लॉकडाउन 5 में कल से चालू होगा उत्तर प्रदेश ISI के संपर्क में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को दिल्ली पकड़ा भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जल्द बनेंगे पापा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 40 हजार से अधिक बुलेट प्रूफ जैकेट की मंजूरी दिल्ली सरकार की गरीबी पर केजरीवाल पर तंज़ कसते कुमार विश्वास दिल्ली में टूटा कोरोना रिकॉर्ड आज मिले 1295 नए मरीज, 20 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा अल्ट्राटेक सीमेंट वर्क्स डाला के सौजन्य से मजदूरों को वितरित किया गया राशन किट कोरोना चपेट में आये उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक युवक जख्मी लॉकडाउन 5.0 के अनलॉक 1 मे कुछ यूं होगी उत्तर प्रदेश में निर्देश 30 जून तक हुआ बिहार का लॉकडाउन कोरोना के चलते दिल्ली सरकार की दिख रही गरीबाई, केंद्र से कर रही मदद की गुहार अब 10 की बजाए 11 संख्या का हो सकता है आपका मोबाइल नंबर अखिलेश हो या योगी सरकार वनकर्मी और वन माफिया है सब पर भारी मन की बात: योग और आयुर्वेद, हॉलिवुड से हरिद्वार तक कोरोना संकट मे योग को गंभीरता से ले रहे लोग लॉकडाउन-5: 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे स्कूल-कॉलेज को जुलाई मे खोलने पर विचार, मेट्रो भी हो सकती है शुरू उसके बाद 1 जून से 'लॉकडाउन' अनलॉक, दूसरे राज्यों से आने जाने में नहीं होगी दिक्कत कुछ इस प्रकार का होगा लॉकडाउन 5.0 का रंग रूप लॉकडाउन 5.0 की घोषणा, कंटेनमेंट जोन को छोड़ सभी चीजों को खोलने की इजाजत

संस्कृति विवि की छात्राओं ने जमकर लिया बृज की होली का आनंद

सुबह धूप खिलते ही छात्राएं अपने छात्रावासों से निकलकर विवि प्रांगण में गुलाल और रंगों से लैस होकर एकत्र होने लगीं। विश्वविद्यालय में रह रहे छात्र बड़ी जिज्ञासा से इस रंगों के त्योहार को निहार रहे थे। थोड़ी देर में वे भी रंग और गुलाल में रच-बस गए।

Deepak Chauhan 11-03-2020 19:58:22



मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के छात्रावासों में रह रहीं दूर-दराज प्रांतों की छात्राओं और विदेशी छात्रों ने कालेज कैंपस में जमकर होली खेली। ब्रज के लोक गीतों को गाकर भरपूर मनोरंजन किया। छात्राओं की होली दोपहर तक चली।

सुबह धूप खिलते ही छात्राएं अपने छात्रावासों से निकलकर विवि प्रांगण में गुलाल और रंगों से लैस होकर एकत्र होने लगीं। विश्वविद्यालय में रह रहे छात्र बड़ी जिज्ञासा से इस रंगों के त्योहार को निहार रहे थे। थोड़ी देर में वे भी रंग और गुलाल में रच-बस गए। छात्राओं के छोटे-छोटे दल बन गए थे। एक दूसरे दल के सदस्यों को रंग से पोतने और गुलाल से लाल करने की होड़ सी मच गई। रंगों से बचने वालों के लिए दौड़ लगाने को विवि का लंबा-चौड़ा प्रांगण था, लेकिन उनको घेरने वाली छात्राएं भी कम नहीं थीं और दौड़कर पकड़ ले रहीं थीं। चारों ओर मस्ती का माहौल और गुलाल का गुबार था।

छात्रावासों में रह रहीं कुछ छात्राओं के लिए तो यह सब अनौखा था। कुछ ने बृज की होली के बारे में सुना ही सुना था कभी इसका हिस्सा नहीं बनीं थीं। कुछ ऐसी थीं अपने घरों से बाहर निकली ही नहीं थीं और उनके यहां यह त्योहार इस तरह से मनाया भी नहीं जाता, उनके लिए भी यह अजूबा जैसा ही था। जिन्होंने पहले कभी नहीं मनाई थी होली, उनका उत्साह और भागीदारी सर्वाधिक उल्लास से भरपूर थी। किसी को रंग में सराबोर करने पर मचने वाला शोर विजेता का एहसास करा रहा था। छात्राओं के आनंद का मीटर चरम पर था और वे स्वच्छंद होकर लोकगीतों का टूटा-फूटा मगर पूरे जोश से गायन कर रही थीं। काफी देर तक होली का यह त्योहार विवि के प्रांगण में जीवंतता पर्याय बना।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :