कांग्रेस और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में समझौता

बिहार में AIMIM और समाजवादी जनता दल डेमोक्रेटिक के बीच गठबंधन तय: असदुद्दीन ओवैसी 4,130 रुपये सस्ता हुआ सोना,चांदी में आई 10,379 रुपये की गिरावट क्या कोरोना के चलते अभी भी अस्पतालों में ऐसा हो रहा है राज्यसभा में कल पेश होगा कृषि सुधार विधेयक ड्रग्स को लेकर बोले अनुराग कश्यप बिहार में मौत का दूसरा सबसे बड़ा कारण है डायरिया पत्रकार ने चीन को लीक किए देश से जुड़े गोपनीय दस्तावेज NIA छापेमारी: बड़े हमले की साजिश कर रहे 9 आतंकी गिरफ्तार कोरोना की दूसरी लहर में भारत पर कहना मुश्किल है- आईसीएमआर डीजी शिवहर में विधायक के खिलाफ फूटा ग्रामीणों का आक्रोश UP में एक सप्ताह में होगी 31661 पदों पर शिक्षक भर्ती 18 लड़ाकू विमानों से घुसपैठ के बाद बोला चीन IPL 2020 से पहले जानिए किस टीम में कौन सा खिलाड़ी खेलेगा सैंडलवुड ड्रग केस: आरोपी संजना की न्यायिक हिरासत 30 सितंबर तक बढ़ी 30 साल में 3 KM लंबी नहर खोदने वाले व्यक्ति को महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद ने दिया ईनाम Calcutta High Court से हर्षवर्धन लोढ़ा को झटका राज्यसभा में महामारी रोग विधेयक 2020 पारित ड्रग्स मामला: मैंगलोर पुलिस ने अभिनेता किशोर शेट्टी और एक अन्य को किया अरेस्ट कोरोना की दूसरी लहर से कई देशों में दोबारा लॉकडाउन का बढ़ा खतरा नेपाल की नई स्कूली पुस्तकों में छपी मानचित्र को लेकर हुआ विवाद शुरू

कांग्रेस और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में समझौता

Gauri Manjeet Singh 07-08-2020 13:47:05

कांग्रेस पार्टी और चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच बीजिंग में 7 अगस्त 2008 को हुए समझौते को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने विचार करने से इनकार कर दिया है। याचिकाकर्ता को पहले हाईकोर्ट जाने को कहा गया है। याचिका में इस मामले की एनआईए या सीबीआई से जांच कराने की मांग की गई थी। 

चीफ जस्टिस एसए बोबड़े की अगुआई में बेंच ने याचिकाकर्ता को पहले हाई कोर्ट जाने को कहा है। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने इस डील पर हैरानी जताते हुए कहा, ''कैसे एक राजनीतिक पार्टी चीन के साथ समझौता कर सकती है, यह अनसुना है।''

याचिकाकर्ता दिल्ली के वकील शशांक शेखर झा और गोवा से संचालित ऑनलाइन न्यूज पोर्ट गोवा क्रोनिकल के संपादक सेवियो रोदरिग्यूज ने याचिका में कहा था कि यह एमओयू राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर चिंता पैदा करता है और यूएपीए कानून के तहत एनआईए या सीबीआई को इसकी जांच करनी चाहिए। 

वरिष्ठ वकील महेश जेठमलानी ने याचिकाकर्ताओं की ओर से पेश होते हुए कहा कि इस समझौते के तहत मकसद ठीक नहीं हैं। इस समझौते को सार्वजनिक किया जाए। उन्होंने याचिका में बदलाव की भी अनुमति मांगी। कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं से पूछा कि वे पहले हाई कोर्ट क्यों नहीं गए। जेठमलानी ने उत्तर दिया, ''यह केस राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा हुआ है। लेकिन बेंच ने कहा कि यह याचिका को हाई कोर्ट में दाखिल करने से नहीं रोकता है।

याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि चीन के साथ खराब रिश्तों के बावजूद कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार में रहते हुए एमओयू साइन किया। इस समझौते के तथ्यों और ब्योरों को सार्वजनिक नहीं किया गया। 

इस मामले में कांग्रेस पार्टी के साथ सोनिया और राहुल गांधी को भी पक्ष बनाया गया है। याचिकाकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले की यूएपीए के तहत एनआईए से जांच कराने को लेकर आदेश देने की मांग की थी। गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) संशोधन कानून (यूएपीए) के तहत आतंकवादी गतिविधियों या भारतीय संघ से देश के किसी हिस्से में अलगाव लाने का इरादा रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है। विकल्प के तौर पर याचिकाकर्ताओं ने सीबीआई जांच की भी मांग की। 

हाल ही में पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार को घेरते हुए कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर विफल होने का आरोप लगाया था। सत्ताधारी बीजेपी ने पलटवार करते हुए कांग्रेस पार्टी की ओर से सोनिया गांधी और राहुल गांधी द्वारा चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एमओयू साइन करने का मुद्दा उठाया। 

यूपीए की चेयरपर्सन रहीं सोनिया गांधी और की मौजूदगी में एमओयू पर बीजिंग में साइन किया गया। मीडिया रिपोर्ट्स का जिक्र करते हुए याचिकाकर्ताओं ने कहा कि 2008 से 2013 के बीच चीनी सैनिकों ने 600 बार घुसपैठ की थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी अपनी सरकार के दौरान सूचना का अधिकार कानून लेकर आई, लेकिन इस मामले में खुद पदर्शिता नहीं बरत पाई, जो राष्ट्रीय महत्व का मामला है। 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :