लॉकडाउन 5 में कल से चालू होगा उत्तर प्रदेश ISI के संपर्क में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को दिल्ली पकड़ा भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जल्द बनेंगे पापा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 40 हजार से अधिक बुलेट प्रूफ जैकेट की मंजूरी दिल्ली सरकार की गरीबी पर केजरीवाल पर तंज़ कसते कुमार विश्वास दिल्ली में टूटा कोरोना रिकॉर्ड आज मिले 1295 नए मरीज, 20 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा अल्ट्राटेक सीमेंट वर्क्स डाला के सौजन्य से मजदूरों को वितरित किया गया राशन किट कोरोना चपेट में आये उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक युवक जख्मी लॉकडाउन 5.0 के अनलॉक 1 मे कुछ यूं होगी उत्तर प्रदेश में निर्देश 30 जून तक हुआ बिहार का लॉकडाउन कोरोना के चलते दिल्ली सरकार की दिख रही गरीबाई, केंद्र से कर रही मदद की गुहार अब 10 की बजाए 11 संख्या का हो सकता है आपका मोबाइल नंबर अखिलेश हो या योगी सरकार वनकर्मी और वन माफिया है सब पर भारी मन की बात: योग और आयुर्वेद, हॉलिवुड से हरिद्वार तक कोरोना संकट मे योग को गंभीरता से ले रहे लोग लॉकडाउन-5: 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे स्कूल-कॉलेज को जुलाई मे खोलने पर विचार, मेट्रो भी हो सकती है शुरू उसके बाद 1 जून से 'लॉकडाउन' अनलॉक, दूसरे राज्यों से आने जाने में नहीं होगी दिक्कत कुछ इस प्रकार का होगा लॉकडाउन 5.0 का रंग रूप लॉकडाउन 5.0 की घोषणा, कंटेनमेंट जोन को छोड़ सभी चीजों को खोलने की इजाजत

क्यों नहीं रोक पा रहा सऊदी अरब खुद पर हमला

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के ठिकानों पर ड्रोन हमले को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. ट्रंप ने कहा कि जिसने हमला किया है उसके बारे में उन्हें पता है. अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि जवाबी कार्रवाई इसकी पुष्टि के बाद की

Sakshi Dobriyal 16-09-2019 15:43:18



ट्रंप ने इतनी आक्रामक भाषा का इस्तेमाल जून में किया था जब उन्होंने ईरान पर हमले की योजना को टाल दिया था. तब ईरान ने अमरीकी ड्रोन को मार गिराया था. शनिवार को सऊदी के सबसे अहम तेल ठिकानों पर हमला हुआ जिससे वैश्विक तेल आपूर्ति में पाँच फ़ीसदी आपूर्ति बाधित हो गई है. इस हमले की ज़िम्मेदारी यमन के हूती विद्रोहियों ने ली है लेकिन इन्हें ईरान का समर्थन हासिल रहा है.

हमले के एक दिन बाद अमरीका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने ईरान को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा था कि इसके कोई सबूत नहीं हैं कि हमला यमन से हुआ है. इससे पहले ये कहा जा रहा था कि अमरीकी अमरीका में कहा जा रहा है कि सऊदी के जिन तेल ठिकानों को निशाने पर लिया गया है, उससे लगता नहीं है कि हमला यमन से हुआ है. कहा जा रहा है हमला शायद इराक़ या ईरान की तरफ़ से हुआ है. सीएनएन से अमरीकी अधिकारियों ने कहा है कि हमले में सऊदी के 19 ठिकाने प्रभावित हुए हैं और ये 10 ड्रोन से संभव नहीं है. हूती ने दावा किया था कि हमले के लिए 10 ड्रोन भेजे थे. सीएनएन से उस अधिकारी ने कहा, ''आप 10 ड्रोन से 10 ठिकानों के निशाने पर नहीं ले सकते.''

सीएनएन से अधिकारियों ने सैटेलाइट इमेज साझा किया है. इसके ज़रिये कहा जा रहा है, ''सारे ठिकाने उत्तर-पश्चिम के प्रभावित हुए हैं जो कि यमन से निशाना बनाना बहुत मुश्किल है.''

ट्रंप प्रशासन का मानना है कि ड्रोन ईरान या इराक़ से आए लेकिन इसे आधिकारिक तौर पर नहीं कहा जा रहा है. सीएनएन के सैन्य विशेषज्ञ रिटायर्ड कर्नल सेड्रिक लीगटन ने कहा, ''यह बहुत रणनीतिक हमला है. इसे इस तरह से प्लान किया गया कि रडार की पकड़ में ड्रोन नहीं आए. जिन ठिकानों को निशाने पर लिया गया, वो काफ़ी अहम हैं. यह कोई सरकार ही कर सकती है न कि विद्रोही समूह. ये ड्रोन या तो ईरान से आए या इराक़ से.''

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :