बांग्लादेश-पाकिस्तान को क्यों साथ ला रहा ड्रैगन?

बिहार में AIMIM और समाजवादी जनता दल डेमोक्रेटिक के बीच गठबंधन तय: असदुद्दीन ओवैसी 4,130 रुपये सस्ता हुआ सोना,चांदी में आई 10,379 रुपये की गिरावट क्या कोरोना के चलते अभी भी अस्पतालों में ऐसा हो रहा है राज्यसभा में कल पेश होगा कृषि सुधार विधेयक ड्रग्स को लेकर बोले अनुराग कश्यप बिहार में मौत का दूसरा सबसे बड़ा कारण है डायरिया पत्रकार ने चीन को लीक किए देश से जुड़े गोपनीय दस्तावेज NIA छापेमारी: बड़े हमले की साजिश कर रहे 9 आतंकी गिरफ्तार कोरोना की दूसरी लहर में भारत पर कहना मुश्किल है- आईसीएमआर डीजी शिवहर में विधायक के खिलाफ फूटा ग्रामीणों का आक्रोश UP में एक सप्ताह में होगी 31661 पदों पर शिक्षक भर्ती 18 लड़ाकू विमानों से घुसपैठ के बाद बोला चीन IPL 2020 से पहले जानिए किस टीम में कौन सा खिलाड़ी खेलेगा सैंडलवुड ड्रग केस: आरोपी संजना की न्यायिक हिरासत 30 सितंबर तक बढ़ी 30 साल में 3 KM लंबी नहर खोदने वाले व्यक्ति को महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद ने दिया ईनाम Calcutta High Court से हर्षवर्धन लोढ़ा को झटका राज्यसभा में महामारी रोग विधेयक 2020 पारित ड्रग्स मामला: मैंगलोर पुलिस ने अभिनेता किशोर शेट्टी और एक अन्य को किया अरेस्ट कोरोना की दूसरी लहर से कई देशों में दोबारा लॉकडाउन का बढ़ा खतरा नेपाल की नई स्कूली पुस्तकों में छपी मानचित्र को लेकर हुआ विवाद शुरू

बांग्लादेश-पाकिस्तान को क्यों साथ ला रहा ड्रैगन?

Deepak Chauhan 23-07-2020 16:24:41

पाकिस्तान और नेपाल के कंधे पर बंदूक रखकर भारत विरोधी एजेंडे को बढ़ाने वाला चीन क्या नई खुराफात में जुट गया है? क्या पाकिस्तान और बांग्लादेश के रिश्तों पर दशकों पुराने बर्फ को चीन ही पिघला रहा है? क्या चीन भारत के खिलाफ अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए बांग्लादेश और पाकिस्तान के बीच गठजोड़ कराना चाहता है? पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के बीच बुधवार को हुई बातचीत से ऐसे कई सवाल उठ खड़े हुए हैं और हाल के कुछ घटनाक्रम पर नजर डालें तो इनका जवाब 'हां' ही मिलेगा।

पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने इमरान-हसीना के बीच बातचीत को दुर्लभ करार देते हुए बताया है कि कैसे पाकिस्तान और बांग्लादेश नजदीक आ रहे हैं। अखबार ने इसमें लिखा है कि ढाका में चीन के बढ़ते प्रभाव की वजह से पाकिस्तान के साथ उसकी नजदीकी बढ़ी है। दोनों देशों के बीच रिश्तों में सुधार को लेकर जो कारण गिनाए गए हैं उनमें  भारत के संशोधित नागरिकता कानून का भी जिक्र किया गया है। 

चीन और दक्षिण एशिया की राजनीति पर नजर रखने वाले विशेषज्ञों की मानें तो पाकिस्तान और बांग्लादेश की इस दोस्ती के पीछे ड्रैगन ही है। चीन पिछले कई सालों से भारत के पड़ोसी देशों को कर्ज और निवेश के जरिए अपना औपनिवेश बनाने में जुटा है। पाकिस्तान तो उसका सदाबहार दोस्त है ही, हाल ही में ड्रैगन ने नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका जैसे देशों को भी अपने एजेंडे में शामिल करने के लिए पूरा जोर लगा दिया है।

भारत के खिलाफ अपनी रणनीति के तहत उसने दक्षिण एशिया में पाकिस्तान को दूसरे देशों को भारत के खिलाफ माहौल बनाने का जिम्मा सौंपा है। हाल ही में जब नेपाल की केपी ओली सरकार ने भारत के खिलाफ नक्शा विवाद को बढ़ाया तो पाकिस्तान भी एक्टिव हो गया था। अब वह भारत की ओर से 1971 में मिले दर्द को भूलकर बांग्लादेश से हाथ मिलाने को तैयार हो गया है। 

डॉन के मुताबिक, दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच यह बात कई महीनों के प्रयास के बाद संभव हो पाई है। इस साल फरवरी में इमरान सिद्दकी को राजदूत नियुक्त किए जाने के बाद इस्लामाबाद ने ढाका के साथ दोस्ती बढ़ाने की पहल की। इस महीने सिद्दकी ने बांग्लादेश के विदेश मंत्री एक अब्दुल मोमेन से मुलाकात की थी। 

डॉन की रिपोर्ट में कहा गया है कि हसीना से कोविड-19 पर बातचीत के अलावा इमरान खान ने बांग्लादेश के साथ बेहतर रिश्ते की अपील की। इमरान ने पाकिस्तान के बांग्लादेश के साथ बेहतर रिश्तों के महत्व पर बात की। उन्होंने सार्क के प्रति पाकिस्तान की प्रतिबद्धता और क्षेत्रीय सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :