भारत लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में भी फिसला: शिवसेना

बॉलीवुड और ड्रग्स का रिश्ता आज का नहीं ये तो पुराना है coronavirus-केस और मृत्यु दर में गिरावट देश में अबतक 90 हजार संक्रमितों की हुई मौत बारिश के चलते रिया-शोविक की बेल पर सुनवाई टली ड्रग्स मामला: NCB रडार पर दीया मिर्जा, को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा नये कृषि विधेयक : हक मार, हक दिलाने का दावा देश में पिछले 24 घंटों में एक लाख से ज्यादा लोग हुए ठीक IPL 2020: आज चेन्नई-राजस्थान का मैच IPL 2020: पहले मैच ने तोड़े BARC के सारे रिकॉर्ड बदला लो-बदल डालो- शशि यादव , राज्य अध्यक्ष, बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ जानिए एक ही दिन में कितना कम हुआ सोने-चांदी का दाम 1 घंटे के लिए लोकसभा स्थगित, राज्यसभा में कई विधेयक पारित पूर्व सांसद अतीक अहमद के आवास पर चला बुलडोजर मेट्रोपॉलिटन सिटीज से हवाई सेवाओं को जोड़े केंद्र- CM भूपेश सप्ताहभर के लिए बस-ऑटो बंद होने से रेलयात्री परेशान MP में किसानों को 10 हजार मिलेगी सम्मान निधि ड्रग्स रैकेट में बड़े सितारों का नाम पर भड़की रवीना टंडन शिक्षा विभाग की वेबसाइट हैक कर फर्जी शिक्षकों से की वसूली दुनियाभर में तीन करोड़ 12 लाख से ऊपर पहुंचा संक्रमितों का आंकडा जापान के नए PM ने अमेरिका से आपस में रिश्ते मजबूत करने पर की बातचीत

भारत लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में भी फिसला: शिवसेना

Deepak Chauhan 24-01-2020 15:10:02

शिवसेना ने शुक्रवार को कहा कि विरोध के स्वरों को दबाने के प्रयास हो रहे हैं और यही एक वजह है कि भारत 2019 लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में 10 स्थान लुढ़क गया है। शिवसेना के संपादकीय सामना में कहा गया कि अर्थव्यवस्था में नरमी से असंतोष तथा अस्थिरता बढ़ रही है और यह देश में बने हालात से जाहिर है। मराठी अखबार में कहा गया, अब (आर्थिक नरम के बाद) वैश्विक लोकतंत्र सूचकांक की रैंकिंग (भारत की) भी लुढ़क गई।

दरअसल, द इकोनॉमिस्ट इंटेलीजेंस यूनिट (ईआईयू) द्वारा 2019 के लिये लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक सूची में भारत 10 स्थान लुढ़क कर 51वें स्थान पर आ गया है। संस्था ने इस गिरावट की मुख्य वजह देश में “नागरिक स्वतंत्रता का क्षरण” बताया है। अखबार ने कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने, नया नागरिकता कानून सीएए तथा प्रस्तावित एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन हुए। बीते एक साल से यहां आंदोलन चल रहे हैं।

इसमें कहा गया कि प्रदर्शन हुए और विरोध के स्वरों को दबाने के प्रयास हुए। जिन्होंने जेएनयू के छात्रों के प्रति सहानुभूति दिखाई उन्हीं पर जांच बिठाकर उन्हें ही आरोपी की तरह दिखाया गया। यही वजह है कि भारत लोकतंत्र सूचकांक में फिसल कर 51वें पायदान पर पहुंच गया। संपादकीय में कहा गया कि अगर सरकार इस रिपोर्ट को खारिज भी कर देती है तो क्या सत्तारूढ़ दल के पास इसका कोई जवाब है कि आखिर क्यों देश आर्थिक मोर्चे से लेकर लोकतंत्रिक मोर्चे पर फिसल रहा है।

इमसें कहा गया कि सरकार को अगर ऐसा लगता है कि देश का प्रदर्शन (आर्थिक मोर्चे पर) अच्छा है तो फिर वह 'आरबीआई' से पैसा क्यों मांग रही है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :