देश के इंजीनियरों को दिया चैलेंजदेश के इंजीनियरों को दिया मेड इन इंडिया ऐप का चैलेंज शराब के नशे में चूर पुलिस कर्मी ने एक महिला को अपनी कार से रौंद कानपुर एनकाउंटर से पहले विकास दुबे से SO विनय तिवारी ने की थी बात दक्षिण चीन सागर में युद्धपोतों का अभ्यास, चीन से निपटने को तैयार अमेरिका सीएम योगी का ऐलान शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को एक-एक करोड़ भारत और अमेरिका की दोस्ती को देखकर चीन को 'जलन' 4.5 की तीव्रता से हिली दिल्ली-एनसीआर में धरती पीएम नरेंद्र मोदी के लेह दौरे से चिढ़ा चीन लेह पहुंचे पीएम :- आपका मुकाबला कोई नहीं कर सकता : पीएम मोदी यूजीसी की नई गाइडलाइंस जारी होने के बाद स्पष्ट होंगी फाइल ईयर की परीक्षाएं अचानक लेह पहुंच गए प्रधानमंत्री मोदी कोरोना संक्रमितों की संख्या 92 हजार के पार, अबतक 63 हजार हुए ठीक तेज प्रताप की साली करिश्मा राय को तेजस्वी ने ज्वाइन कराई RJD 33 लड़ाकू विमानों को खरीदने के प्रस्ताव को मंजूरी शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल में शामिल हुए 28 मंत्री दिल्ली-एनसीआर से कोरोना के खात्मे पर अमित शाह तीनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों संग करेंगे बैठक हमारे 20 जवानों ने बलिदान दिया तो चीन में यह संख्या दोगुनी : रविशंकर प्रसाद दिल्ली में शुरू होगा देश का पहला प्लाज्मा बैंक दिल्ली में कंटेनमेंट जोन की संख्या हुई 417 दिल्ली के लोगों को डरने की कोई जरूरत नहीं, दिल्ली में नहीं कम्युनिटी स्प्रेड : अमित शाह

Delhi election result 2020: कांग्रेस का बंटाधार करते हुए शाहीन बाग ने पहुंचाया आप और भाजपा को फायदा

राजनैतिक जानकारों के मुताबिक, भले ही बीजेपी के सुधरे प्रदर्शन की वजह सीएए के विरोध में शाहीन बाग के जारी प्रदर्शन हो लेकिन इसका फायदा आम आदमी पार्टी को भी मिला है। हालांकि, पूरे चुनाव प्रचार के दौरान दोनों दलों के मुकाबले कहीं नहीं दिखाई दी कांग्रेस का ब

Deepak Chauhan 11-02-2020 14:21:45



आम आदमी पार्टी दिल्ली में लगातार तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है। दो बजे तक के रुझानों में अरविंद केजरीवाल की पार्टी 50 से अधिक सीटों पर आगे चल रही है। पार्टी की इस जीत के पीछे कई वजहें हैं। राजनैतिक जानकारों के मुताबिक, भले ही बीजेपी के सुधरे प्रदर्शन की वजह सीएए के विरोध में शाहीन बाग के जारी प्रदर्शन हो लेकिन इसका फायदा आम आदमी पार्टी को भी मिला है। हालांकि, पूरे चुनाव प्रचार के दौरान दोनों दलों के मुकाबले कहीं नहीं दिखाई दी कांग्रेस का बंटाधार होता दिख रहा है। अब तक के रुझानों में कांग्रेस को किसी भी सीट पर जीत नहीं मिल रही है।

जानकारों की मानें तो बीजेपी ने जब आक्रामक चुनाव प्रचार में शाहीन बाग के मुद्दे को जोरशोर से उठाया तो उसके बाद से ही अल्पसंख्यक वोटर्स नहीं बंटे और एकजुट होकर वोट आम आदमी पार्टी को कर गए। आमूमन तौर पर अल्पसंख्यक वोट्स कांग्रेस को मिलते रहे हैं, लेकिन इस बार 'आप' ने इन वोटों में सेंध लगा दी। चुनाव आयोग के अनुसार, आम आदमी पार्टी को इस बार तकरीबन 54 फीसदी वोट मिल रहे हैं। हालांकि, पार्टी को कुछ सीटों का नुकसान जरूर हुआ है। पिछले 2015 विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज करते हुए 67 सीटें जीती थीं। लेकिन अब वह 57 सीटों के आसपास है।

अब तक के बीजेपी के वोट प्रतिशत की बात करें तो लगभग 39% मत मिले हैं। पिछले चुनाव में बीजेपी को 33% वोट मिले थे। इस हिसाब से बीजेपी के वोट प्रतिशत में छह फीसदी वोट का इजाफा हुआ है। इस बढ़ोतरी के पीछे शाहीन बाग के मुद्दे को उठाना माना जा रहा है। पार्टी की सीटें भी पिछली बार तीन के मुकाबले बढ़कर 13 के आसपास हो रही हैं। कांग्रेस के वोट पिछली बार से और घट गए हैं। पिछली बार कांग्रेस को 9.65% मत मिले थे। इस बार घटकर 4% के आसपास आ गया है।

जानकारों की मानें तो चुनाव से कुछ लगभग लड़ाई से बाहर दिख रही बीजेपी ने आखिरी समय में शाहीन बाग के प्रदर्शन का मुद्दा उठाकर टक्कर लेने की कोशिश की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी से लेकर पार्टी के तमाम नेताओं ने अपनी रैलियों में शाहीन बाग के प्रदर्शन का जिक्र किया। बीजेपी ने पूरे चुनाव के दौरान इसे अहम मुद्दा बनाया। इसका फायदा भी बीजेपी को हुआ। हालांकि, यह मुद्दा बीजेपी को इतना फायदा नहीं पहुंचा सका कि पार्टी सरकार बनाने की स्थिति में आ जाए। लेकिन यह जरूर है कि शुरुआती समय में पूरी तरह से एक तरफा जा रहा चुनाव आखिरी वक्त में टक्कर में आ गया।


डेढ़ महीने से ज्यादा समय से जारी है प्रदर्शन

दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले डेढ़ महीने से ज्यादा समय से विरोध प्रदर्शन जारी है। यह प्रदर्शन संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ चल रहा है। प्रदर्शन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की गई है। याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा था कि प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारी सड़कों को ब्लॉक करके लोगों के लिए असुविधा पैदा नहीं कर सकते। कोर्ट ने पुलिस, केंद्र और दिल्ली सरकार को भी नोटिस जारी किया है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :