भारत लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में भी फिसला: शिवसेना कपिल मिश्रा के ट्विटर पर विवादित बयान पर EC ने दिया जवाब कहा ट्वीट को करें करें समाज को बेहतर बनाने में युवाओं की अहम भूमिका: एसडीएम न्यूजीलैंड से बदला लेने के सवाल पर कोहली ने दिया दिल छु लेने वाला जवाब निर्भया दोषियों की तिहाड़ मे फांसी की तैयारी शुरू, पूछी गयी आखिरी इच्छा काँग्रेस ने सोशल मीडिया को लेकर बनाई नई रणनीति, लड़कियां वोटेर्स पर देगी ध्यान सबका इलाज कर देंगे, बस JNU-जामिया में पश्चिमी यूपी को दीजिए 10% आरक्षण : संजीव बालियान ट्वीट / 8 फरवरी को दिल्ली की पर होगा भारत और पाकिस्तान का मुक़ाबला : कपिल मिश्रा उनको जहां जाना है, जा सकते हैं नीतिश ने दिल्ली में BJP-JDU गठबंधन पर दिया जवाब बयान / जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, कभी-कभी वे भटककर गलत राह चले जाते हैं: राजनाथ सिंह नीलांशी ने 6 फुट 3 इंच लंबे बालों के साथ फिर बनाया विश्व किर्तिमान अमेरिका / कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प : संसद की सलाहकार एजेंसी ओवैसी ने दी अमित शाह को चुनौती कहा दाड़ी वाले के साथ बहस करके दिखाओ टीम इंडिया मे, मैं वाली नहीं हम वाली भावना रहती है : कोच शास्त्री पत्थलगड़ी का विरोध करने वाले अगवा हुये 7 लोगों के शव बरामद कोहरे के चलते नहर मे पलटी गाड़ी तीन की मौत केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर CAA पर रोक लगाने से SC का इंकार, अगली सुनवाई 4 सप्ताह बाद इंडिया ए और न्यूजीलैंड ए के बीच खेले मुक़ाबले मे चमके पृथ्वी-सैमसन, मैच भारत के हत्थे पीएम को खोना पड़ा बहुमत, वजह बनी ISIS के एक आतंकी की पत्नी को नार्वे वापिस लाना कोहरे का कोहराम : दिल्ली एयरपोर्ट से 5 फ्लाइट डायवर्ट, 194 ट्रेनें लेट, 77 कैंसिल

यह बदलते यूपी की तस्वीर है

Administrator 19-04-2019 18:33:40



दिलीप मंडल

नई दिल्ली .यूपी में 24 साल बाद बहनजी और नेताजी के एक साथ आने के बाद अब प्रदेश में राजनीति की तस्वीर साफ हो गई है. यह बहुत बड़ा सामाजिक समीकरण हैं, जिसमें दलित-पिछड़ों और अल्पसंख्यकों की हिस्सेदारी के बाद इसे रोक पाना किसी के लिए भी आसान नहीं होगा.बाकी जनता मालिक है लोकतंत्र में. जिसे चाहे जिता दे, जिसे चाहे हरा दे.

सपा और बसपा ने अपनी पिछली कड़वाहट भुलाई है, यह महत्वपूर्ण है. इस कड़वाहट का बुरा असर दलितों और पिछड़ों दोनों ने झेला है. सपा राज में दलितों और बसपा राज में पिछड़ों का काफी अहित हुआ है.इसके अलावा दोनों दलों को जीतने के लिए सवर्णों की शरण में जाना पड़ा था क्योंकि दोनों दलों का अपना वोट बैंक इन्हें जिताने के लिए काफी साबित नहीं हो पा रहा था.

इस वजह से दोनों दलों की राजनीति में काफी विकृतियां आ गईं थी, जिससे देश भर के आंबेडकरवादी और लोहियावादी निराश हो रहे थे.अब उनकी कई शिकायतें दूर हो सकती हैं.अब बसपा और सपा के साथ आने के बाद सवर्णों की लल्लो -चप्पो करने की दोनों की मजबूरी खत्म हो गई है.इस सभा में मायावती और अखिलेश यादव दोनों ने नरेंद्र मोदी को नकली ओबीसी कहा है. ये लोकसभा चुनाव का बड़ा मुद्दा बन सकता है.इसके अलावा इस रैली में बहनजी ने घोषणा की है कि निजी क्षेत्र की नौकरियों में भी आरक्षण लागू करेंगी,

Comments

Replied by foo-bar@example.com at 2019-04-29 05:54:30

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :