ओडिशा विधानसभा में विरोधी दलों ने किया शब्दों से वार, सवालों से घबराये कृषि मंत्री

बिहार में चुनाव प्रचार के दौरान भीड़ को देख आयोग ने लिया संज्ञान गरीबों के हाथ में पैसा दिए बिना नहीं सुधरेगी Economy- पी चिदंबरम सलमान खान की फिल्म राधे 2021 में ईद पर होगी रिलीज NEFT, RTGS & IMPS-आइए जानते हैं इन तीनों में से कौन सा विकल्प चुनना चाहिए पैसे ट्रांसफर करने के लिए बेरोजगारी और पलायन से बड़ा कोई आतंक नहीं- तेजस्वी यादव आज का राशिफल सोने और चांदी की कीमतों में आया परिवर्तन ‘आत्मनिर्भर बिहार’ के लिए बीजेपी ने किए ये वादे कैंसर को मात देने के बाद संजय दत्त की पहली फोटो श्रमिकों को भ्रमण-तीर्थ के लिए योगी सरकार देगी आर्थिक मदद दिल्ली से लखनऊ का सफर 2 घंटे 30 मिनट में तय करेगी हाई स्पीड ट्रेन OnePlus 9 सीरीज अगले साल अप्रैल महीने में लॉन्च किया जाएगा पश्चिम बंगाल: पीएम मोदी आज करेंगे दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन Diwali 2020:दिवाली को लेकर प्रचलित हैं ये पौराणिक कथाएं आइये जानते है नवरात्रि का अष्टमी और नवमी व्रत कब है उत्तम घोषणापत्र-BJP ने किया 19 लाख लोगों को रोजगार का वादा सीमेंट की 40 बोरियों से युवती ने बनाई अपनी अनोखी ड्रेस जाने सड़क पर कैसे दौड़ाता दिखा Robot रिक्शा कलकत्ता HC ने दी पूजा पंडालों को 'नो एन्ट्री ज़ोन' बताने वाले आदेश में ढील वरिष्‍ठ नेता एकनाथ खडसे का भाजपा से इस्‍तीफा

ओडिशा विधानसभा में विरोधी दलों ने किया शब्दों से वार, सवालों से घबराये कृषि मंत्री

Shweta Chauhan 26-06-2019 15:37:07

राज्य में कितने किसान हैं, 2010 में कितने किसान थे, 2019 में किसानों की संख्या कितनी है, विधानसभा में बुधवार को विरोधी दल के इसी प्रकार के सवाल से कृषि मंत्री हड़बड़ा गए। मंत्री ने प्रश्न का सही ढंग से जवाब नहीं दिया, इसे लेकर कुछ समय के लिए सदन में कृषि मंत्री के साथ वाकयुद्ध हुआ। 

जानकारी के मुताबिक बुधवार को विधानसभा में कार्यवाही शुरू होने के बाद विरोधी दल कांग्रेस के विधायक तारा प्रसाद वाहिनीपति ने राज्य में किसानों की संख्या कितनी है, सवाल किया ता। कृषि मंत्री अरुण साहू ने उत्तर देते हुए कहा कि 2011 जनगणना के मुताबिक राज्य में 57 लाख किसान हैं। आगामी 2021 में पुन: जनगणना की जाएगी, इसके बाद राज्य में कितने किसान हैं, वह स्पष्ट होगा।

हालांकि मंत्री के इस जवाब से विरोध दल के विधायक संतुष्ट नहीं हुए। कांग्रेस विधायक नरसिंह मिश्र ने आपत्ति जताते हुए कहा कि यदि वर्तमान में राज्य में कितने किसान हैं, वही स्पष्ट नहीं है तो फिर किस आधार पर किसानों को कालिया योजना में किसानों को शामिल किया गया है, सवाल किया। इसके साथ ही उन्होंने सरकार के इस मिशन में स्वच्छता पर भी सवाल उठाया। इसके बाद मंत्री ने कहा कि डीवीटी में शामिल 22 लाख किसान एवं ग्रीन फंड में आवेदन करने वाले 28 लाख किसान के तथ्य के आधार पर कालिया योजना में किसानों को शामिल किया गया है।

राज्य में 2019 तक कितने बटैया किसान, लघु किसान एवं नाममात्र के किसान है तथा कृषि श्रमिक हैं, उसे लेकर विरोधी दल कांग्रेस की तरफ से सरकार से जवाब मांगा गया। अन्त में मंत्री ने स्वीकार किया कि वर्तमान समय में किसान की संख्या को लेकर उनके पास कोई तथ्य नहीं है। आगामी दिनों में उस संदर्भ तथ्य संग्रह कर सदन को वह जानकारी दे देंगे।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :