महाराष्ट्र बवाल : शिवसेना-NCP-कांग्रेस के बीच सबकुछ ठीक नहीं? : राहुल गांधी LAC पर चीन की हरकत देख PM मोदी की NSA अजीत डोभाल और CDS बिपिन रावत के साथ बैठक श्रमिक ट्रेन को लेकर उद्धव सरकार के सवालों के जवाब में भड़का रेल मंत्रालय 6 महोने मे भारत शुरू कर सकता है कोविड-19 वैक्सीन का मानव परीक्षण कोरोना काल में शिक्षा का माध्यम बन रहा इंटरनेट-सेठ एम आर जयपुरिया स्कूल रॉबर्ट्सगंज केरल के मुख्यमंत्री के गृहनगर को घोषित किया गया कोरोना हॉटस्पॉट पुलिस बलों में एक बार फिर अपराध दर बढ़ने को लेकर चिंता भारतीय सैनिकों पर लाठी-कंटीले तारों वाले डंडे और पत्थर का किया इस्तेमाल कर चीनी सैनिकों ने दिखाई नीचता सरकार पर हमला , कहा : पूरी तरह फेल हो गया लॉकडाउन : राहुल गांधी WHO की नई चेतावनी बनी सिर दर्द, कहा जहां मरीज ठीक है वहाँ बाद सकती है और संख्या योग्य विद्यार्थियों के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में है सुनहरा भविष्य लॉकडाउन तोड़ने वाली बात पर बयान देते मनोज तिवारी BSF ने बांग्लादेश का कराया मुंह मीठा करा पाकिस्तान को नहीं दी ईद की मिठाई कोरोना : दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर को फिर से किया गया सील पाताल लोक पर सामने आया नया विवाद अनुष्का शर्मा के खिलाफ भाजपा MLA की शिकायत कोरोना के चलते ही अपने नागरिकों को भारत से निकालेगा चीन दिल्ली में मिल रहे सरकारी ई पास के फर्जी मामले क्या कोरोना को पता है उसे फ्लाइट में संक्रमण नहीं फैलाना? : SC अमेरिका ने 33 चाइनीज कंपनियों और संस्थाओं को ट्रेड ब्लैकलिस्ट कोरोना राहत : दिल्ली के आधे से ज्यादा कोरोना रेड जोन बने ओरेंग जोन

पेरियार को लेकर सुपरस्टार रजनीकांत की एक टिप्पणी पर विवाद कहा मैं नहीं मागूंगा माफी : राजनीकांत

तमिलनाडु में उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. इसमें उन पर पेरियार को बदनाम करने का आरोप लगाया गया है. हालांकि रजनीकांत ने साफ कह दिया है कि यह बेकार का विवाद है और वे अपनी टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगेंगे.

Deepak Chauhan 21-01-2020 14:57:53



प्रसिद्ध समाज सुधारक पेरियार को लेकर सुपरस्टार रजनीकांत की एक टिप्पणी पर विवाद हो गया है. तमिलनाडु में उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. इसमें उन पर पेरियार को बदनाम करने का आरोप लगाया गया है. हालांकि रजनीकांत ने साफ कह दिया है कि यह बेकार का विवाद है और वे अपनी टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगेंगे.

जिस टिप्पणी पर यह हंगामा हो रहा है वह रजनीकांत ने 14 जनवरी को की थी. मौका था तमिल पत्रिका तुगलक के 50 साल पूरे होने का. इस दौरान रजनीकांत ने कहा, ‘1971 में सालेम में पेरियार ने अंधविश्वास के खिलाफ एक रैली निकाली थी. उसमें चंदन की माला पहने भगवान रामचंद्रमूर्ति और सीता की नग्न तस्वीरें प्रदर्शित की गई थीं और किसी समाचार प्रकाशन ने यह खबर नहीं छापी थी.’

रजनीकांत ने आगे कहा कि तब तुगलक के संस्थापक संपादक चो रामास्वामी ने यह खबर छापी थी और इसकी आलोचना की थी. उनके मुताबिक इस खबर ने तत्कालीन एम करुणानिधि सरकार को हिला दिया था और राज्य प्रशासन ने इस पत्रिका की प्रतियां जब्त कर ली थीं. रजनीकांत का आगे कहना था कि इसके बाद चो रामास्वामी ने यह पत्रिका फिर से छापी और इसकी धुआंधार बिक्री हुई थी.

बीते कुछ समय से कयास लग रहे हैं कि रजनीकांत तमिलनाडु में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मौके पर राजनीति में छलांग लगा सकते हैं. विवाद को लेकर उनका कहना है कि उन्होंने जो कहा वह खबरों के आधार पर कहा. रजनीकांत का यह भी कहना था कि यह घटना भुलाई जानी चाहिए लेकिन, ऐसा नहीं होना चाहिए कि इसे नकार ही दिया जाए.

तमिलनाडु की सामाजिक और राजनीतिक बुनावट पर ईवी रामास्वामी यानी पेरियार का असर बहुत गहरा है. इसका एक अंदाजा इससे भी लग सकता है कि साम्यवाद से लेकर दलित आंदोलन, तमिल राष्ट्रवाद, तर्कवाद और नारीवाद तक हर धारा से जुड़े लोग उनका सम्मान करते हैं. सम्मान ही नहीं करते बल्कि उन्हें मार्गदर्शक के रूप में देखते हैं. उन्हें एशिया का सुकरात भी कहा जाता है.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :