श्रमिकों को भ्रमण-तीर्थ के लिए योगी सरकार देगी आर्थिक मदद

दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब हैदराबाद चुनाव : पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिरंजीव ने की मुख्यमंत्री की तारीफ स्पीकर के चुनाव में नहीं काम आया RJD का विरोध कांग्रेस के संकटमोचक अहमद पटेल का निधन IND vs AUS: वनडे सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के हेड कोच जस्टिन लैंगर का बड़ा बयान जानिए 25 नवंबर का राशिफल जब तक वैक्सीन नहीं आती, तब तक नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल-मनीष सिसोदिया लालू ने जेल से ही BJP विधायक ललन पासवान को फोन किया ट्रेड यूनियनों की हड़ताल में AIBEA भी होगा शामिल केंद्र ने 43 मोबाइल ऐप पर लगाया बैन अरविंद केजरीवाल पर भड़कीं सपना चौधरी आइए जानते है वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने वाली ट्रेनों की स्थिति

श्रमिकों को भ्रमण-तीर्थ के लिए योगी सरकार देगी आर्थिक मदद

Anjali Yadav 22-10-2020 11:40:32

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,



नई दिल्ली: कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के दौरान लागू हुए लॉकडाउन के कारण आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवारों के लिए प्रदेश की योगी सरकार की ओर से राहत की खबर है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने श्रमिकों को भ्रमण-तीर्थ करने व उनकी शिक्षा प्राप्त कर रहीं बेटियों के लिए किताबें और साथ ही जो बच्चें खेल में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं उनके लिए आर्थिक सहायता देने का फैसला लिया है. इस कार्य के लिए श्रम कल्याण परिषद की तीन योजनाएं जल्द ही लागू की जाएंगी. 



तीन योजनाओं का प्रस्तुतीकरण
दरअसल, मुख्य सचिव आरके तिवारी की अध्यक्षता में उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद की बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रम सुरेश चंद्रा ने तीन योजनाओं का प्रस्तुतीकरण किया. इस दौरान मुख्य सचिव द्वारा बताया गया कि स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत श्रमिकों को धार्मिक व ऐतिहासिक स्थलों के दर्शन के लिए 12 हजार रूपए की आर्थिक मदद दी जाएगी.



श्रमिकों की बेटियों के लिए ये है योजना

इसके साथ ही बैठक में फैसला लिया गया है कि फैक्ट्रियों में कार्यरत श्रमिकों की उच्च शिक्षा में अध्ययन कर रही बेटियों को किताबों के लिए 'महादेवी वर्मा पुस्तक क्रय आर्थिक सहायता योजना' के तहत 7500 रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी. इसके साथ ही खेल में उच्च कोटि का प्रदर्शन करने वाले श्रमिकों के बच्चों को भी सरकार अपने स्तर पर आर्थिक सहायता करेगी. इन खिलाड़ियों की एक सूची तैयारी की गई है जिसके मुताबिक जिला स्तर पर चयन होने पर 10,000 रुपए और राज्य स्तर पर 25,000 हजार रुपए की आर्थित मदद दी जाएगा.



राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चयन खिलाड़ियों के लिए
इसके अलावा राष्ट्रीय स्तर पर चयन होने वालों को 50,000 हजार रुपए और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चयन होने पर एक लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि देने का निर्णय लिया गया है. बता दें कि मुख्य सचिव ने लाभार्थियों के चयन के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में एक समिति गठित करने के निर्देश दिए हैं. इस समिति में क्षेत्रीय उप श्रमायुक्त और जिला खेल अधिकारी को बतौर सदस्य शामिल किया जाएगा.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :