स्प्लिट्सविला मे आए गौरव आज गौरी बन बिखेरते है जलवे आखिर क्यूँ चर्चा मे वाराणसी का पहला समलैंगिक विवाह ? उपहार सिनेमा के बाद एक बार फिर झुलसी दिल्ली, 43 की मौत 629 लड़कियां चीन को बेच ऑर नीचे गिरा पाकिस्तान संस्कृति विवि में तीन दिवसीय एंटरप्रिन्योरशिप प्रोग्राम में बोले अतिथि Bigg Boss 13: घर से बेघर होने के बाद देवोलीना ने खोला रश्मि का राज़ कर्नाटक में उपचुनाव के लिए वोटिंग जारी प्रियंका चोपड़ा को मानवतावादी पुरस्कार मिलने पर पति निक जोंस ने जताई ख़ुशी वर्ल्डकप : टीम इंडिया में केवल एक तेज़ गेंदबाज की जगह खाली कटरीना के वर्कआउट से उड़े सबके होश महंगे प्याज को लेके होगी अमित शाह की बैठक Baaghi 3 Shooting : टाइगर की शर्टलेस शूटिंग पर माँ का इमोशनल पोस्ट पी चिदंबरम ने किया अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर हमला कुछ इस तरह रहा पानीपत मूवी का रिव्यू एशिया के सेक्सिएस्ट मैन बने रितिक रोशन Unnao Case : पीड़ित को दिल्ली लाने की तैयारी शुरू कोसी के सैंट टेरेसा मिशनरी स्कूल का रंगारंग वार्षिक समारोह संपन्न इंडियन आइडल में अनु मलिक की जगह ली हमेशा रेशमिया ने विंदू दारा : घर बिगबॉस का नहीं रश्मि देसाई का लग रहा है BB13: शो के अंदर रश्मि की लवस्टोरी दिखी मजबूत

सुषमा स्वराज का दिखा गहरा नाता 5 राज्यों से देखते है इस नाते की झलक

सुषमा का यूपी से भी राजीतिक नाता था. सुषमा 2000 में उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य चुनी गईं थीं. उत्तर प्रदेश के विभाजन के बाद उत्तराखंड बना तो वह बतौर राज्यसभा सदस्य वहां भी सक्रिय भूमिका में रहीं. वहीं, दक्षिण की बात करें तो सुषमा ने 1999 में बेल्लारी ल

kunika katiyar 07-08-2019 10:47:17



पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 67 साल की उम्र में निधन हो गया. मंगलवार रात को हार्ट अटैक आने के बाद उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. 42 साल के सियासी करियर में सुषमा ने करीब 5 राज्यों में अपनी राजनीतिक छाप छोड़ी. अपनी हाजिर जवाबी के लिए जानी जाने वाली सुषमा ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत हरियाणा से की थी.

हरियाणा से शुरू हुआ था सियासी सफर

14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अंबाला में पैदा हुई सुषमा स्वराज ने बीए और एलएलबी की पढ़ाई की थी. सुषमा ने 25 साल की उम्र में सबसे पहला चुनाव लड़ा था. वह हरियाणा की अंबाला सीट से चुनाव जीतकर देश की सबसे युवा विधायक बनी थीं. उन्हें देवीलाल सरकार में मंत्री पद की भी शपथ दिलाई गई थी. 1977 से 1979 तक सुषमा ने सामाजिक कल्याण, श्रम और रोजगार जैसे 8 पद संभाले. 1987 में सुषमा स्वराज ने फिर चुनाव जीता और 1987 से 1990 तक आपूर्ति, खाद्य और शिक्षा मंत्रालय का जिम्मा संभाला.

यूपी-उत्तराखंड-कर्नाटक-मध्य प्रदेश

सुषमा का यूपी से भी राजीतिक नाता था. सुषमा 2000 में उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य चुनी गईं थीं. उत्तर प्रदेश के विभाजन के बाद उत्तराखंड बना तो वह बतौर राज्यसभा सदस्य वहां भी सक्रिय भूमिका में रहीं. वहीं, दक्षिण की बात करें तो सुषमा ने 1999 में बेल्लारी लोकसभा सीट पर कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था

मध्य प्रदेश से सुषमा स्वराज दो बार लोकसभा चुनाव जीती थीं. उन्होंने पहली बार विदिशा सीट से 2009 में और दूसरी बार 2014 में चुनाव जीता था. 2014 में मोदी सरकार में उन्हें विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. उन्होंने स्वास्थ्य कारणों की वजह से 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने से मना कर दिया था.

जब राज्यपाल बनने की दे दी थी बधाई...

इसी साल जून में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन के एक ट्वीट से सस्पेंस पैदा कर दिया था. इस ट्वीट में उन्होंने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को आंध्र प्रदेश का राज्यपाल बनने की बधाई दे दी थी. हालांकि बाद में उन्होंने यह ट्वीट डिलीट कर दिया था, लेकिन उनके इस ट्विट के बाद अटकलों का बाजार और गर्म हो गया था. सुषमा ने सफाई देते हुए इस दावे को खारिज कर दिया था.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :