CAA प्रदर्शनों के चलते बोले CJI बोबडे : यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट-गारे की इमारतें नहीं INDvsAUS/ स्मिथ-विलियमसन के वीडियो देख की मिडिल ऑर्डर में खेलने की तैयारी: राहुल के एल राहुल ने राहुल द्रविड़ जैसे महान खिलाड़ी के साथ तुलना पर कही ये बात निर्भया गैंगरेप केस: दोषी पवन अपराध के समय नाबालिक थे या नहीं SC सुनवाई 20 को विद्यार्थी स्वयं खड़ा करें अपना उद्यम, बनें सफल उद्यमी MP में खुद की सरकार के खिलाफ के विधायक धरने पर बैठे रोहित शर्मा की इंजरी पर बोले कप्तान कोहली वीर सावरकर को लेकर बयानबाजियों के लिए बोले राऊत : अंडमान जेल भेज दो, तब उनके बलिदान का एहसास होगा ज्ञान ज्योति शिक्षा महाविद्यालय ने स्वामी विवेकानन्द की 157वी जयन्ती मनाई मैं राहुल को चुनौती देता हूँ कि CAA पर 10 लाइनें बोलके दिखाये : जे पी नड़ड़ा मध्य प्रदेश: पुलिस ने लिखवाया निबंध,बिना हेलमेट और सीट बेल्ट के पकड़े गए कानपुर से गिफ़्तार किया गया 1993 ब्लास्ट का दोषी कुख्यात आतंकी जलीस अंसारी निर्भया गैंगरेप केस: सभी दोषियों के खिला जारी हुआ नया डैथ वारंट 1 फरवरी को होगी फांसी दिल्ली विधानसभा के लिए 57 वाली भाजपा की पहली लिस्ट जारी चुनाव लड़ने से पहली गिरा आप का पहला विकेट, फर्जी डिग्री मामले मे जितेंद्र सिंह तोमर का निर्वाचन रद्द नई दिल्ली सीट से केजरीवाल के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ेंगी निर्भया की माँ आशा देवी CAA के विरोध मे RTI डाल मांगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारतीय नागरिक होने का मांगा सबूत सीसोदिया पैदल ही पहुचे नामांकन भरने, गाड़ी नहीं है साथ ही आमदनी भी घटी दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले कॉंग्रेस की एक नई घोषणा दिल्ली में केजरीवाल तो जंगपुरा में मारवाह के नारे ने बिगाड़ी चुनावी तस्वीर , भाजपा ने अब  खोला पत्ता पर कांग्रेस का भरोसा मारवाह पर ही माना जा रहा तय 

Chandrayaan-2: विक्रम लैंडर की सलामती पर ISRO का बड़ा बयान

लेटेस्ट अपडेट में इसरो ने कहा कि विक्रम लैंडर के लोकेशन का चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर द्वारा पता लगा लिया गया है, मगर अब तक उससे संपर्क नहीं साधा जा सका है। विक्रम लैंडर से कम्यूनिकेशन स्थापित करने को लेकर सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

Deepak Chauhan 10-09-2019 11:42:28



चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क स्थापित करने को लेकर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) लगातार प्रयासरत है। इसरो लगातार चंद्रयान-2 के मिशन को लेकर अपडेट उपलब्ध करा रहा है। लेटेस्ट अपडेट में इसरो ने कहा कि विक्रम लैंडर के लोकेशन का चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर द्वारा पता लगा लिया गया है, मगर अब तक उससे संपर्क नहीं साधा जा सका है। विक्रम लैंडर से कम्यूनिकेशन स्थापित करने को लेकर सभी प्रयास किए जा रहे हैं। 

बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा कि 'चंद्रयान-2 का लैंडर 'विक्रम चांद की सतह पर सलामत और साबुत अवस्था में है और यह टूटा नहीं है। हालांकि, 'हार्ड लैंडिंग की वजह से यह झुक गया है तथा इससे पुन: संपर्क स्थापित करने की हरसंभव कोशिश की जा रही है।

'विक्रम का शनिवार को 'सॉफ्ट लैंडिंग के प्रयास के अंतिम क्षणों में उस समय इसरो के नियंत्रण कक्ष से संपर्क टूट गया था जब यह चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर था। लैंडर के भीतर 'प्रज्ञान नाम का रोवर भी है। मिशन से जुड़े इसरो के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा, ''ऑर्बिटर के कैमरे से भेजी गईं तस्वीरों के मुताबिक यह तय जगह के बेहद नजदीक एक 'हार्ड लैंडिंग थी। लैंडर वहां साबुत है, उसके टुकड़े नहीं हुए हैं। वह झुकी हुई स्थिति में है।

अधिकारी ने कहा, ''हम लैंडर के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ''यहां इसरो के टेलीमेट्री, ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क (आईएसटीआरएसी) में एक टीम इस काम में जुटी है। 'चंद्रयान-2 में एक ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं। लैंडर और रोवर की मिशन अवधि एक चंद्र दिवस यानी कि धरती के 14 दिनों के बराबर है।

इसरो अध्यक्ष के. सिवन ने शनिवार को कहा था कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी लैंडर से संपर्क साधने की 14 दिन तक कोशिश करेगी। उन्होंने रविवार को लैंडर की तस्वीर मिलने के बाद यह बात एक बार फिर दोहराई। अंतरिक्ष एजेंसी के एक अधिकारी ने कहा, ''जब तक (लैंडर में) सबकुछ सही नहीं होगा, यह (दोबारा संपर्क स्थापित करना) बहुत मुश्किल है। संभावनाएं कम हैं। अगर 'सॉफ्ट लैंडिंग हुई हो और सभी प्रणालियां काम कर रही हों, तभी संपर्क स्थापित किया जा सकता है। फिलहाल उम्मीद कम है।

इसरो के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि लैंडर के फिर सक्रिय होने की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता, लेकिन कुछ सीमाएं हैं। उन्होंने भूस्थिर कक्षा में संपर्क से बाहर हुए एक अंतरिक्ष यान से फिर संपर्क बहाल कर लेने के इसरो के अनुभव को याद करते हुए कहा कि 'विक्रम के मामले में स्थिति भिन्न है। वह पहले ही चंद्रमा की सतह पर पड़ा है और उसकी दिशा फिर से नहीं बदली जा सकती।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :