लॉकडाउन 5 में कल से चालू होगा उत्तर प्रदेश ISI के संपर्क में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को दिल्ली पकड़ा भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या जल्द बनेंगे पापा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 40 हजार से अधिक बुलेट प्रूफ जैकेट की मंजूरी दिल्ली सरकार की गरीबी पर केजरीवाल पर तंज़ कसते कुमार विश्वास दिल्ली में टूटा कोरोना रिकॉर्ड आज मिले 1295 नए मरीज, 20 हजार के करीब पहुंचा आंकड़ा अल्ट्राटेक सीमेंट वर्क्स डाला के सौजन्य से मजदूरों को वितरित किया गया राशन किट कोरोना चपेट में आये उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक युवक जख्मी लॉकडाउन 5.0 के अनलॉक 1 मे कुछ यूं होगी उत्तर प्रदेश में निर्देश 30 जून तक हुआ बिहार का लॉकडाउन कोरोना के चलते दिल्ली सरकार की दिख रही गरीबाई, केंद्र से कर रही मदद की गुहार अब 10 की बजाए 11 संख्या का हो सकता है आपका मोबाइल नंबर अखिलेश हो या योगी सरकार वनकर्मी और वन माफिया है सब पर भारी मन की बात: योग और आयुर्वेद, हॉलिवुड से हरिद्वार तक कोरोना संकट मे योग को गंभीरता से ले रहे लोग लॉकडाउन-5: 8 जून से धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे स्कूल-कॉलेज को जुलाई मे खोलने पर विचार, मेट्रो भी हो सकती है शुरू उसके बाद 1 जून से 'लॉकडाउन' अनलॉक, दूसरे राज्यों से आने जाने में नहीं होगी दिक्कत कुछ इस प्रकार का होगा लॉकडाउन 5.0 का रंग रूप लॉकडाउन 5.0 की घोषणा, कंटेनमेंट जोन को छोड़ सभी चीजों को खोलने की इजाजत

घूमने के नहीं बल्कि इस वजह से लोग लेते हे किराए पर कार

Swati 11-07-2019 14:57:38



जापान में कार शेयरिंग सर्विस तेजी से लोकप्रिय हो रही है। यानी कार किराए पर लो और मनमर्जी इस्तेमाल करो। किराया भी कम है। एक घंटे का करीब 8 डॉलर। यानी 560 रुपए। अनूठी बात यह है कि ज्यादातर जापानी किराए की कार का इस्तेमाल यात्रा करने के लिए नहीं कर रहे हैं, बल्कि वे कार को एक किनारे खड़ा कर देते हैं। इसमें लगे एसी और ऑडियो-वीडियो सिस्टम का फायदा उठाते हैं। गैजेट चार्ज करते हैं। कार में ही दोस्तों के साथ मीटिंग और गपशप कर रहे हैं। मनपसंद फिल्में देख रहे हैं। कई लोग तो तीन-चार घंटों की नींद कार में ही पूरी कर लेते हैं। 

ढाई लाख से ज्यादा ग्राहकों का डेटा खंगाला 

कार में उन्हें एकांत के साथ सारी सुविधाएं काफी सस्ती कीमत पर मिल रही हैं। कार शेयरिंग सर्विस देने वाली ऑरिक्स ऑटो कॉर्प को ग्राहकों के इस अजीब रवैये के बारे में तब पता चला, जब वे रेंट की कार को ट्रैक कर रहे थे। उन्होंने जानना चाहा कि कार किराए पर जाने के बाद जब चलाई ही नहीं जाती, तो ग्राहक इतने घंटे का किराया क्यों देते हैं? कंपनी ने अपने ढाई लाख से ज्यादा ग्राहकों का डेटा खंगाला था। 

 

कैफे से अच्छी कार 

इसी तरह की सेवा देने वाली दूसरी कंपनियों से भी बात की, तो पता चला कि उनके यहां भी ग्राहकों का रवैया कुछ इसी तरह का है। एक ग्राहक ने बताया कि उसे इतनी कम कीमत पर कार मिलती है कि वह अपने दोस्तों से साइबर कैफे में मिलने के बदले कार में ही मिल लेता है। यही से वे घर पर वीडियो चैटिंग भी कर लेते हैं। एक अन्य ग्राहक ने बताया कि उसे दफ्तर से मिली कुछ घंटे की छुट्‌टी को वह भीड़भरे रेस्तरां में बिताने के बजाए कार में ही झपकी लेते हुए और खाते हुए बिताना ज्यादा पसंद करता है। 

गाना और अंग्रेजी सीखने के लिए भी किराये पर लेते हैं कार

किराए पर कार देने वाली कंपनी डोकोमो ने भी जब इसकी तहकीकात की, तो पता चला कि कुछ लोग कार का उपयोग टीवी देखने, हैलोवीन (भूत बनकर डराना) के लिए तैयार होने, गाना सीखने, अंग्रेजी में बातचीत करने के लिए करते हैं। कुछ तो मुंह बनाने-बिगाड़ने की कसरत के लिए भी इसका इस्तेमाल करते हैं।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :