पायलट पर एक्शन से बढ़ा कांग्रेस का संकट दिल्ली दंगे वाले दिन के कई राज खुले भारत-चीन : विरोधी नहीं, दोनों देश बनें पार्टनर : चीनी राजदूत Vikas Dubey Encounter : एनकाउंटर में विकास दुबे के सीने और कमर में लगीं 4 गोलियां UP: 10 जुलाई की रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक राज्य में लॉकडाउन विकास दुबे हत्या के बाद मिटाना चाहता था पूरे सबूत CBSE दसवीं-बारहवीं के रिजल्ट को लेकर वायरल हो रही है ये फेक अधिसूचना पूर्वी लद्दाख की सीमा पर हालात में हो रहा सुधार कानपुर के गैंगस्टर ने क्यों चुना महाकाल का मंदिर ब्रिटेन में आज से इंडिया ग्लोबल वीक 2020 की शुरुआत देश में नहीं है कम्युनिटी ट्रांसमिशन : डॉ. हर्षवर्धन कोर्ट में पेशी के बाद गैंगस्टर विकास दुबे को रिमांड पर लेगी UP पुलिस JAC 10th Result 2020 : टॉपरों को मिलेगी कार, 2021 परीक्षा में कम होगा सिलेबस संकट के समय गरीबों के उत्थान के कार्यों में साथ देने के बजाय विपक्ष गैर जिम्मेदाराना सवाल उठा रहा: भाजपा कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने चीन जाएगी WHO टीम कानपुर कांड : विकास दुबे टीवी स्टूडियो में LIVE सरेंडर करेगा ? सेकुलरिज्म को नए सिलेबस से हटाने के सीबीएसई के कदम पर ममता की हैरानी कानपुर केस : विकास दुबे के मुखबिरी का है शक पर सस्पेंड एसओ विनय तिवारी गिरफ्तार केजरीवाल ने मांगी विस्तृत विश्लेषण रिपोर्ट, कोरोना मौत का आंकड़ा गिराने की पूरी तैयारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी की स्थायी समिति की बैठक अंतिम मिनट में स्थगित

उत्तर प्रदेश की सड़कों पर नमाज पढ़ने या धार्मिक आयोजन करने पर प्रतिबंध

Khushboo Diwakar 14-08-2019 11:21:47



मेरठ और अलीगढ़ में सड़क पर नमाज को रोकने में मिली सफलता के बाद अब ये मॉडल पूरे उत्तर प्रदेश में लागू किया जा रहा है. डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने बताया है कि अब ऐसे किसी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं होगी, जिससे लोगों को असुविधा हो. बता दें कि जब सड़कों पर नमाज को रोका गया तो कुछ जगहों पर लोगों ने इसका विरोध किया, लेकिन प्रशासन ने सख्ती इसे लागू कराया वहीं कई जगह मुस्लिम समाज में व्यापक तौर इस पहल का स्वागत किया.

मेरठ और अलीगढ़ में सड़क पर नमाज को रोकने में मिली सफलता के बाद अब ये मॉडल पूरे प्रदेश में लागू किया जा रहा है. राज्य पुलिस के मुखिया ओम प्रकाश सिंह ने बताया है कि अब ऐसे किसी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं होगी जिससे लोगों को असुविधा हो, बता दें कि जब सड़कों पर नमाज को रोका गया तो कुछ जगहों पर लोगों ने इसका विरोध किया लेकिन प्रशासन ने सख्ती इसे लागू कराया.

ईद के दौरान मेरठ और अलीगढ़ में सड़कों पर नमाज पर रोक रही जिसके बाद मुस्लिम समाज ने मस्जिदों और ईदगाहों में ही ईद की नमाज अदा की, साथ ही ऊंट जैसे बड़े जानवर की कुर्बानी पर भी रोक लगाई गई. मुस्लिम समाज में व्यापक तौर इस पहल का स्वागत किया. सरकार ने कहा यह किसी समुदाय विशेष पर लागू नहीं होगा बल्कि सड़क पर होने वाले सभी धार्मिक आयोजन पर रोक रहेगी और खास मौकों पर प्रशासनिक स्वीकृति के बाद ही इजाजत दी जाएगी.

बता दें हाल ही के दिनों में सड़कों पर होने वाले नमाज के खिलाफ सड़क पर हनुमान चालीसा और आरती जैसे कार्यक्रम भी शुरू हुए जिससे समाज में काफी तनाव बढ़ रहा था. साथ ही लोगों को कई असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा था. इसे देखते हुए मेरठ में सड़क पर नमाज रोकने की एक पहल शुरू की गई जो सफल रही. मेरठ के बाद अलीगढ़ में भी इसे अपनाया गया है और दोनों जगहों पर यह प्रशासनिक प्रयास सफल होने के बाद यूपी पुलिस ने इस पूरे राज्य में लागू करने का फैसला किया है.

पश्चिम बंगाल में 'जय श्री राम' नारे लगने के बाद जमकर सियासत हुई. इसके बाद हनुमान चालीसा की राजनीति ने तेजी पकड़ी. पीछले दिनों में कई लोगों ने हावड़ा के सड़कों पर हनुमान चलीसा पढ़ी तो वहीं ऐसा ही एक नजारा अलीगढ़ में देखने को मिला. यहां पर भी लोगों ने सड़कों पर हनुमान चालीसा का पाठ किया. जिसकी वजह से सड़क पर लंबा जाम लग गया.

अलीगढ़ के सासनी गेट चौराहे के काली मंदिर पर बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लेकर हनुमान चालीसा का पाठ किया साथ ही आरती की. आरती के बाद कार्यकर्ताओं ने सभी भक्तों को तुलसी के पौधे भी बांटे. इस दौरान सड़क पर जाम लग गया और यातायात भी काफी प्रभावित हुआ.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :