इलाहबाद कोर्ट ने रद्द की अब्दुल्ला आजम की विधायकी रद्द टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने बताया टीम का असली लक्ष्य नागरिकता कानून पर बोले PM, मोदी अधिनियम पर हिंसक विरोध दुर्भाग्यपूर्ण नागरिकता कानून को लेकर चल रहे प्रदर्शन में दिल्ली में आज फिर फूंकी गयी बसें 15 फरवरी से शुरू होंगी 10वी ऑर 12वी की CBSE की बोर्ड परीक्षा नागरिकता कानून : पश्चिम बंगाल मे हिंसक प्रदर्शनों के चलते अब इंटरनेट भी बंद नागरिकता कानून को लेकर असम, त्रिपुरा, ऑर नगालेंड समेत कई पूर्वोतर राज्यों मे हिंसक प्रदर्शन अब भाजपा का सहयोगी असम गण परिषद खुद ही नागरिकता कानून के विरोध मे पहुचेगा SC बिग बॉस एक्ट कंटेस्टेंट और एक्ट्रेस पायल रोहतगी को विवादित बयान के चलते किया अरेस्ट वीडियो जारी कर कहा कि उनकी सरकार असम के लोगों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री सर्बानंद मुंबई पोलिक एको मिला सलमान के घर को बम से उड़ाना वाला ईमेल अपने पद से इस्तीफा देने वाले सवाल पर जाने जदयू के प्रशांत किशोर का जवाब मोदी हैं तो 100 रुपये किलो प्याज, 45 साल की सर्वोच्च बेरोजगारी मुमकिन है : प्रियंका गांधी हमारे देश को बांटा जा रहा है और अर्थव्यवस्था को कमजोर किया जा रहा है: राहुल गांधी जलोड़ी दर्रा में हुई इस साल की दुसरी भारी बर्फ़बारी नवलेखा की कार्यशाला आसान और अपमार्जित गूगल न्यूज सर्विस इस सर्दी मे यहाँ जाकर ले सकते है साल के अंतिम दिनो का मजा दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की शुरुआत करने वाला देश बना न्यूजीलैंड भारत के हिटमैन बने दुनिया के तीसरे सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले खिलाड़ी "महंगाई डायन खाय जात है" तीन साल के सबसे बड़े स्तर पर पहुची मुद्रास्फीति

उत्तर प्रदेश की सड़कों पर नमाज पढ़ने या धार्मिक आयोजन करने पर प्रतिबंध

Khushboo Diwakar 14-08-2019 11:21:47



मेरठ और अलीगढ़ में सड़क पर नमाज को रोकने में मिली सफलता के बाद अब ये मॉडल पूरे उत्तर प्रदेश में लागू किया जा रहा है. डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने बताया है कि अब ऐसे किसी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं होगी, जिससे लोगों को असुविधा हो. बता दें कि जब सड़कों पर नमाज को रोका गया तो कुछ जगहों पर लोगों ने इसका विरोध किया, लेकिन प्रशासन ने सख्ती इसे लागू कराया वहीं कई जगह मुस्लिम समाज में व्यापक तौर इस पहल का स्वागत किया.

मेरठ और अलीगढ़ में सड़क पर नमाज को रोकने में मिली सफलता के बाद अब ये मॉडल पूरे प्रदेश में लागू किया जा रहा है. राज्य पुलिस के मुखिया ओम प्रकाश सिंह ने बताया है कि अब ऐसे किसी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं होगी जिससे लोगों को असुविधा हो, बता दें कि जब सड़कों पर नमाज को रोका गया तो कुछ जगहों पर लोगों ने इसका विरोध किया लेकिन प्रशासन ने सख्ती इसे लागू कराया.

ईद के दौरान मेरठ और अलीगढ़ में सड़कों पर नमाज पर रोक रही जिसके बाद मुस्लिम समाज ने मस्जिदों और ईदगाहों में ही ईद की नमाज अदा की, साथ ही ऊंट जैसे बड़े जानवर की कुर्बानी पर भी रोक लगाई गई. मुस्लिम समाज में व्यापक तौर इस पहल का स्वागत किया. सरकार ने कहा यह किसी समुदाय विशेष पर लागू नहीं होगा बल्कि सड़क पर होने वाले सभी धार्मिक आयोजन पर रोक रहेगी और खास मौकों पर प्रशासनिक स्वीकृति के बाद ही इजाजत दी जाएगी.

बता दें हाल ही के दिनों में सड़कों पर होने वाले नमाज के खिलाफ सड़क पर हनुमान चालीसा और आरती जैसे कार्यक्रम भी शुरू हुए जिससे समाज में काफी तनाव बढ़ रहा था. साथ ही लोगों को कई असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा था. इसे देखते हुए मेरठ में सड़क पर नमाज रोकने की एक पहल शुरू की गई जो सफल रही. मेरठ के बाद अलीगढ़ में भी इसे अपनाया गया है और दोनों जगहों पर यह प्रशासनिक प्रयास सफल होने के बाद यूपी पुलिस ने इस पूरे राज्य में लागू करने का फैसला किया है.

पश्चिम बंगाल में 'जय श्री राम' नारे लगने के बाद जमकर सियासत हुई. इसके बाद हनुमान चालीसा की राजनीति ने तेजी पकड़ी. पीछले दिनों में कई लोगों ने हावड़ा के सड़कों पर हनुमान चलीसा पढ़ी तो वहीं ऐसा ही एक नजारा अलीगढ़ में देखने को मिला. यहां पर भी लोगों ने सड़कों पर हनुमान चालीसा का पाठ किया. जिसकी वजह से सड़क पर लंबा जाम लग गया.

अलीगढ़ के सासनी गेट चौराहे के काली मंदिर पर बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लेकर हनुमान चालीसा का पाठ किया साथ ही आरती की. आरती के बाद कार्यकर्ताओं ने सभी भक्तों को तुलसी के पौधे भी बांटे. इस दौरान सड़क पर जाम लग गया और यातायात भी काफी प्रभावित हुआ.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :