दिल्ली दंगे वाले दिन के कई राज खुले भारत-चीन : विरोधी नहीं, दोनों देश बनें पार्टनर : चीनी राजदूत Vikas Dubey Encounter : एनकाउंटर में विकास दुबे के सीने और कमर में लगीं 4 गोलियां UP: 10 जुलाई की रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक राज्य में लॉकडाउन विकास दुबे हत्या के बाद मिटाना चाहता था पूरे सबूत CBSE दसवीं-बारहवीं के रिजल्ट को लेकर वायरल हो रही है ये फेक अधिसूचना पूर्वी लद्दाख की सीमा पर हालात में हो रहा सुधार कानपुर के गैंगस्टर ने क्यों चुना महाकाल का मंदिर ब्रिटेन में आज से इंडिया ग्लोबल वीक 2020 की शुरुआत देश में नहीं है कम्युनिटी ट्रांसमिशन : डॉ. हर्षवर्धन कोर्ट में पेशी के बाद गैंगस्टर विकास दुबे को रिमांड पर लेगी UP पुलिस JAC 10th Result 2020 : टॉपरों को मिलेगी कार, 2021 परीक्षा में कम होगा सिलेबस संकट के समय गरीबों के उत्थान के कार्यों में साथ देने के बजाय विपक्ष गैर जिम्मेदाराना सवाल उठा रहा: भाजपा कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने चीन जाएगी WHO टीम कानपुर कांड : विकास दुबे टीवी स्टूडियो में LIVE सरेंडर करेगा ? सेकुलरिज्म को नए सिलेबस से हटाने के सीबीएसई के कदम पर ममता की हैरानी कानपुर केस : विकास दुबे के मुखबिरी का है शक पर सस्पेंड एसओ विनय तिवारी गिरफ्तार केजरीवाल ने मांगी विस्तृत विश्लेषण रिपोर्ट, कोरोना मौत का आंकड़ा गिराने की पूरी तैयारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी की स्थायी समिति की बैठक अंतिम मिनट में स्थगित नहीं बनी कोरोना वैक्सीन तो भारत में होंगे हर दिन 2.87 लाख मामले

ऊपर से शांति और बार्डर पर अशांति दिखा दौहरी चाल चल रहा है ड्रेगन

लद्दाख सेक्टर में गलवान घाटी से पैंगोंग त्सो झील तक चार जगहों पर भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने डटे हुए हैं। सीमा पर तनाव में कोई कमी नहीं दिख रही है।

Deepak Chauhan 28-05-2020 17:43:26



चीन ने भारत के साथ सीमा विवाद को लेकर अपने सुर नरम जरूर किए हैं, लेकिन जमीन पर इससे कोई बदलवा नहीं दिख रहा है। लद्दाख सेक्टर में गलवान घाटी से पैंगोंग त्सो झील तक चार जगहों पर भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने डटे हुए हैं। सीमा पर तनाव में कोई कमी नहीं दिख रही है।

दोनों ही सेनाएं अपनी जगह से हिली नहीं हैं। ना ही उनकी संख्या में कोई कमी आई है। अभी यह कहना संभव नहीं है कि यह टकराव कब और कैसे खत्म होगा। इस मामले के जानकार लोगों ने गुरुवार को हिन्दुस्तान टाइम्स को यह जानकारी दी।

एक दिन पहले यानी बुधवार को चीनी विदेश मंत्रालय ने सीमा पर तनातनी को कमतर बताया था। मंत्रालय की ओर से जोर देकर कहा गया था कि एलएसी पर स्थिति स्थिर और नियंत्रण में है। साथ ही देनों देश विभिन्न स्तरों पर संपर्क में हैं। लेकिन चीनी पक्ष का यह मैत्रीपूर्ण रुख जमीन पर उतरता नहीं दिख रहा है। 

टकराव वाले तीन स्थान गलवान घाटी में हैं और चौथा पैंगोंग झील के पास। चीन अपने सैनिकों को यहां भारत के बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण में बाधा डालने के मकसद से लाया है। चीन विशेषकर गलवान नाले पर 60 मीटर लंबे पुल और पैंगोंग झील के पास एक निगरानी पोस्ट का निर्माण रोकना चाहता है। 

भारतीय सेना ने टकराव वाले चारों स्थानों पर सैनिकों की संख्या बढ़ाते हुए निर्माण कार्य जारी रखा है। दौलत बेग ओल्डी तक पहुंचने के लिए 255 किलोमीटर रोड के हिस्से के रूप में गलवान पुल का भी निर्माण कर रहा है।

एक भारतीय अधिकारी ने कहा, ''अपने क्षेत्र में सड़क, पुल या हवाई पट्टी बनाने के भारत के अधिकार पर कोई सवाल नहीं उठा सकता है। इन्फ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड करने का काम जारी है और इसे रोका नहीं जाएगा।'' पिछले सप्ताह पीएम मोदी ने एलएसी पर स्थिति की समीक्षा के लिए पिछले सप्ताह एक हाई लेवल मीटिंग की थी।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीफ ऑफ डिफेंस सर्विसेज जनरल बिपिन रावत विभिन्न स्तरों पर भारतीय प्रयासों की निगरानी कर रहे हैं। उनके रडार पर पश्चिमी सीमा भी है। जहां से रिपोर्ट है कि पाकिस्तान ने पीओके के गिलगित बाल्टिस्तान में सेना की गतिविधि बढ़ाई है।

भारतीय सेना ने यहां चीनी सैनिकों की संख्या और संसाधन के बराबर ताकत लगाई है। भारत लंबे समय तक खिंच सकने वाली तनातनी के लिए तैयार है। सैनिकों का एक अन्य दल तैयार है जो तनातनी वाले स्थानों पर मौजूद सैनिकों को बीच में ब्रेक देने के लिए रिप्लेस करते हैं। 

अधिकारियों ने बताया कि दूसरी तरफ चीन ने भी अक्साई चिन इलाके में रक्षापंक्ति को मजबूत किया है। इसने अपने नागरिक और रक्षा इस्तेमाल वाले एयरफील्ड नगरी गुंसा  को अपग्रेड किया है। यह एलएसी से 60 किलोमीटर दूर है। यहां चीनी वायु सेना जे11 जेट्स उड़ाते रहे हैं, जिन्हें रूसी सुखोई 27 का चाइनीज वर्जन कहा जाता है। एसएसी से दूसरे नजदीकी एयरपोर्ट यारकंड (320 किमी), होस्टन (240 किमी), काशगर (450 किमी) और कोरला (600 किमी) है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :