शिक्षा संवाद कार्यक्रम में विद्यालयों के विकास में अहम योगदान देने वाली पांच स्कूल प्रबंधन समितियों को किया सम्मानित दौलतपुर में घूमधाम से मनाया वार्षिक पारितोषिक समारोह, विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत किये रंगारंग कार्यक्रम पुराना कांगड़ा जग सुंदरी माता मंदिर की जमीन पर एक निजी कंपनी द्वारा मोबाइल टावर निर्माण कार्य शुरू करने पर विवाद नगरकोट फेस्ट से पहले हॉट एयर बैलून बना आकर्षण का केंद्र, भारत लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में भी फिसला: शिवसेना कपिल मिश्रा के ट्विटर पर विवादित बयान पर EC ने दिया जवाब कहा ट्वीट को करें करें समाज को बेहतर बनाने में युवाओं की अहम भूमिका: एसडीएम न्यूजीलैंड से बदला लेने के सवाल पर कोहली ने दिया दिल छु लेने वाला जवाब निर्भया दोषियों की तिहाड़ मे फांसी की तैयारी शुरू, पूछी गयी आखिरी इच्छा काँग्रेस ने सोशल मीडिया को लेकर बनाई नई रणनीति, लड़कियां वोटेर्स पर देगी ध्यान सबका इलाज कर देंगे, बस JNU-जामिया में पश्चिमी यूपी को दीजिए 10% आरक्षण : संजीव बालियान ट्वीट / 8 फरवरी को दिल्ली की पर होगा भारत और पाकिस्तान का मुक़ाबला : कपिल मिश्रा उनको जहां जाना है, जा सकते हैं नीतिश ने दिल्ली में BJP-JDU गठबंधन पर दिया जवाब बयान / जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, कभी-कभी वे भटककर गलत राह चले जाते हैं: राजनाथ सिंह नीलांशी ने 6 फुट 3 इंच लंबे बालों के साथ फिर बनाया विश्व किर्तिमान अमेरिका / कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प : संसद की सलाहकार एजेंसी ओवैसी ने दी अमित शाह को चुनौती कहा दाड़ी वाले के साथ बहस करके दिखाओ टीम इंडिया मे, मैं वाली नहीं हम वाली भावना रहती है : कोच शास्त्री पत्थलगड़ी का विरोध करने वाले अगवा हुये 7 लोगों के शव बरामद कोहरे के चलते नहर मे पलटी गाड़ी तीन की मौत

पहले सूखे से परेशान थे, अब बाढ़ से जूझ रहे हैं ये राज्य

Khushboo Diwakar 17-07-2019 16:01:07



हैरत होती है प्रकृति के बदलते तेवर देख कर. अभी डेढ़ महीने पहले जिन राज्यों में सूखा था अब वहीं पर बाढ़ आई हुई है. ड्रॉट अर्ली वॉर्निंग सिस्टम (DEWS) की मानें तो 14 जुलाई तक देश का 41.41 फीसदी हिस्सा सूखाग्रस्त है. जबकि, एक महीने पहले यानी 14 जून को देश का 45.11 प्रतिशत इलाका सूखे की चपेट में था. यह सब हुआ मॉनसून के देरी से आने की वजह से. भारतीय मौसम विभाग की मानें तो 65 सालों में दूसरी बार ऐसा हुआ है कि भारत में मॉनसून आने से पहले इतना भयावह सूखा पड़ा. मार्च से मई के बीच सिर्फ 99 मिमी बारिश हुई है. यानी सामान्य से 23 फीसदी कम बारिश.

ड़ेढ-दो महीने पहले बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पुड्डूचेरी, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, झारखंड, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और ओडिशा सूखे और गर्मी से परेशान थे. यानी देश के 13 राज्यों की करीब 42 फीसदी आबादी इस प्राकृतिक आपदा से संघर्ष कर रही थी. लेकिन मौसम बदलने के साथ ही इनमें से कई राज्यों में नई मुसीबत आन पड़ी. इस मुसीबत का नाम है बाढ़.

बाढ़ से पानी-पानी हुए देश के कई राज्य

बिहार, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश में पहले सूखा पड़ा, अब बाढ़ के हालात हैं. वहीं, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी में भारी बारिश हो रही है. बिहार-असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में बाढ़ से अब तक 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. करीब 70 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ की वजह से प्रभावित हैं. उत्तर प्रदेश के कई जिलों में नदियों का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गया है. इसकी वजह से राज्य के कई इलाके बाढ़ की चपेट में आ गए हैं.

उत्तराखंड में भारी बारिश से कई जिलों में लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. राज्य में ऑरेंज अलर्ट जारी है. 15 जुलाई को भूस्खलन से गंगोत्री हाईवे बाधित रहा. चारधाम यात्रा रूट और इससे लगे इलाकों में बारिश विपदा बनकर टूट रही है. बारिश से सड़क बंद होने के साथ ही भूस्खलन, भू-धंसाव, कटाव, नदी के ऊफान जैसी घटनाएं बढ़ने लगी हैं.

सूखे का सबसे बड़ा उदाहरण बना चेन्नई, चेरापूंजी

2015 में चेन्नई में भयानक बाढ़ आई थी. लेकिन इस बार गर्मी में 1.10 करोड़ लोगों को पानी की किल्लत से जूझना पड़ा. चार में से तीन जलस्रोत सूख गए. लाखों लोगों की प्यास बुझाने के लिए पानी के टैंकर्स और ट्रेन का सहारा लेना पड़ा. दुनिया का सबसे ज्यादा गीला कहे जाना वाला इलाका चेरापूंजी में पिछले कुछ सालों से सर्दियों के मौसम में सूखा पड़ रहा है. दिल्ली और बेंगलुरु में तो अगले साल तक भूजल खत्म होने की चेतावनी दी गई है.


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :