मेडिकल के छात्रों के लिए खुशखबरी, PG पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए NEET परीक्षा नहीं अनिवार्य

हाथरस, बलरामपुर के बाद अब भदोही में भी दरिंदगी आई सामने IPL 2020: आज होगी क्रिस गेल की एंट्री! देखिए क्या होगी ड्रीम 11 टीम Bihar Election 2020: पिछले दो चुनावों में जिस गठबंधन में रहा जदयू SC का फैसला रद्द उड़ानों के यात्रियों को टिकट का पैसा होगा रिफंड अभिषेक बच्चन ने ड्रग्स पर ट्रोलर्स को दिया करारा जवाब सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले:एम्स की रिपोर्ट में सामने आए 3 बड़े सवाल अर्थव्यवस्था: सितंबर में निर्माण प्रक्रिया PMI साढ़े आठ साल के उच्च स्तर पर हाथरस के बाद अब बलरामपुर, आगरा, आजमगढ़, बागपत और बुलंदशहर में भी रेप IPL 2020:सैमसन के इस कैच की तारीफ की और याद किया सचिन तेंदुलकर ने अपना 1992 वर्ल्ड कप का दौर राहुल गांधी ने लगाया बड़ा आरोप कहा-पुलिस वालों ने मुझे धकेल के लाठी मारकर गिराया पीड़िता की पोस्टमॉर्टम तथा फोरेंसिक रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं-DGP प्रशांत कुमार पूर्व मंत्री राधाकृष्‍ण किशोर राजद में शामिल हुए राहुल-प्रियंका को एक्सप्रेस-वे पर गेस्ट हाउस में ले गई पुलिस Sarkari Naukri 2020:राजस्थान उच्च न्यायालय में निकली 1760 सरकारी नौकरियां रद्द उड़ानों के यात्रियों को रिफंड मिलेगा टिकट का पैसा होगा औरैया में साड़ी से लटके मिले एक महिला और तीन बच्चियों के शव बलरामपुर यौन दुष्कर्म मामले पर भड़की कृति सनन 'अनलॉक 5' में 15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमाघर आखिर महेंद्र सिंह धोनी किस मनोरंजन प्रोजेक्ट पर कर रहे हैं काम? क्या PM मोदी अपने "प्रिय मित्र" का सम्मान करने के लिए एक और "नमस्ते ट्रम्प" रैली आयोजित करेंगे-चिदंबरम

मेडिकल के छात्रों के लिए खुशखबरी, PG पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए NEET परीक्षा नहीं अनिवार्य

Shweta Chauhan 15-07-2019 15:34:39

एमडी और एमएस पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने के इच्छुक छात्रों के लिए एक बड़ी राहत पहुंचाने वाली खबर है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने प्रस्तावित विधेयक में पीजी पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए नीट (एनईईटी) प्रवेश परीक्षा को खत्म करने की सिफारिश की है। मंत्रालय का कहना है कि एमबीबीएस के फाइनल नतीजे ही पीजी पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए पर्याप्त होंगे।

सरकारी सूत्रों ने बताया कि इस संशोधन को राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) विधेयक के संशोधित मसौदे में शामिल कर लिया गया है, जिसे मंजूरी के लिए जल्द ही कैबिनेट के पास भेजा जाएगा।

सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय के निदेर्शो पर विधेयक में इन संशोधनों को शामिल किया गया है।

सूत्रों ने कहा, 'ताजा एनएमसी विधेयक में किए गए बदलाओं के मुताबिक पूरे देश में साझा परीक्षा के रूप में आयोजित नेशनल एक्जिट टेस्ट (एनईएक्सटी) के आधार पर पीजी पाठ्यक्रमों में दाखिले होंगे। इस तरह एमबीबीएस की फाइनल परीक्षा पास करने के बाद अभ्यर्थियों को पीजी पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए कोई दूसरी परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी।'

इसके साथ ही छात्रों को एमबीबीएस की परीक्षा पास करने के बाद प्रैक्टिस करने के लिए भी किसी अन्य परीक्षा में बैठने की जरूरत नहीं होगी।

परंतु, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्स के पीजी पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए छात्रों को अलग से प्रवेश परीक्षा देनी होगी। इसके अलावा डीएम/एमसीएच कोर्स में दाखिले के लिए भी नीट सुपर स्पेशियलिटी प्रवेश परीक्षा होती रहेगी।

देश के 480 मेडिकल कॉलेजों में हर साल 80,000 छात्र एमबीबीएस पाठ्यक्रमों में दाखिला लेते हैं। पीजी की 50,000 सीटें हैं, जिसके लिए हर साल लगभग 1.5 लाख छात्र प्रवेश परीक्षा देते हैं।

एनएमसी विधेयक को 2017 में संसद में पेश किया गया था, लेकिन 16वीं लोकसभा का कार्यकाल खत्म होने के साथ ही यह विधेयक भी खत्म हो गया था।

इस विधेयक को लोकसभा में पेश किए जाने पर चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोगों ने भारी विरोध किया था, जिसके बाद इसे संबंधित विभाग की संसद की स्थायी समिति के पास भेज दिया गया था। इस विधेयक के जरिए भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआइ) अधिनियम, 1956 के स्थान पर एनएमसी की स्थापना का प्रस्ताव है। इस अधिनियम में वैकल्पिक चिकित्सा की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए 'ब्रिज कोर्स' का प्रस्ताव किया गया है, जिसके करने के बाद वो एलोपैथी चिकित्सा में भी प्रैक्टिस कर सकते हैं।

संसद की समिति की सिफारिश पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने 'ब्रिज कोर्स' को विधेयक से हटा दिया था और कुछ अन्य बदलाव भी किए था. 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :