दिल्ली में तीन दिन लगातार हुई हिंसा के बाद ACP अनुज कुमार ने बयां किया 24 फरवरी का दर्द

आदित्य नारायण करेंगे 1 दिसंबर को गर्लफ्रेंड श्वेता अग्रवाल से शादी सोना-चांदी की कीमतों में आई गिरावट मोदी सरकार को वापस लेने होंगे काले कानून- राहुल गांधी जंहा माराडोना को मिली शोहरत, वहीं लगी थी ड्रग्‍स की लत नीतीश कुमार ने किया तेजस्वी यादव पर पलटवार कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताई जानें चुकंदर खाने के 10 फायदे 'दिल्ली चलो' मार्च-किसानों को मिली दिल्ली में घुसने की इजाजत अगली सुनवाई 11 दिसंबर को होगी जेल से बाहर आने के लिए लालू को अभी और करना होगा इंतजार ममता को लगा बड़ा झटका-शुभेंदु अधिकारी ने परिवहन मंत्री के पद से दिया इस्तीफा Corona Update- जापान और कंबोडिया की लैब के फ्रीजर में पड़े मिले चमगादड़ों में मिले कोरोना के वायरस NCR के शहरों से दिल्ली में आज भी प्रवेश नहीं करेगी मेट्रो लालू की जमानत को लेकर बोलीं राबड़ी देवी-न्यायालय का जो भी फैसला होगा, मंजूर होगा Indian Air Force 2020 : आवेदन की प्रक्रिया शुरू, सिर्फ कल शाम 5 बजे तक का समय UP-लड़की के शव को नोच कर खा रहे है कुत्ते की फोटो हुई वायरल इस महीने फिर बढ़े 7वीं बार पेट्रोल-डीजल के दाम 27 नवम्बर का राशिफल आइए जानते है क्यों की जाती है कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजा आज भी दिल्ली कूच पर अड़े किसान MSP से किसानों को परेशानी हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति- सीएम खट्टर

दिल्ली में तीन दिन लगातार हुई हिंसा के बाद ACP अनुज कुमार ने बयां किया 24 फरवरी का दर्द

Deepak Chauhan 29-02-2020 14:14:57

दिल्ली में तीन दिन लगातार हुई हिंसा में अब तक 42 लोगों की मौत हो चुकी है जिसमें दिल्ली पुलिस का हेड कांस्टेबल रतन लाल शहीद हो गए। हिंसा के दौरान सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) अनुज कुमार भी घायल हुए थे और उन्होंने बताया कि कैसे भीड़ ने उन्हें घेर लिया था। इस भीड़ के पथराव में ही डीसीपी शाहदरा गंभीर रूप से घायल हो गए थे और हेड कांस्टेबल रतन लाल शहीद हो गए थे। 

घायल एसीपी ने 24 फरवरी की घटना को याद करते हुए बताया कि प्रदर्शनकारियों के पथराव के चलते फोर्स बिखर गई थी। इस बीच डीसीपी सर मेरे से पांच छह मीटर दूर चल गए थे और डिवाइडर के पास बेहोशी की हालत में थे और उनके मुंह से खून आ रहा था। उन्होंने कहा कि जब हम प्रदर्शनकारियों के पथराव का सामना कर रहे थे तब रतन लाल भी हमारे साथ थे। मैंने देखा था रतन लाल को चोट लगी है और उसे दूसरा स्टाफ नर्सिंग होम में लेकर गया था। हम वहां से अपनी गाड़ियों से नहीं निकल सकते थे इसलिए हम वहां से निजी वाहन की मदद से निकले। मैक्स अस्पताल दूर था इसलिए हम डीसीपी सर और रतन लाल को लेकर पहले जीटीबी अस्पताल पहुंचे जहां पर रतन लाल को मृत घोषित कर दिया गया। बाद में हम डीसीपी सर को मैक्स अस्पताल लेकर पहुंचे।

दिल्ली के गोकलपुरी में हिंसा में घायल हुए एसीपी को दो दिन पहले ही अस्पताल से छुट्टी मिली है। उन्होंने बताया कि हमें निर्देश दिया गया था कि सिग्नेचर ब्रिज को गाजियाबाद की सीमा के साथ जोड़ने वाली सड़क को ब्लॉक ना होने दिया जाए लेकिन धीरे-धीरे भीड़ बढ़ने लगी और इसमें महिला और पुरुष दोनों शामिल थे। वे लगभग 20,000- 25,000 थे, जबकि हम केवल 200 थे। मुझे नहीं पता कि उन्होंने सड़क को ब्लॉक करने की योजना बनाई थी जैसा कि उन्होंने पहले किया था।

उन्होंने बताया कि हमने उनसे शांति से बात की और उन्हें मुख्य सड़क के बजाय सर्विस रोड पर प्रदर्शन करने को कहा। तब तक अफवाहें फैलने लगी थीं कि कुछ महिलाएं और बच्चे पुलिस फायरिंग में अपनी जान गंवा चुके हैं। पुल के पास निर्माण कार्य चल रहा था। प्रदर्शनकारियों ने वहां से पत्थर और ईंटें उठाकर अचानक पथराव शुरू कर दिया और हम घायल हो गए, जिसमें डीसीपी सर भी घायल हो गए और उनके सिर से भी खून बह रहा था। 

एसीपी ने बताया कि पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे लेकिन प्रदर्शनकारियों के बीच की दूरी बड़ी होने के कारण यह कोशिश नाकाम रही। उन्होंने बताया कि हम सड़क के दो विपरीत छोरों पर खड़े थे। हम फायरिंग नहीं करना चाहते थे क्योंकि कई महिलाएं भी विरोध प्रदर्शन में शामिल थी। उन्होंने बताया कि मेरा मकसद डीसीपी को बचना था क्योंकि पथरा के दौरान वह घायल हो गए थे और उनके शरीर से खून बह रहा था। उन्होंने कहा कि वहीं हम किसी भी प्रदर्शनकारी को चोट नहीं पहुंचाना चाहते थे। 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :