CAA प्रदर्शनों के चलते बोले CJI बोबडे : यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट-गारे की इमारतें नहीं INDvsAUS/ स्मिथ-विलियमसन के वीडियो देख की मिडिल ऑर्डर में खेलने की तैयारी: राहुल के एल राहुल ने राहुल द्रविड़ जैसे महान खिलाड़ी के साथ तुलना पर कही ये बात निर्भया गैंगरेप केस: दोषी पवन अपराध के समय नाबालिक थे या नहीं SC सुनवाई 20 को विद्यार्थी स्वयं खड़ा करें अपना उद्यम, बनें सफल उद्यमी MP में खुद की सरकार के खिलाफ के विधायक धरने पर बैठे रोहित शर्मा की इंजरी पर बोले कप्तान कोहली वीर सावरकर को लेकर बयानबाजियों के लिए बोले राऊत : अंडमान जेल भेज दो, तब उनके बलिदान का एहसास होगा ज्ञान ज्योति शिक्षा महाविद्यालय ने स्वामी विवेकानन्द की 157वी जयन्ती मनाई मैं राहुल को चुनौती देता हूँ कि CAA पर 10 लाइनें बोलके दिखाये : जे पी नड़ड़ा मध्य प्रदेश: पुलिस ने लिखवाया निबंध,बिना हेलमेट और सीट बेल्ट के पकड़े गए कानपुर से गिफ़्तार किया गया 1993 ब्लास्ट का दोषी कुख्यात आतंकी जलीस अंसारी निर्भया गैंगरेप केस: सभी दोषियों के खिला जारी हुआ नया डैथ वारंट 1 फरवरी को होगी फांसी दिल्ली विधानसभा के लिए 57 वाली भाजपा की पहली लिस्ट जारी चुनाव लड़ने से पहली गिरा आप का पहला विकेट, फर्जी डिग्री मामले मे जितेंद्र सिंह तोमर का निर्वाचन रद्द नई दिल्ली सीट से केजरीवाल के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ेंगी निर्भया की माँ आशा देवी CAA के विरोध मे RTI डाल मांगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारतीय नागरिक होने का मांगा सबूत सीसोदिया पैदल ही पहुचे नामांकन भरने, गाड़ी नहीं है साथ ही आमदनी भी घटी दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले कॉंग्रेस की एक नई घोषणा दिल्ली में केजरीवाल तो जंगपुरा में मारवाह के नारे ने बिगाड़ी चुनावी तस्वीर , भाजपा ने अब  खोला पत्ता पर कांग्रेस का भरोसा मारवाह पर ही माना जा रहा तय 

यूएन रिपोर्ट: 9 साल में 16 फीसदी तक गिरा HIV के मामले

Khushboo Diwakar 18-07-2019 11:40:08



  • 'यूएन एड्स’ संस्था ने 2010 से 2018 तक के आंकड़े जारी किए, दक्षिण अफ्रीका में मौत के आंकड़ों में सबसे ज्यादा गिरावट
  • रिपोर्ट के मुताबिक, गिरावट के बावजूद अब भी दक्षिण अफ्रीका सबसे ज्यादा एड्स प्रभावित देश
  • दुनियाभर में पिछले साल एचआईवी के 17 लाख नए मामले बढ़े लेकिन इससे होने वाली मौतों की संख्या में 2010 से अब तक 16 फीसदी की गिरावट आई है। मंगलवार को जारी संयुक्त राष्ट्र की हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, मौतों की संख्या में सबसे ज्यादा कमी साउथ अफ्रीका में आई है। पिछले 9 सालों में अब तक यहां 40 फीसदी तक संक्रमण और मौतें रोकने में सफलता मिली है।

    सबसे ज्यादा नए मामले यूरोप और एशिया में

    1. 2018 के मुकाबले 33 फीसदी मौतें घटी

      रिपोर्ट के मुताबिक, एड्स से होने वाली मौतों का आंकड़ा गिर रहा है क्योंकि अब इलाज मुहैया कराने की जद्दोजहद की जा रही है। एचआईवी और टीबी के मामलों को रोकने की कोशिश जारी है। ‘यूएन एड्स’ संस्था के मुताबिक एचआईवी के कारण होने वाली मौतों की संख्या घटकर पिछले साल 7,70,000 हो गई, जो साल 2010 के मुकाबले तकरीबन 33 फीसदी घटी है।

    2. रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका अभी भी सर्वाधिक एचआईवी प्रभावित क्षेत्र हैं। सबसे ज्यादा चिंता करने वाली बात पूर्वी यूरोप और एशिया के लिए है, यहां एड्स के नए मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। सेंट्रल एशिया में 29 फीसदी और मध्य एशिया में 10 फीसदी नए मामले सामने आए हैं। वहीं, दक्षिणी अफ्रीका में 10 फीसदी और लेटिन अमेरिका में यह आंकड़ा 7 फीसदी है।

    3. ‘यूएन एड्स’ की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल दुनियाभर में करीब 3.79 करोड़ लोग एचआईवी से संक्रमित हैं। इनमें से 2.33 करोड़ लोगों को ही ‘एंटी रेट्रोवाइरल’ थेरेपी मिल पा रही है। 2018 में 95 फीसदी नए मामलों का कारण ड्रग इंजेक्शन, समलैंगिक पुरुष, ट्रांसजेंडर, सेक्स वर्कर और कैदियों को बताया गया है। एचआईवी इंफेक्शन के ऐसे नए मामले ज्यादातर पूर्वी यूरोप, सेंट्रल-मध्य एशिया और नॉर्थ अफ्रीका में देखे गए हैं। दुनियाभर के आधे से अधिक देशों में 50 फीसदी आबादी इसकी रोकथाम के लिए प्रोटेक्शन का इस्तेमाल कर रही है।

    4. 1990 के दशक के मध्य में एड्स ने भयंकर महामारी का रूप ले लिया था। तब से इस रोग की रोकथाम के लिए संयुक्त राष्ट्र समेत दुनिया की तमाम एजेंसियों ने युद्ध स्तर पर प्रयास शुरू किए। हालिया रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि साल 2017 में इस रोग से आठ लाख लोग मारे गए थे जो पिछले साल घटकर सात लाख सत्तर हजार हो गए।

    5. एड्स खत्म करने के लिए राजनैतिक नेतृत्व की जरूरत

      ‘यूएन एड्स’ संस्था के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर गुनीला कार्लसन का कहना है, एड्स को खत्म करने के लिए हमे राजनैतिक नेतृत्व की जरूरत है। इंसानों पर फोकस करने की जरूरत है न कि बीमारी पर। एक व्यवस्थित योजना बनाकर पिछड़े लोगों को आगे लाने की जरूरत है। एचआईवी से प्रभावित लोगों तक पहुंचने के लिए मानवाधिकार-आधारित तरीका अपनाएं।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :