केजरीवाल और सिसोदिया को करना चाहिए हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा : दिल्ली HC दिल्ली हिंसा पर बोले पीएम मोदी : जल्द से जल्द हो शांति बहाल कपिल मिश्रा का वीडियो चलवा दिल्ली हिंसा पर हाईकोर्ट के जजों ने की सुनवाई अफवाहों पर ध्यान न दें लोग, दिल्ली मौजपुर हिंसा में अब तक 11 FIR दर्ज : दिल्ली पुलिस दिल्ली हिंसा पर बोले ट्रंप : भारत का अपना मामला इससे खुद ही निपटे दिल्ली हिंसा में 130 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती, 9 की मौत दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले में जारी हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है अभी तक 15 से लोगो को लगी गोली बीजिंग की हवा में बड़ा सुधार, भारत मे सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर : रिपोर्ट स्वाइन फ्लू की चपेट में सुप्रीम कोर्ट के 6 न्यायाधीश, मास्क पहनकर कोर्ट पहुंचे जस्टिस संजीव खन्ना LIVE : केजरीवाल भी पहुंचे गृह मंत्रालय, दिल्ली हिंसा पर हाईलेवल मीटिंग शुरू CAA : कई मेट्रो स्टेशन बंद, उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा में हेड कॉन्स्टेबल की मौत पत्नी संग आगरा ताज महल पहुंचे ट्रंप कहा वाह ताज साबरमती आश्रम पहुच विजिटर बुक मे ट्रंप ने लिखा 'थैंक्यू फ्रेंड मोदी' अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत की धरती पर रखा कदम ट्रम्प का भारत दौरा / मेलानिया दिल्ली के स्कूल में बच्चों से मिलेंगी, कार्यक्रम से केजरीवाल और सिसोदिया का नाम हटा भारत अमेरिका को व्यापार मे पाहुचा रहा है बड़ी चोट : डोनाल्ड ट्रम्प वायरल वीडियो में देखें उसका दर्द, नौ साल का बच्चा क्यों मरना चाहता है यूनिवर्सिटी से 93 की उम्र में मास्टर डिग्री ले सबसे उम्रदराज छात्र बने सीबीएसई स्कूलों के बच्चों ने ‘नो बैग डे’ को बताया ‘राइट चॉइस’ अब राम जी जुड़े स्थलों की यात्रा कराएगी 'श्री राम एक्सप्रेस'

ओवैसी ने दी अमित शाह को चुनौती कहा दाड़ी वाले के साथ बहस करके दिखाओ

हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा सीएएए पर अखिलेश, राहुल और ममता को बहस की चुनौती दिए जाने पर कहा कि उनसे क्यों बहस करेंगे, मुझसे करिए।

Deepak Chauhan 22-01-2020 14:33:10



नागरिकता संशोधन कानून पर असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को आमना-सामना करने की चुनौती दी। हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा सीएएए पर अखिलेश, राहुल और ममता को बहस की चुनौती दिए जाने पर कहा कि उनसे क्यों बहस करेंगे, मुझसे करिए। दरअसल, लखनऊ में मंगलवार को अमित शाह ने रैली के दौरान नागरिकता कानून पर बहस करने की खुली चुनौती दी थी। 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, करीमनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि वे नागरिकता कानून, एनपीआर और एनआरसी पर बहस करने के लिए तैयार हैं। उन्होने कहा कि आपको मेरे साथ बहस करनी चाहिए। उनके साथ बहस क्यों? बहस एक दाढ़ी वाले शख्स के साथ होनी चाहिए। मैं सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर बहस कर सकता हूं। 

दरअसल, सीएए और एनआरसी को लेकर आरोप लगाया जा रहा है कि यह मुस्लिमों के साथ भेदभापूर्ण है। वहीं सरकार इस आरोप से इनकार कर रही है। लखनऊ में सीएए के समर्थन में रैली के दौरान अमित शाह ने कहा था कि इस मसले पर विपक्ष भ्रम फैला रहा है और दंगे करवा रहा है। 


लखनऊ में अमित शाह ने क्या कहा था:

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध कर रहे विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए मंगलवार को उन्हें चुनौती दी कि जिसको विरोध करना है, करे लेकिन सीएए वापस नहीं होने वाला है। शाह ने सीएए के समर्थन में राजधानी के बंग्लाबाजार स्थित कथा पार्क में आयोजित विशाल जनसभा में कहा, 'इस बिल को लोकसभा में मैंने पेश किया है। मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लो। यदि ये अगर किसी भी व्यक्ति की नागरिकता ले सकता है, तो उसे साबित करके दिखाओ।' उन्होंने कहा, 'देश में सीएए के खिलाफ भ्रम फैलाया जा रहा है, दंगे कराए जा रहे हैं। सीएए में कहीं पर भी किसी की नागरिकता लेने का कोई प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है ... मैं आज डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसको विरोध करना है करे, सीएए वापस नहीं होने वाला है।'


विपक्ष को बहस की चुनौती:

गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस और सपा समेत विपक्षी दल इसका विरोध कर रहे हैं, क्योंकि उनकी आंखों पर वोट बैंक की पट्टी बंधी है। उन्होंने कहा, 'सीएए के खिलाफ प्रचार किया जा रहा है कि इससे देश के मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी। मैं कहने आया हूं कि जिसमें भी हिम्मत है वह इस पर चर्चा करने के लिये सार्वजनिक मंच ढूंढ ले। हम चर्चा करने के लिये तैयार हैं।' शाह ने कहा कि सीएए की कोई भी धारा मुसलमान तो छोड़ दें, किसी भी बाशिंदे की नागरिकता लेती हो तो बता दें। गृह मंत्री ने दावा किया, 'बंटवारे के वक्त पूर्वी पाकिस्तान में 30 प्रतिशत और पश्चिमी पाकिस्तान में 23 प्रतिशत हिन्दू, सिख बौद्ध और जैन थे मगर अब वहां अब वे सिर्फ सात और तीन प्रतिशत ही रह गये हैं। बाकी कहां गये? वे या तो मार दिये गये या उनका धर्म परिवर्तन किया... या फिर भारत आकर शरण ली। इन आंखों के अंधों को दिखायी नहीं दिया कि करोड़ों लोगों पर अत्याचार हुआ।''

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :