यूनिवर्सिटी से 93 की उम्र में मास्टर डिग्री ले सबसे उम्रदराज छात्र बने सीबीएसई स्कूलों के बच्चों ने ‘नो बैग डे’ को बताया ‘राइट चॉइस’ अब राम जी जुड़े स्थलों की यात्रा कराएगी 'श्री राम एक्सप्रेस' सोनभद्र मे मिला सोने का पहाड़ महिला टी-20 वर्ल्ड कप LIVE : भारत ने डिफेंडिंग चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया को 17 रन से हराया, पूनम यादव ने 4 विकेट लिए शिव और विज्ञान : वैज्ञानिक ने तांडव को परमाणु की उत्पत्ति से जोड़ा, स्विट्जरलैंड के यूरोपियन रिसर्च सेंटर में नटराज की भारतीय रेलवे का अनोखा प्रयास : दंड लगाओ और फ्री टिकट पाओ राम मंदिर : ऊंचाई बढ़ाने और एक मंजिल जोड़ने का प्रस्ताव तेज प्रताव यादव का नारा - 2020 में किसका वध होगा, भीड़ बोली- 'नीतीश का' ICC WT20 WC 2020 : पाकिस्तानी महिला क्रिकेट टीम के डांस वीडियो पर फैन्स भड़के निर्भया केस : फांसी से बचने के लिए दोषी विनय की और एक नई तिकड़म गुलशन कुमार की हत्या की जानकार थी मुंबई पुलिस : पूर्व कमिश्नर मारिया नृपेंद्र मिश्रा होंगे निर्माण समिति के चेयरमैन, राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष बने नृत्यगोपाल दास जम्मू/कश्मीर पंचायती उपचुनाव : जम्मू- कश्मीर में 'All is not well' - PDP डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा पर बोली काँग्रेस वो भगवान राम हैं जो 70 लाख लोग स्वागत करेंगे छपाक को लेकर फिर से इमोशनल हुई दीपिका पादुकोण वाराणसी के रिक्शा चालक मंगल खेवट से भेंट कर उनकी बेटी की शादी का लिया न्यौता पाकिस्तान को लगा एक और बड़ा झटका, 'ग्रे लिस्ट' में बने रहने देने की सिफारिश करिश्माई पकड़ और संगठन को जोड़ना जानते है बृजमोहन अग्रवाल चीन के सिंगापुर मे भी आया कोरोना साथ ही बड़ी कोंडोम की बिक्री

जम्मू कश्मीर/ 2जी इंटरनेट सेवा आंशिक रूप से बहाल : सुप्रीम कोर्ट

इंटरनेट सेवा प्रदाता आवश्यक सेवाओं वाले सभी संस्थानों, अस्पतालों, बैंकों के साथ-साथ सरकारी कार्यालयों में ब्रॉडबैंड सुविधा (मैक बाइंडिंग के साथ) प्रदान करेंगे. पर्यटन की सुविधा के लिए, ब्रॉडबैंड इंटरनेट होटलों और यात्रा प्रतिष्ठानों को प्रदान किया जाएगा.

Deepak Chauhan 15-01-2020 17:44:02



जम्मू कश्मीर प्रशासन ने मंगलवार शाम जम्मू क्षेत्र के कुछ हिस्सों में मोबाइल इंटरनेट और होटलों, यात्रा प्रतिष्ठानों तथा अस्पतालों में ब्रॉडबैंड इंटरनेट सुविधा बहाल करने की अनुमति दे दी.

अपने तीन पृष्ठ के आदेश में गृह विभाग ने कहा कि कश्मीर संभाग में अतिरिक्त 400 इंटरनेट कियोस्क स्थापित किए जाएंगे.

इंटरनेट सेवा प्रदाता आवश्यक सेवाओं वाले सभी संस्थानों, अस्पतालों, बैंकों के साथ-साथ सरकारी कार्यालयों में ब्रॉडबैंड सुविधा (मैक बाइंडिंग के साथ) प्रदान करेंगे. पर्यटन की सुविधा के लिए, ब्रॉडबैंड इंटरनेट होटलों और यात्रा प्रतिष्ठानों को प्रदान किया जाएगा.

आदेश में यह भी कहा गया है कि जम्मू क्षेत्र के सांबा, कठुआ, उधमपुर और रियासी में ई-बैंकिंग सहित सुरक्षित वेबसाइट देखने के लिए पोस्ट-पेड मोबाइलों पर 2 जी मोबाइल कनेक्टिविटी की अनुमति दी जायेगी.

एक अँग्रेजी समाचार पत्र के अनुसार, जम्मू कश्मीर प्रशासन ने इस बात के संकेत दिए हैं कि 26 जनवरी को होने वाले गणतंत्र दिवस के बाद यह सुविधा आम जनता के लिए भी शुरू कर दी जाएगी.

शीर्ष सरकारी सूत्रों ने कहा, ‘आवश्यक सेवाओं को ठीक से काम करने और पर्यटन को फिर से शुरू करने के लिए ब्रॉडबैंड सुविधा बहाल की जा रही है. हालांकि, सोशल मीडिया पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा. सुरक्षा स्थिति के आधार पर 26 जनवरी के बाद आम जनता के लिए सुविधा बढ़ाने पर फैसला किया जाएगा.’

जम्मू कश्मीर के प्रधान सचिव (गृह) शालीन काबरा द्वारा हस्ताक्षरित एक आदेश में कहा गया है कि कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों और हमलों के खतरों के खुफिया इनपुट के बावजूद प्रशासन यह निर्णय ले रहा है, क्योंकि यह मानता है कि सेवाएं आवश्यक हो गई हैं.

प्रशासन ने पिछले हफ्ते सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया है, जिसमें प्रशासन को इंटरनेट से संबंधित सभी निर्णयों की समीक्षा करने के लिए कहा गया है.

आदेश में कहा गया है कि यह सुविधा बुधवार से अगले एक सप्ताह के लिए प्रभावी होगा जब तक कि संशोधित नहीं किया जाता है.

आदेश यह भी सुनिश्चित करता है कि इंटरनेट का दुरुपयोग न हो. यह आदेश सरकारी संस्थानों और कार्यालयों को इंटरनेट उपयोग के प्रबंधन और निगरानी के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करने, उपयोगकर्ताओं का रिकॉर्ड रखने और हर दिन एक्सेस क्रेडेंशियल बदलने के लिए कहता है.

बता दें कि, सुप्रीम कोर्ट ने पिछले हफ्ते अपने एक बेहद महत्वपूर्ण फैसले में जम्मू कश्मीर प्रशासन को आदेश दिया था कि वे एक हफ्ते के भीतर सभी प्रतिबंध आदेशों पर पुनर्विचार करें. ये प्रतिबंध पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद से लगाए गए थे.

जम्मू कश्मीर में इंटरनेट और संचार सेवाओं पर प्रतिबंध लगाने पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बिना किसी विशेष अवधि और अनिश्चित काल के लिए इंटरनेट बैन करना दूरसंचार नियमों का उल्लंघन है.

कोर्ट ने सरकार को आदेश दिया है कि धारा 144 के तहत जारी किए गए सभी आदेश कोर्ट के सामने पेश किए जाएं. इसके अलावा सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि सीआरपीसी की धारा 144 के तहत बार-बार आदेश जारी करना सत्ता का दुरुपयोग होगा.

इस दौरान कोर्ट ने यह भी कहा कि इंटरनेट का अधिकार संविधान के अनुच्छेद 19 के तहत बोलने एवं अभिव्यक्ति की आजादी का हिस्सा है. इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाने का कोई भी आदेश न्यायिक जांच के दायरे में होगा

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :