कपिल मिश्रा और भाजपा ने दिल्ली दंगों को भड़काया : कांग्रेस अमेरिका का भारत को धन्यवाद कहा : 1959 से परम पावन और तिब्बती लोगों को शरण देने के लिए हम भारत को धन्यवाद देते हैं।'' पिछले 24 घंटो में 22,252 नए मामलो के साथ भारत में कुल 7,19,665 कोरोना मरीज नई विशेष ट्रेन दिल्ली से कई शहरों के लिए चलाने की तैयारी कोरोना संक्रमित पत्रकार ने एम्स की बिल्डिंग से कूदकर की आत्महत्या DRDO ने भी 12 दिन में बनाया 1000 बेड का अस्पताल अब सुजानपुर में युवाओं की टोली ने थामा कांग्रेस का दामन सैनिकों के जल्द से जल्द पीछे हटने पर सहमत हुए डोभाल और वांग भारत के साथ सैन्य बातचीत में बनी सहमति पर अमल ग्वालियर में बिना मास्क लगाए पकड़े जाने पर मिलेगी अजीब सजा डोभाल ने की थी चीन के विदेश मंत्री से बात, 2 किलोमीटर पीछे हटी चीनी सेना दक्षिणी चीन सागर में हमारे 2-2 विमानवाहक तैनात कोविड-19 के मरीज जल्द हो रहे हैं ठीक : अरविंद केजरीवाल कानपुर एनकाउंटर में मुख्य हत्यारोपी विकास दुबे के ऊपर राशि ढाई लाख का इनाम देश के इंजीनियरों को दिया चैलेंजदेश के इंजीनियरों को दिया मेड इन इंडिया ऐप का चैलेंज शराब के नशे में चूर पुलिस कर्मी ने एक महिला को अपनी कार से रौंद कानपुर एनकाउंटर से पहले विकास दुबे से SO विनय तिवारी ने की थी बात दक्षिण चीन सागर में युद्धपोतों का अभ्यास, चीन से निपटने को तैयार अमेरिका सीएम योगी का ऐलान शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को एक-एक करोड़ भारत और अमेरिका की दोस्ती को देखकर चीन को 'जलन'

अनुच्छेद 370 / फैसले के खिलाफ दायर अर्जी में कहना क्या चाहते हो समझ नहीं आया : चीफ जस्टिस

Deepak Chauhan 16-08-2019 13:27:27



जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ दायर एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई करने से इनकार कर दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि मैंने आधे घंटे याचिका पढ़ी। इसके बावजूद समझ नहीं आया कि आप कहना क्या चाहते हैं। ये किस तरह की याचिका है? यह तो मेंशन के लायक भी नहीं है। 


इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, ‘‘सुरक्षा एजेंसियां रोज कश्मीर के हालात की समीक्षा कर रही हैं। हमें जमीनी हकीकत के बारे में पता है।’’ वकील मनोहर लाल शर्मा ने अनुच्छेद 370 हटाए जाने के सरकार के फैसले के अगले दिन ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मामले पर तुरंत सुनवाई की मांग की थी। हालांकि, कोर्ट ने इससे इनकार कर दिया था।


कश्मीर को लेकर एक अन्य याचिका पर भी होगी सुनवाई

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े और जस्टिस एसए नजीर की विशेष बेंच याचिकाकर्ता वकील एमएल शर्मा के अलावा कश्मीर टाइम्स की एग्जीक्यूटिव एडिटर अनुराधा भसीन की याचिका पर भी सुनवाई करेगी। भसीन ने कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट और लैंडलाइन सेवा समेत संचार के सभी माध्यम दोबारा बहाल करने की अपील की है, ताकि मीडिया राज्य में सही तरह से अपना काम कर सके। 


जम्मू-कश्मीर से प्रतिबंध पर फैसले को टाल चुका है सुप्रीम कोर्ट

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला की याचिका पर सुनवाई की थी। पूनावाला ने भी जम्मू-कश्मीर से कर्फ्यू हटाने, फोन-इंटरनेट और न्यूज चैनल पर लगे प्रतिबंध हटाने की भी मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान सरकार से पूछा कि राज्य में प्रतिबंध कब तक जारी रहेंगे? सरकार ने कहा कि वहां हालात बेहद संवेदनशील हैं और प्रतिबंध सभी के हित में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध हटाने के बारे में तत्काल कोई भी आदेश देने से इनकार कर दिया।

सरकार ने कोर्ट से कहा था कि हम राज्य के हालात की हर दिन समीक्षा कर रहे हैं। वहां खून की एक भी बूंद नहीं गिरी, किसी की जान नहीं गई। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई दो हफ्ते के लिए यह कहते हुए टाल दी कि हम देखते हैं वहां क्या होता है? केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- 2016 में इसी तरह की स्थिति को सामान्य होने में 3 महीने का समय लगा था। सरकार की कोशिश है कि जल्द से जल्द स्थिति पर काबू पाया जा सके। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :