करिश्माई पकड़ और संगठन को जोड़ना जानते है बृजमोहन अग्रवाल चीन के सिंगापुर मे भी आया कोरोना साथ ही बड़ी कोंडोम की बिक्री कर्नाटक मुख्यमंत्री कार्यालय घेरने पहुचे कोंग्रेसी अध्यक्ष समेत हुये गिरफ्तार PM मोदी को लेकर आपत्तिजनक बयान देने के आरोप में शशि थरूर पर दिल्ली हाई कोर्ट का जुर्माना श्री राम के नारे पर भड़क अखिलेश बोले भाजपा से है जान का खतरा वेलेंटाइन डे पर प्यार का इज़हार करना पड़ा महंगा, चोर कह कर गाँव वालों ने पीटा केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह के लिए पीएम मोदी को न्योता संस्कृति विवि के 14 और छात्रों को मिली नौकरी निर्भया केस की सुनवाई के बाद बेहोश हुई SC की जज 40 जवानों के घर जाकर मिट्टी को लगाया माथे पर, उमेश जाधव ने दी पुलवामा के शहीदों को दी सबसे सच्ची श्रद्धांजलि कश्मीर में होंगे पंचायत चुनाव दिल्ली विधानसभा चुनाव : जो जनता करती है, सही करती है - प्रियंका गांधी दिल्ली चुनाव के बाद केजरीवाल की जीत पर कांग्रेस नेता शत्रुध्न सिन्हा ने उन्हे बताया सुपर लीडर संस्कृति विश्वविद्यालय में मनाया गया यूनानी दिवस हरियाणा मे क्या भाजपा गैर जाट प्रदेश अध्यक्ष के साथ नही कर सकती दो या तीन उपाध्यक्षो का प्रयोग दिल्ली विधासभा मे आप की 9 मे से 8 महिला बनी विधायक झटका : अब इस रेट पर मिलेगी गैर सब्सिडी वाली LPG, 149 रुपये तक बढ़ गए घरेलू गैस सिलेंडर CBI Vs CBI: सुप्रीम कोर्ट के जज ने अखिकारियों लगाई फटकार कहा मेन खिलाड़ी अब भी क्यों आजाद? रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल 16 फरवरी को लेंगे दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिल्ली चुनाव में हार पीएम मोदी की नहीं, अमित शाह की विफलता है : शिव सेना

एसिड फेंकने वाले का नाम नदीम से बदलकर राजेश बदलने पर छपाक फिल्म रिलीज से पहले आई विवाद मे

Deepak Chauhan 08-01-2020 16:02:06



जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हिंसा पीड़ित वाम समर्थक छात्रों से मिलने के लिए दीपिका पादुकोण का पहुंचना सोशल मीडिया पर तूफान का सबब बन गया है। खासकर ट्विटर पर उनकी फिल्म 'छपाक' कंट्रोवर्सी में आ गई है। #boycottchhapaak ट्विटर पर टॉप ट्रेंड बना हुआ है और लोग दीपिका को ट्रोल कर रहे हैं कि जब लक्ष्मी अग्रवाल पर नदीम खान नामक शख्स ने तेजाब फेंका था तो उनकी बायॉपिक 'छपाक' में उस कैरेक्टर का नाम क्यों बदल दिया गया। सोशल मीडिया पर यूजर्स दावा कर रहे हैं कि नदीम के कैरेक्टर का नाम फिल्म में राजेश  है। दरअसल, 'छपाक' एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की ही कहानी है।

इन दिनों दीपिका दो दिन बाद रिलीज होने वाली अपनी फिल्म 'छपाक' के प्रमोशन में बिजी हैं। मंगलवार देर शाम वह जेएनयू में आंदोलनकारी छात्रों के बीच पहुंची थीं। वहां वह जेएनयू में हिंसा के खिलाफ आंदलोन पर बैठे छात्रों से मिलीं और 10 मिनट तक रुकने के बाद निकल गईं। इस दौरान उन्होंने कोई बयान नहीं दिया। दीपिका जब जेएनयू में थीं तो सीपीआई नेता और जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार भी वहीं मौजूद थे। दीपिका ने जेएनयू से निकलने से पहले वाम छात्र संगठनों के कुछ सदस्यों से बात भी की। इसी बात को लेकर वह सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के निशाने पर आ गईं। सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि अगर उन्हें हिंसा के खिलाफ समर्थन देना था तो फिर हिंसा के शिकार एबीवीपी के छात्रों से भी मिलना चाहिए था।

सोशल मीडिया पर दीपिका के जेएनयू जाने को लेकर लोग बंटे हुए नजर आए। कुछ लोग दीपिका के विरोध में तो कुछ समर्थन में ट्वीट कर रहे हैं। यह भी मुद्दा बन गया कि जब यह फिल्म लक्ष्मी अग्रवाल की बायॉपिक है तो फिर एसिड फेंकने वाले नदीम खान का नाम बदलकर एक हिन्दू के नाम पर क्यों रखा गया। यूजर्स का कहना है कि जब यह फिल्म सच्ची घटना पर आधारित है तो इस फिल्म में लक्ष्मी अग्रवाल पर एसिड फेंकने वाले शख्स का नाम बदला तो ठीक है लेकिन उसको हिंदू क्यों दिखाया गया है। इस फिल्म में दीपिका के कैरेक्टर का नाम भी लक्ष्मी से बदलकर मालती कर दिया गया है।


क्या है लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी?

यह 22 अप्रैल 2005 की बात है। लक्ष्मी दिल्ली के खान मार्केट से गुजर रही थीं तभी नदीम खान ने उन्हें गिरा दिया और चेहरे पर तेजाब फेंक दिया। उस समय लक्ष्मी की उम्र महज 15 साल थी और नदीम ने शादी के लिए प्रपोज किया था, जिसे लक्ष्मी ने ठुकरा दिया था। लक्ष्मी ने उस वाकये को याद करते हुए कहा था, 'जिस तरह से कोई प्लास्टिक पिघलता है, उसी तरह से मेरी चमड़ी पिघल रही थी। मैं सड़क पर चलती हुई गाड़ियों से टकरा रही थी। मुझे अस्पताल ले जाया गया, जहां मैं अपने पिता से लिपट कर रोनी लगी। मेरे गले लगने की वजह से मेरे पिता की शर्ट जल गई थी। मुझे तो पता भी नहीं था मेरे साथ क्या हुआ है। डॉक्टर मेरी आंखें सिल रहे थे, जबकि मैं होश में ही थी। मैं दो महीने तक हॉस्पिटल में थी। जब घर आकर मैंने अपना चेहरा देखा तो मुझे लगा की मेरी जिंदगी खत्म हो चुकी है।'

लक्ष्मी ने पिछले साल साल 22 अप्रैल को लिखा था, 'आज मेरे अटैक को 14 साल हो गए हैं। इन 14 सालों में बहुत कुछ बदला है, बहुत सारी चीजें अच्छी हुईं, बहुत सारी चीज़ें बुरी जिसके बारे में सोच कर भी डर लगता है। लोगों को लगता है एसिड अटैक हुआ है, यह सबसे बड़ा दुख है, सबको यही दिखता है। जब कोई भी अटैक होता है ना सिर्फ हमारे पूरे परिवार की जिंदगी बदल जाती है बल्कि अचानक से एक नया मोड़ आ जाता है क्योंकि वह इंसान एक बार अटैक करता है, सोसाइटी बार-बार अटैक करती है। जीने नहीं देती, जिससे जिसके ऊपर क्राइम हुआ है वह या परिवार का कोई व्यक्ति आत्महत्या कर लेता है।'

उन्होंने पोस्ट में आगे लिखा है, 'मुझे पता है कि हर साल यह तारीख मेरे जीवन में आएगी और आज का दिन उस दिन जैसा ही तकलीफ़ भरा होता है। उस वक्त तो पापा भाई भी थे पर आज वह भी नही हैं, हर 22 अप्रैल मुझे कुछ नई तकलीफ देता है, जिसके बारे में सोच कर भी डर जाती हूं, आख़िर मैं भी इंसान हूं। मुझे भी तकलीफ़ होती है, मैं कभी नहीं चाहती जो मेरे साथ हुआ है वह किसी और के साथ हो, जब मैं 15 साल की थी तो अपने पापा-म्मी से कुछ नहीं बोल सकी मन में डर था कहीं ना कहीं कि अगर कहा तो मुझे ही गलत बोलेंगे और उस चुप्पी की वजह से क्रिमिनल ने फायदा उठाया।'

लक्ष्मी ने कहा, 'आज इस पोस्ट को हर कोई पढ़ेगा और मैं चाहती हूं इस पोस्ट से आप लोग एक सबक लें। जो मां-बाप हैं, वे अपने बच्चों के साथ दोस्ती करें ताकि वह अपने मन की बात आपको बता सकें क्योंकि जब भी कोई परेशानी होती है तो मां-बाप को ही ज़्यादा परेशान होना पड़ता है। जो बच्चे हैं, वे भी अपने मम्मी पापा के साथ दोस्ती करें। अपने मन की बात उन्हें बताएं ताकि जो भी दिक्कत हो वे साथ मिलकर ठीक कर सकें। याद रहे अटैक सिर्फ एक शख्स पर नहीं पूरे परिवार पर होता है।'

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :