CAA प्रदर्शनों के चलते बोले CJI बोबडे : यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट-गारे की इमारतें नहीं INDvsAUS/ स्मिथ-विलियमसन के वीडियो देख की मिडिल ऑर्डर में खेलने की तैयारी: राहुल के एल राहुल ने राहुल द्रविड़ जैसे महान खिलाड़ी के साथ तुलना पर कही ये बात निर्भया गैंगरेप केस: दोषी पवन अपराध के समय नाबालिक थे या नहीं SC सुनवाई 20 को विद्यार्थी स्वयं खड़ा करें अपना उद्यम, बनें सफल उद्यमी MP में खुद की सरकार के खिलाफ के विधायक धरने पर बैठे रोहित शर्मा की इंजरी पर बोले कप्तान कोहली वीर सावरकर को लेकर बयानबाजियों के लिए बोले राऊत : अंडमान जेल भेज दो, तब उनके बलिदान का एहसास होगा ज्ञान ज्योति शिक्षा महाविद्यालय ने स्वामी विवेकानन्द की 157वी जयन्ती मनाई मैं राहुल को चुनौती देता हूँ कि CAA पर 10 लाइनें बोलके दिखाये : जे पी नड़ड़ा मध्य प्रदेश: पुलिस ने लिखवाया निबंध,बिना हेलमेट और सीट बेल्ट के पकड़े गए कानपुर से गिफ़्तार किया गया 1993 ब्लास्ट का दोषी कुख्यात आतंकी जलीस अंसारी निर्भया गैंगरेप केस: सभी दोषियों के खिला जारी हुआ नया डैथ वारंट 1 फरवरी को होगी फांसी दिल्ली विधानसभा के लिए 57 वाली भाजपा की पहली लिस्ट जारी चुनाव लड़ने से पहली गिरा आप का पहला विकेट, फर्जी डिग्री मामले मे जितेंद्र सिंह तोमर का निर्वाचन रद्द नई दिल्ली सीट से केजरीवाल के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ेंगी निर्भया की माँ आशा देवी CAA के विरोध मे RTI डाल मांगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारतीय नागरिक होने का मांगा सबूत सीसोदिया पैदल ही पहुचे नामांकन भरने, गाड़ी नहीं है साथ ही आमदनी भी घटी दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले कॉंग्रेस की एक नई घोषणा दिल्ली में केजरीवाल तो जंगपुरा में मारवाह के नारे ने बिगाड़ी चुनावी तस्वीर , भाजपा ने अब  खोला पत्ता पर कांग्रेस का भरोसा मारवाह पर ही माना जा रहा तय 

वेंकैया नायडू ने कहा- पाकिस्तान के साथ अब सिर्फ PoK के मसले पर ही होगी बातचीत..

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) ने प्रत्येक भारतीय के लिये सुरक्षा और देश की अखंडता को सर्वोपरि करार देते हुये मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ता अब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मुद्दे पर ही होगी

Jyotsana Yadav 11-09-2019 13:48:54



उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने प्रत्येक भारतीय के लिये सुरक्षा और देश की अखंडता को सर्वोपरि करार देते हुये मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ता अब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मुद्दे पर ही होगी. नायडू (M Venkaiah Naidu)ने जम्मू कश्मीर में हाल ही में निर्वाचित पंच और सरपंचों के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान कहा, ‘‘पाकिस्तान के साथ अब सिर्फ पीओके के मसले पर ही बातचीत होगी.'' उपराष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी बयान के अनुसार नायडू ने सरपंचों को संबोधित करते हुये इस बात पर जोर दिया कि प्रत्येक भारतीय के लिये सुरक्षा और राष्ट्र की एकता एवं अखंडता सर्वोपरि है. 

उन्होंने (M Venkaiah Naidu) जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 की अधिकतर धाराओं को पांच अगस्त को समाप्त किये जाने के बाद विभिन्न नागरिक सुविधाओं पर लगाये गये अस्थायी प्रतिबंधों का जिक्र करते हुये कहा कि इसका उद्देश्य उपद्रव और अशांति फैलाने की शरारती तत्वों की मंशा को नाकाम बनाना है. उन्होंने कहा कि अब इन प्रतिबंधों को धीरे-धीरे हटाया जा रहा है. इसके तहत संचार सुविधाएं भी चरणबद्ध तरीके से शुरू की जा रही हैं.

उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाने और जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख को संघ शासित क्षेत्र घोषित करने के बाद पिछले एक महीने से राज्य में टेलीफोन, मोबाइल और इंटरनेट सेवायें आंशिक रूप से बंद थीं. इसके अलावा अशांति की आशंका वाले राज्य के कुछ इलाकों में एहतियातन कर्फ्यू भी लागू करना पड़ा था.

नायडू ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद संघ शासित क्षेत्र घोषित किये गये जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख में विकास की गति जोर पकड़ेगी. नायडू ने सरपंचों के साथ बैठक की जानकारी ट्विटर पर भी साझा करते हुये कहा, ‘‘आज अपने निवास पर जम्मू कश्मीर से आये सरपंचों के शिष्टमंडल से मुलाकात की और संविधान का अनुच्छेद 370 हटने के बाद, क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों को तत्परता से जनसाधारण तक पहुंचाने के लिए निष्ठापूर्वक अथक प्रयास करने का आग्रह किया.''

उपराष्ट्रपति ने राज्य में मौजूदा हालात के बारे में कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में लगाये गये अस्थायी प्रतिबंधों का उद्देश्य शरारती तत्वों द्वारा अशांति और उपद्रव की संभावना को रोकना तथा उसके कारण जान-माल की संभावित हानि से नागरिकों को बचाना है.'' उन्होंने राज्य में पंचायती राज व्यवस्था मजबूत होने के प्रति विश्वास व्यक्त करते हुये कहा कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद, वहां भी पंचायती राज से जुड़े संविधान के 73वें और 74वें संशोधनों के प्रावधान स्वत: ही जम्मू-कश्मीर में भी लागू होंगे.


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :