सुप्रीम कोर्ट ने पलटा अपना फैसला, जगन्नाथ रथयात्रा निकालने की दी अनुमति

देश की बड़ी आबादी पर अभी भी कोरोना से संक्रमित होने का खतरा जंगलराज ने एक और युवती को मार डाला- राहुल हाथरस गैंगरेप: सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता के पिता-भाई धरने पर बैठे Bihar Election: हर घर बिजली शौचालय पहुंचाने का दावा कितना सच? क्या 1 अक्तूबर से पडेगा आपकी जेब पर असर Bihar Election 2020: LJP ने बढ़ाई NDA में रार, अब BJP से भी नहीं बन रही बात ऑनलाइन धोखाधड़ी को देखते हुए Flipkart ने दी डिजिटल सुरक्षा बिहार की वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट पर 3 नवंबर को उपचुनाव के लिए वोटिंग अक्तूबर से अप्रैल तक इन नौ दिनों में ही शादी के शुभ योग सीट बंटवारे पर घमासान के बीच जेपी नड्डा से मिले चिराग पासवान लॉकडाउन के चलते भी रहे मुकेश अंबानी मालामाल IPL: आज जीत की हैट्रिक लगा पाएगी दिल्ली? महबूबा मुफ्ती की हिरासत पर SC ने प्रशासन से मांगा जवाब Bihar Election 2020: क्या गलत कर रहे हैं चिराग पासवान? 56 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, इन 7 सीट पर नहीं होगा चुनाव Bihar Election: अब सुलझ जाएगी महागठबंधन की गांठ, घोषणा इसी सप्‍ताह रिया चक्रवर्ती और भाई शोविक की जमानत याचिका पर सुनवाई जारी बालिका वधू जैसे हिट शो देने वाले इन दिनों लगा रहे है ठेला हाथरस गैंगरेप की पीड़िता ने 15 दिन बाद तोड़ा दम किसानों से जुड़े नए कानूनों पर विपक्ष के विरोध पर बोले मोदी

सुप्रीम कोर्ट ने पलटा अपना फैसला, जगन्नाथ रथयात्रा निकालने की दी अनुमति

Deepak Chauhan 22-06-2020 17:24:12

सुप्रीम कोर्ट ने पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की अनुमति दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि स्वास्थ्य मुद्दों के साथ बिना समझौता किए और मंदिर समिति, राज्य और केंद्र सरकार के समन्वय के साथ रथ यात्रा आयोजित की जाएगी। बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 18 जून को हुई सुनवाई में पुरी में 23 जून को होने वाली रथयात्रा को कोरोना महामारी के कारण रोक लगा दी थी।  

[removed]

लेकिन कोर्ट के फैसले को लेकर कई पुनर्विचार याचिकाएं लगाई गई थी। जिसपर आज सुनवाई करते हुए कोर्ट ने अपने पुराने फैसले को पलटते हुए जगन्नाथ रथ यात्रा को कुछ शर्तों के साथ निकालने की अनुमति दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने नए आदेश में कहा कि अगर ओडिशा सरकार को लगता है कि कुछ चीजें हाथ से निकल रही हैं तो वो यात्रा को रोक सकती है।

इससे पहले 18 जून को सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा था, ''यदि हमने इस साल हमने रथ यात्रा की इजाजत दी तो भगवान जगन्नाथ हमें माफ नहीं करेंगे। महामारी के दौरान इतना बड़ा समागम नहीं हो सकता है।'' बेंच ने ओडिशा सरकार से यह भी कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए राज्य में कहीं भी यात्रा, तीर्थ या इससे जुड़े गतिविधियों की इजाजत ना दें।  

इधर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस साल पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा को लेकर अनिश्चितता के बीच सोमवार को जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष गजपति महाराजा दिव्यसिंह देव से बात की। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष समीर मोहंती ने बताया कि शाह ने वर्ष 1736 से अनवरत चल रही रथ यात्रा के साथ जुड़ी परंपरा पर चर्चा की।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, भगवान जगन्नाथ के अनन्य भक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गजपति महाराज से बात की। मोहंती ने बताया, मुझे आशा है कि उच्चतम न्यायालय इस साल पुरी में रथ यात्रा आयोजित करने की मंजूरी दे देगा। उन्होंने कहा कि शाह ने उत्सव के साथ जुड़ी धार्मिक भावनाओं को लेकर भी देव के साथ बातचीत की। पुरी की रथ यात्रा में हर साल दुनियाभर से लाखों श्रद्धालु आते हैं। 

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे ने पुरी रथ यात्रा के आयोजन को लेकर दायर याचिकाओं पर सोमवार को सुनवाई के लिए तीन न्यायाधीशों की पीठ का गठन किया है। शीर्ष अदालत ने अपने 18 जून के फैसले में कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के मद्देनजर पुरी में इस साल की ऐतिहासिक भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा पर रोक लगा दी थी। वहीं, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक रथ यात्रा की तैयारियों को लेकर आज शाम पांज बजे एक बैठक करेंगे।

[removed]

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :