भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जल्द बनेंगे पापा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 40 हजार से अधिक बुलेट प्रूफ जैकेट की मंजूरी दिल्ली सरकार की गरीबी पर केजरीवाल पर तंज़ कसते कुमार विश्वास दिल्ली में टूटा कोरोना रिकॉर्ड आज मिले 1295 नए मरीज, 20 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा अल्ट्राटेक सीमेंट वर्क्स डाला के सौजन्य से मजदूरों को वितरित किया गया राशन किट कोरोना चपेट में आये उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक युवक जख्मी लॉकडाउन 5.0 के अनलॉक 1 मे कुछ यूं होगी उत्तर प्रदेश में निर्देश 30 जून तक हुआ बिहार का लॉकडाउन कोरोना के चलते दिल्ली सरकार की दिख रही गरीबाई, केंद्र से कर रही मदद की गुहार अब 10 की बजाए 11 संख्या का हो सकता है आपका मोबाइल नंबर अखिलेश हो या योगी सरकार वनकर्मी और वन माफिया है सब पर भारी मन की बात: योग और आयुर्वेद, हॉलिवुड से हरिद्वार तक कोरोना संकट मे योग को गंभीरता से ले रहे लोग लॉकडाउन-5: 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे स्कूल-कॉलेज को जुलाई मे खोलने पर विचार, मेट्रो भी हो सकती है शुरू उसके बाद 1 जून से 'लॉकडाउन' अनलॉक, दूसरे राज्यों से आने जाने में नहीं होगी दिक्कत कुछ इस प्रकार का होगा लॉकडाउन 5.0 का रंग रूप लॉकडाउन 5.0 की घोषणा, कंटेनमेंट जोन को छोड़ सभी चीजों को खोलने की इजाजत नज़मा आपी ने उड़ाया चीन का मज़ाक, टिकटोक ने उड़ा दी विडियो मॉस्को जाने वाले विमान के पायलट को था कोरोना पता चलते ही आधे मे ही लौटा विमान

इन लोगो ने दिया पुराणी बसों में महिलाओं को स्वच्छ टॉयलेट

Deepak Chauhan 20-05-2019 17:56:44



टॉयलेट एक प्रेम कथा जिसमे अभिनेता अक्षय कुमार और अभिनेत्री भूमि पडनेकर दोनों ने ही एक ऐसी कहनी के ऊपर अपने अभिनय की छाप छोड़ी। ये एक ऐसा मुद्दा था जिस पर भारत के कई ऐसे पिछड़े जगहों पर आज भी शौचालय के लिए शायद लोग सपने ही देखते है। हालाँकि ये बात कहना भी गलत नहीं होगा की कई बार लोग ही अपने पुराने तरीको से खुद को इजात नहीं देना चाहते है। लेकिन हर जगह ज्यादा से ज्यादा शौचालय का सपने लेकर चली एक कम्पनी जिसने बाटे महोने में कुछ ऐसा कर दिखाया। जिससे महाराष्ट्र के पुणे में कई लोग इसका इस्तेमाल करके अपने स्वच्छ जीवन को जीने की कोशिश को पूरा कर रहे है। 

स्वच्छ भारत का सपना हर भारतीय देखता है, लेकिन उसे पलीता भी हम ही लगाते हैं. जहां चाहे वहां कूड़ा फेंक दिया और पुरूष तो कहीं भी खड़े होकर मूत्र विसर्जन करने लगते हैं. स्वच्छता के इस सपने के आड़े आती है टॉयलेट की कमी. इसी कारण देश के कई कोने गंदे और बदबूदार नज़र आते हैं. इसका हल निकाला है पुणे के दो Entrepreneurs ने। 

पुणे के Entrepreneurs उल्का सादलकर और राजीव खेर ने 'ती' नाम के टॉयलेट्स की शुरुआत की है. इसके लिए वो पुणे नगर निगम की पुरानी बसों का इस्तेमाल कर रहे हैं. इन बसों को टॉयलेट्स में बदला गया है. टॉयलेट भी ऐसे हैं कि आप देखते रह जाएं। 

इन बसों में वेस्टर्न और इंडियन दोनों स्टाइल के टॉयलेट हैं. वॉशबेसिन और बच्चों के डायपर बदलने की जगह भी. यहां महिलाओं को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए टीवी भी लगाए हैं. इतना ही नहीं, सैनेटरी नैपकीन भी सस्ते दाम पर यहां बेचे जा रहे हैं. इन्हें पुणे के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में खड़ा किया गया है। 

पुणे की आबादी घनी है और टॉयलेट्स की भी कमी है. जो टॉयलेट हैं, वो इतने गंदे होते हैं कि उनका इस्तेमाल करना मुश्किल हो जाता है. इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए पुणे के Entrepreneurs उल्का सादलकर और राजीव खेर ने इस बस-कम टॉयलेट का ईजाद किया। 

इनकी कंपनी का नाम है Saraplast, जो 2016 से ही इनका संचालन कर रही है. फ़िलहाल इनके पास ऐसे 11 टॉयलेट हैं और हज़ारों महिलाए रोज़ाना इन्हें इस्तेमाल करती हैं. इनकी सफ़लता का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि आज तक उन्हें इन टॉयलेट्स को लेकर कोई शिकायत नहीं मिली। 

मराठी में 'ती' महिलाओं के लिए इस्तेमाल किया जाता है. इनकी कंपनी ईवेंट्स के लिए भी मोबाइल टॉयलेट उपलब्ध कराती है. महिलाएं इनका इस्तेमाल 5 रुपये देकर कर सकती हैं. हालांकि, पहले वो इसे मुफ़्त में उपलब्ध कराना चाहते थे, लेकिन आर्थिक कारणों से ऐसा हो न सका. ये बसें सोलर एनर्जी से चलती हैं. हर बस में एक महिला कर्मचारी को नियुक्त किया गया है। 

देश की राजधानी दिल्ली को भी पुणे से सबक लेना चाहिए. क्योंकि सीएनजी बसों के आगमन के बाद से ही डीटीसी के कई डिपो में हज़ारों डीज़ल बसें धूल फांक रही हैं. इनका इस्तेमाल प्रशासन को इस तरह के मोबाइल टॉयलेट के रूप में करना चाहिए। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :