इलाहबाद कोर्ट ने रद्द की अब्दुल्ला आजम की विधायकी रद्द टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने बताया टीम का असली लक्ष्य नागरिकता कानून पर बोले PM, मोदी अधिनियम पर हिंसक विरोध दुर्भाग्यपूर्ण नागरिकता कानून को लेकर चल रहे प्रदर्शन में दिल्ली में आज फिर फूंकी गयी बसें 15 फरवरी से शुरू होंगी 10वी ऑर 12वी की CBSE की बोर्ड परीक्षा नागरिकता कानून : पश्चिम बंगाल मे हिंसक प्रदर्शनों के चलते अब इंटरनेट भी बंद नागरिकता कानून को लेकर असम, त्रिपुरा, ऑर नगालेंड समेत कई पूर्वोतर राज्यों मे हिंसक प्रदर्शन अब भाजपा का सहयोगी असम गण परिषद खुद ही नागरिकता कानून के विरोध मे पहुचेगा SC बिग बॉस एक्ट कंटेस्टेंट और एक्ट्रेस पायल रोहतगी को विवादित बयान के चलते किया अरेस्ट वीडियो जारी कर कहा कि उनकी सरकार असम के लोगों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री सर्बानंद मुंबई पोलिक एको मिला सलमान के घर को बम से उड़ाना वाला ईमेल अपने पद से इस्तीफा देने वाले सवाल पर जाने जदयू के प्रशांत किशोर का जवाब मोदी हैं तो 100 रुपये किलो प्याज, 45 साल की सर्वोच्च बेरोजगारी मुमकिन है : प्रियंका गांधी हमारे देश को बांटा जा रहा है और अर्थव्यवस्था को कमजोर किया जा रहा है: राहुल गांधी जलोड़ी दर्रा में हुई इस साल की दुसरी भारी बर्फ़बारी नवलेखा की कार्यशाला आसान और अपमार्जित गूगल न्यूज सर्विस इस सर्दी मे यहाँ जाकर ले सकते है साल के अंतिम दिनो का मजा दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की शुरुआत करने वाला देश बना न्यूजीलैंड भारत के हिटमैन बने दुनिया के तीसरे सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले खिलाड़ी "महंगाई डायन खाय जात है" तीन साल के सबसे बड़े स्तर पर पहुची मुद्रास्फीति

DJ बजाया तो भुगतना पड़ेगा भारी खामियाज़ा, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई पाबंदी

Shweta Chauhan 21-08-2019 17:06:27



ध्वनि प्रदूषण को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है. डीजे बजाने की अनुमति देने पर हाई कोर्ट ने पूरी तरह पाबंदी लगा दी है. आदेश का उल्लंघन करने वालों को 5 साल की जेल और एक लाख का जुर्माना लगाया जा सकता है. अगर डीजे बजाने की शिकायत मिलती है तो उस एरिया के थाना इंचार्ज की जवाबदेही होगी.

यह आदेश न्यायमूर्ति पीकेएस बघेल और न्यायमूर्ति पंकज भाटिया की खंडपीठ ने हासिमपुर प्रयागराज निवासी सुशील चंद्र श्रीवास्तव व अन्य की याचिका पर दिया है.

कोर्ट ने कहा बच्चों, बुजुर्गों व हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों के साथ मानव स्वास्थ्य के लिए ध्वनि प्रदूषण खतरनाक है. कोर्ट ने कहा कि ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण कानून का उल्लंघन नागरिकों के मूल अधिकारों का भी उल्लंघन है. कोर्ट ने सभी डीएम को टीम बनाकर ध्वनि प्रदूषण की निगरानी करने और दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

कोर्ट ने कहा कि सभी धार्मिक त्योहारों से पहले डीएम व एसएसपी बैठक कर कानून का पालन सुनिश्चित कराएं. इसका उल्लंघन करने वालों को 5 साल तक की कैद व एक लाख रुपये तक जुर्माना लगाया जा सकता है. कोर्ट ने ये भी कहा कि ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण कानून के तहत अपराध की एफआईआर दर्ज की जाए.

याचिकाकर्ता का कहना था कि जिला प्रशासन ने हाशिमपुर रोड पर एलसीडी लगाया है जो सुबह 4 बजे से आधी रात तक बजता रहता है. मेरी मां 85 वर्ष की बुजुर्ग हैं. आसपास कई अस्पताल हैं. शोर से लोगों और मरीजों को परेशानी हो रही है. अधिकारी ध्वनि प्रदूषण रोकने में नाकाम हैं. याचिका में ध्वनि प्रदूषण कानून का सख्ती से पालन करने की मांग की गई थी.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :