महाराष्ट्र बवाल : शिवसेना-NCP-कांग्रेस के बीच सबकुछ ठीक नहीं? : राहुल गांधी LAC पर चीन की हरकत देख PM मोदी की NSA अजीत डोभाल और CDS बिपिन रावत के साथ बैठक श्रमिक ट्रेन को लेकर उद्धव सरकार के सवालों के जवाब में भड़का रेल मंत्रालय 6 महोने मे भारत शुरू कर सकता है कोविड-19 वैक्सीन का मानव परीक्षण कोरोना काल में शिक्षा का माध्यम बन रहा इंटरनेट-सेठ एम आर जयपुरिया स्कूल रॉबर्ट्सगंज केरल के मुख्यमंत्री के गृहनगर को घोषित किया गया कोरोना हॉटस्पॉट पुलिस बलों में एक बार फिर अपराध दर बढ़ने को लेकर चिंता भारतीय सैनिकों पर लाठी-कंटीले तारों वाले डंडे और पत्थर का किया इस्तेमाल कर चीनी सैनिकों ने दिखाई नीचता सरकार पर हमला , कहा : पूरी तरह फेल हो गया लॉकडाउन : राहुल गांधी WHO की नई चेतावनी बनी सिर दर्द, कहा जहां मरीज ठीक है वहाँ बाद सकती है और संख्या योग्य विद्यार्थियों के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में है सुनहरा भविष्य लॉकडाउन तोड़ने वाली बात पर बयान देते मनोज तिवारी BSF ने बांग्लादेश का कराया मुंह मीठा करा पाकिस्तान को नहीं दी ईद की मिठाई कोरोना : दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर को फिर से किया गया सील पाताल लोक पर सामने आया नया विवाद अनुष्का शर्मा के खिलाफ भाजपा MLA की शिकायत कोरोना के चलते ही अपने नागरिकों को भारत से निकालेगा चीन दिल्ली में मिल रहे सरकारी ई पास के फर्जी मामले क्या कोरोना को पता है उसे फ्लाइट में संक्रमण नहीं फैलाना? : SC अमेरिका ने 33 चाइनीज कंपनियों और संस्थाओं को ट्रेड ब्लैकलिस्ट कोरोना राहत : दिल्ली के आधे से ज्यादा कोरोना रेड जोन बने ओरेंग जोन

अयोध्या फैसले से पहले चीफ जस्टिस में की डीजीपी से चर्चा

फैसले के मद्देनजर गड़बड़ी रोकने के लिए पुलिस 3000 लोगों को चिह्नित कर उनकी निगरानी कर रही है

sakshi sharma 08-11-2019 14:08:10



  • फैसले के मद्देनजर गड़बड़ी रोकने के लिए पुलिस 3000 लोगों को चिह्नित कर उनकी निगरानी कर रही है
  • पुलिस के मुताबिक, सुरक्षा योजना इस तरह बनाई जा रही है कि एक आदेश पर पूरी अयोध्या सील की जा सके

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी, डीजीपी ओमप्रकाश सिंह समेत कई वरिष्ठ अफसरों से मुलाकात की। अयोध्या केस में फैसला आने से पहले प्रदेश की सुरक्षा तैयारियों के लिहाज से इस मुलाकात को अहम बताया जा रहा है।

अयोध्या मामले की चीफ जस्टिस की अगुआई वाली 5 जजों की बेंच ने सुनवाई की थी। उत्तर प्रदेश के आलाअफसरों के साथ बैठक में बेंच के अन्य जज भी मौजूद हैं।

प्रशासन ने फोर्स की 100 कंपनियां मांगीं
अयोध्या जिले को चार जोन- रेड, येलो, ग्रीन और ब्लू में बांटा गया है। इनमें 48 सेक्टर बनाए गए हैं। विवादित परिसर, रेड जोन में स्थित है। पुलिस के मुताबिक, सुरक्षा योजना इस तरह बनाई जा रही है कि एक आदेश पर पूरी अयोध्या को सील किया जा सके। प्रशासन ने फैसले का समय नजदीक आने पर, अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 100 कंपनियां मांगी हैं। इससे पहले दीपोत्सव पर यहां सुरक्षाबलों की 47 कंपनियां पहुंची थीं, जो अभी भी तैनात है।

16000 वॉलियंटर्स तैनात
अयोध्या पुलिस ने सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार के दुष्प्रचार या किसी भी सम्प्रदाय के खिलाफ भड़काऊ कंटेंट के प्रसार पर नजर रखने के लिए जिले के 1600 स्थानों पर 16 हजार वॉलंटियर तैनात किए हैं। गड़बड़ी रोकने के लिए 3000 लोगों को चिह्नित करके उनकी निगरानी की जा रही है।

हमारी तैयारियां पूरी: डीएम 
अयोध्या के डीएम अनुज कुमार ने कहा कि प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। हालांकि फैसले के मद्देनजर विवादित जगह के आसपास रहने वाले लोग घरों में राशन जमा कर रहे हैं। हालांकि, उन्हें भरोसा दिलाया गया है कि सामान्य जीवन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। फैसले के बाद स्कूलों के खुलने के संबंध में भी बातचीत की जा चुकी है।

रेलवे ने आरपीएफ की छुट्टियां रद्द कीं
अयोध्या पर फैसले को देखते हुए रेल पुलिस (आरपीएफ) ने भी एडवाइजरी जारी की है। सभी जोन कार्यालयों को भेजे गए 7 पन्नों के दस्तावेज में प्लेटफॉर्म, स्टेशन और यार्ड पर खास निगरानी रखने को कहा गया है। साथ ही हिंसा की दृष्टि से संवेदनशील और ऐसे स्थानों की पहचान करने को कहा है, जहां असामाजिक तत्व विस्फोटक छुपा सकते हैं।

भीड़भाड़ वाले 78 स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ाने को कहा गया है, जिनमें मुंबई, दिल्ली, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के स्टेशन शामिल हैं। साथ ही, रेलवे स्टेशन और आस-पास मौजूद धार्मिक स्थानों की खास निगरानी करने को कहा गया है। आरपीएफ ने अपने सभी कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं और अयोध्या पर फैसला आने से पहले रेलगाड़ियों में भी अतिरिक्त बल तैनात करने की बात कही है।

40 दिन चली सुनवाई
16 अक्टूबर को अयोध्या मामले पर 40 दिन की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। संविधान पीठ की अध्यक्षता कर रहे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर होंगे।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित जमीन को 3 हिस्सों में बांटने के लिए कहा था
2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि अयोध्या का 2.77 एकड़ का क्षेत्र तीन हिस्सों में समान बांट दिया जाए। एक हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड, दूसरा निर्मोही अखाड़ा और तीसरा रामलला विराजमान को मिले। हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 14 याचिकाएं दाखिल की गई थीं।


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :