भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जल्द बनेंगे पापा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 40 हजार से अधिक बुलेट प्रूफ जैकेट की मंजूरी दिल्ली सरकार की गरीबी पर केजरीवाल पर तंज़ कसते कुमार विश्वास दिल्ली में टूटा कोरोना रिकॉर्ड आज मिले 1295 नए मरीज, 20 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा अल्ट्राटेक सीमेंट वर्क्स डाला के सौजन्य से मजदूरों को वितरित किया गया राशन किट कोरोना चपेट में आये उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक युवक जख्मी लॉकडाउन 5.0 के अनलॉक 1 मे कुछ यूं होगी उत्तर प्रदेश में निर्देश 30 जून तक हुआ बिहार का लॉकडाउन कोरोना के चलते दिल्ली सरकार की दिख रही गरीबाई, केंद्र से कर रही मदद की गुहार अब 10 की बजाए 11 संख्या का हो सकता है आपका मोबाइल नंबर अखिलेश हो या योगी सरकार वनकर्मी और वन माफिया है सब पर भारी मन की बात: योग और आयुर्वेद, हॉलिवुड से हरिद्वार तक कोरोना संकट मे योग को गंभीरता से ले रहे लोग लॉकडाउन-5: 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे स्कूल-कॉलेज को जुलाई मे खोलने पर विचार, मेट्रो भी हो सकती है शुरू उसके बाद 1 जून से 'लॉकडाउन' अनलॉक, दूसरे राज्यों से आने जाने में नहीं होगी दिक्कत कुछ इस प्रकार का होगा लॉकडाउन 5.0 का रंग रूप लॉकडाउन 5.0 की घोषणा, कंटेनमेंट जोन को छोड़ सभी चीजों को खोलने की इजाजत नज़मा आपी ने उड़ाया चीन का मज़ाक, टिकटोक ने उड़ा दी विडियो मॉस्को जाने वाले विमान के पायलट को था कोरोना पता चलते ही आधे मे ही लौटा विमान

एक छोटी सी चिड़ियां ने सिखाई ज़िन्दगी की सीख

Khushboo Diwakar 17-09-2019 12:36:07



Inspirational Story Of A Boy: यह कहानी अमेरिका के एक छोटे से बच्चे की है, जिसका नाम डिफोस्ट था। जिसने कठोर परिस्थितियों में भी अपने सपने को साकार किया वो भी एक छोटी सी चिड़ियां से प्रेरणा ले कर। तो आइए जानते हैं क्या है डिफोस्ट की कहानी।

कुछ ऐसा था डिफोस्ट का बचपन

कई साल पहले की बात है। संयुक्त राज्य अमेरिका में डिफोस्ट नाम का एक बच्चा रहता था। पढ़ने-लिखने में उसकी काफी दिलचस्पी थी। खासकर के उसे गणित के सवाल हल करना बेहद पसंद था।

एक दिन अचानक डिफोस्ट के पिता का निधन हो गया। पिता के जाने के साथ उसके सारे सपने भी चकनाचूर हो गए। परिवार की सारी ज़िम्मेदारी का बोझ नन्हे मासूम डिफोस्ट के नाज़क कंधों पर आ गई। उसके पिताजी जूते-चप्पल बनाने का काम करते थे, इसलिए उसकी मां ने उसे भी उसी काम में लगा दिया।

खेलने की उम्र में मिली ज़िन्दगी की सीख

काम करने की वजह से डिफोस्ट को स्कूल छोड़ना पड़ा। वह जूते-चप्पल बनाने के काम में लग गया। एक दिन डिफोस्ट जब अपने बनाए हुए जूतों को धूप में रखने जा रहा था तो उसकी नज़र एक चिड़िया पर गई। चिड़िया को देखते ही उसे याद आया कल दिन पहले ही मोहल्ले के एक शरारती लड़के ने उसका घोंसला उजाड़ दिया था। आज वही चिड़िया अपने घोंसले को बनाने के लिए एक-एक तिनका चुन-चुन कर इकट्टा कर रही थी और अपने घोंसले को बनाने में पूरी तन्मयता से जुटी हुई थी।

मेहनत से सब हासिल है

चिड़िया की इस मेहनत को देख कर डीफोस्ट की आंखें नम हो गईं। लेकिन चिड़िया से डिफोस्ट को नई शक्ति और बड़ी प्रेरणा मिली। उसने मन ही मन निश्चय कर लिया कि वह भी इस चिड़िया की तरह हार नहीं मानेगा और अपना सपना पूरा करने के लिए खूब मेहनत करेगा। 

डिफोस्ट ने काम के साथ पढ़ाई भी शुरू की। वह नए जूते बनाकर उन्हें धुप में सूखने के लिए रख देता और अपने इस खाली समय में वह गणित की किताबे पढ़ने में व्यस्त हो जाता और जब जूते सुख जाते, तो वह उस जूते को बनाने की बाद की प्रक्रीया में जुट जाता। इसी तरह डिफोस्ट ने मध्यिक स्तर से उच्च शिक्षा ग्रहण की और गणितज्ञ बन गया।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :