सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का यह फार्मूला 3000% तक बड़े JNU हास्टल चार्ज पर मचा बड़ा बवाल 3दिन में आयुष्मान खुराना की बाला ने 43.95 कमाई की अनुष्का , विराट की भूटान यात्रा में सामने आये नए दोस्त अजय देवगन की 100वी फिल्म पर शाहरुख के ये कमेंट नटराज मुद्रा में शॉट लगाते रणवीर सिंह का जबरदस्त फोटो शेयर हुआ वायरल शिवसेना के साथ खड़ी होकर कांग्रेस का इंतज़ार करती एनसीपी शिवसेना ने तोड़ा BJP से नाता JNU के छात्रों ने किया विरोध रखी अपनी मांग दीपक चाहर की हैट्रिक से मिली भारत को जीतने में मदद ईरान में मिला आयल का कुआ जानिए क्या होगा फायदा ? लाल सिंह चड्डा फिल्म में कुछ इस लुक में दिखे आमिर खान और करीना कपूर इराक : सरकार के विरोध प्रदर्शन में 300 से ज्यादा लोगों की मौत, 1200 घायल दो दिन में ही 'बाला' बजट निकलने में हुई कामयाब छह साल बाद बड़े पर्दे पर दिखेंगी पद्मिनी कोल्हापुरी नागपुर में होगा भारत और बांग्लादेश की टी20 सीरीज का फैसला फ़र्ज़ी डिग्री का एक और केस आया सामने-पिता पुत्र दोनों हिरासत में पुलिस के बाद अब जज के पीटने की पारी अगर दिल्ली की जहरीली हवा से बचने के लिए खरीद रहे हैं मास्क तो ये ध्यान रखे दोस्ताना 2 की शूटिंग हुई शुरू - शूटिंग शुरू होने से पहले कार्तिक ने लिया कारन जोहर का आशीर्वाद

यौन उत्पीड़न की घटनाओं को देखते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 1023 फास्ट ट्रैक कोर्ट खोलने की दी मंज़ूरी

Shweta Chauhan 12-07-2019 14:41:45



यौन उत्पीड़न के मामलों की जल्द सुनवाई के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 1023 फास्ट ट्रैक कोर्ट खोलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। देश के अलग-अलग राज्यों में यह विशेष अदालतें अगले साल तक काम करना शुरू कर देंगी। इनमें महिला के यौन उत्पीड़न और बाल अपराधों से जुड़े पॉक्सो एक्ट के मामलों की सुनवाई होगी। फिलहाल, देश में 664 फास्ट ट्रैक कोर्ट काम कर रही हैं।

मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को बताया कि विशेष अदालतों के निर्माण पर 700 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यह रकम निर्भया कोष से मुहैया कराई जाएगी। इस बजट में 474 करोड़ रुपए केंद्र सरकार और बाकी 226 करोड़ राज्य सरकारें देंगी। हर फास्ट कोर्ट को संचालित करने में सालाना करीब 75 लाख का खर्च आएगा। इन्हें स्थापित करने की जिम्मेदारी गृह मंत्रालय के पास होगी, जबकि कानून मंत्रालय हर तिमाही में सुनवाई की प्रगति रिपोर्ट तैयार करेगा।

18 राज्यों में बनेंगी विशेष अदालतें

प्रस्ताव के मुताबिक, 18 राज्यों में पॉक्सो एक्ट के तहत फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाने हैं। इनमें महाराष्ट्र, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, मेघालय, झारखंड, आंध्रप्रदेश, बिहार, मणिपुर, गोवा, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, मिजोरम, छत्तीसगढ़, राजस्थान, उत्तराखंड, तमिलनाडु, असम और हरियाणा शामिल हैं।

पॉक्सो एक्ट, 2012 में संशोधन को मंजूरी

वित्त मंत्रालय की व्यय वित्त समिति (ईएफसी) के द्वारा नई अदालतों से जुड़े प्रस्ताव को स्वीकृति मिलना बाकी है। इससे पहले केंद्रीय कैबिनेट ने बुधवार को पॉक्सो एक्ट, 2012 में संशोधन को मंजूरी दी थी। जिसमें बाल अपराधों के दोषियों को मौत की सजा और अन्य कठोर दंड का प्रावधान किया गया है।

2016 तक देशभर में दुष्कर्म के 1 लाख 33 हजार केस लंबित थे

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर 2016 तक देशभर की अदालतों में दुष्कर्म के 1 लाख 33 हजार और पॉक्सो एक्ट के 90 हजार 205 मामलों की सुनवाई लंबित थी। जो मामले ट्रायल में आए उनमें से दुष्कर्म के 25.5% और पॉक्सो के 29.6% केस में सजा सुनाई जा सकी।


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :