्यक्ष की इस दलील का प्रतिवाद किया है कि सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों के इस्तीफे के मसले पर विचार करने से पहले उनकी अयोग्यता के मामले पर निर्णय लेना होगा। पीठ ने कहा कि इन सभी पहलुओं और हमारे समक्ष मौजूद अधूरे तथ्यों की वजह से इस मामले में आगे सुनवाई की जरूरत है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :