सरकार का ठेके कर्मचारियों के लिए बड़ा फैसला

मुंबई में बारिश ने तोड़ा 26 साल का रिकॉर्ड अनुराग कश्यप के खिलाफ एक्ट्रेस ने दर्ज कराई FIR मुंबई बारिश से बेहाल:सड़कें-रेलवे ट्रैक और निचले इलाकों में पानी भरा बिहार के डीजीपी पद को छोड़ गुप्तेश्वर पांडेय लड़ेंगे चुनाव सोना हुआ सस्ता,चांदी में बड़ी गिरावट बॉलीवुड और ड्रग्स का रिश्ता आज का नहीं ये तो पुराना है coronavirus-केस और मृत्यु दर में गिरावट देश में अबतक 90 हजार संक्रमितों की हुई मौत बारिश के चलते रिया-शोविक की बेल पर सुनवाई टली ड्रग्स मामला: NCB रडार पर दीया मिर्जा, को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा नये कृषि विधेयक : हक मार, हक दिलाने का दावा देश में पिछले 24 घंटों में एक लाख से ज्यादा लोग हुए ठीक IPL 2020: आज चेन्नई-राजस्थान का मैच IPL 2020: पहले मैच ने तोड़े BARC के सारे रिकॉर्ड बदला लो-बदल डालो- शशि यादव , राज्य अध्यक्ष, बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ जानिए एक ही दिन में कितना कम हुआ सोने-चांदी का दाम 1 घंटे के लिए लोकसभा स्थगित, राज्यसभा में कई विधेयक पारित पूर्व सांसद अतीक अहमद के आवास पर चला बुलडोजर मेट्रोपॉलिटन सिटीज से हवाई सेवाओं को जोड़े केंद्र- CM भूपेश सप्ताहभर के लिए बस-ऑटो बंद होने से रेलयात्री परेशान

सरकार का ठेके कर्मचारियों के लिए बड़ा फैसला

Deepak Chauhan 16-11-2019 11:01:16

ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों को समय पर वेतन मिले इसे सुनिश्चित करने के लिए सरकार मौजूदा कानूनों में बदलाव करने जा रही है। नए कानून कोड ऑन वेजेज के मसैदा में प्रावधान किया गया है कि कंपनियां अपने ठेकेदार को महीना पूरा होने से पहले ही भुगतान कर दें ताकि उनके कर्मचारियों को वेतन मिलने में देर न हो।

सरकार के पास कर्मचारी संगठनों की तरफ से इस बात को लेकर कई बार शिकायत दर्ज कराई गई थी कि ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों के साथ कंपनी में भेदभाव होता है। कंपनी में नियमित कर्मचारी को वेतन समय पर मिल जाता है लेकिन ठेके वाले कर्मचारियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। यही वजह है कि सरकार ने नए कानून के तहत ऐसे प्रावधानों की व्यवस्था की है। 

इसके लिए सरकार नए कानून में ठेकेदार को पहले भुगतान का प्रावधान करने की तैयारी कर रही है। इसके अलावा ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों के लिए बोनस का भी प्रावधान किया गया है। नए कानून के मसौदा में साफ लिखा गया है कि कर्मचारी को तय नियमों के तहत बोनस देने से ठेकेदार मना नहीं कर सकेगा। साथ ही ये भी कहा गया है कि कंपनियां सुनिश्चित करें कि जिस ठेकेदार के जरिए वो अपनी सेवाओं के लिए कर्मचारी रख रही हो वो उन्हें बोनस भी दे रहा हो। 


बोनस नहीं देने पर कंपनी को देनी होगी रकम 

अगर किसी कारणवश ठेकेदार बोनस नहीं देता है तो ये रकम उस कंपनी या संस्थान को देनी होगी जहां व्यक्ति काम कर रहा है। कंपनी या संस्थान यह कहकर अपना पल्ला नहीं झाड़ सकते हैं कि अन्य पक्ष का कर्मचारी है। श्रम मंत्रालय ने इस मसौदा कानून पर 1 दिसंबर तक सभी से सुझाव मांगे हैं। हर तरह के सुझावों के आंकलन के बाद इसे कानून में तब्दील करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। वर्तमान में 21 हजार रुपये तक के वेतन पर बोनस का प्रावधान है। साथ ही जिन संस्थानों में 20 से ज्यादा कर्मचारी हैं वहां भी बोनस देना जरूरी किया गया है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :