केजरीवाल और सिसोदिया को करना चाहिए हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा : दिल्ली HC दिल्ली हिंसा पर बोले पीएम मोदी : जल्द से जल्द हो शांति बहाल कपिल मिश्रा का वीडियो चलवा दिल्ली हिंसा पर हाईकोर्ट के जजों ने की सुनवाई अफवाहों पर ध्यान न दें लोग, दिल्ली मौजपुर हिंसा में अब तक 11 FIR दर्ज : दिल्ली पुलिस दिल्ली हिंसा पर बोले ट्रंप : भारत का अपना मामला इससे खुद ही निपटे दिल्ली हिंसा में 130 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती, 9 की मौत दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले में जारी हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है अभी तक 15 से लोगो को लगी गोली बीजिंग की हवा में बड़ा सुधार, भारत मे सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर : रिपोर्ट स्वाइन फ्लू की चपेट में सुप्रीम कोर्ट के 6 न्यायाधीश, मास्क पहनकर कोर्ट पहुंचे जस्टिस संजीव खन्ना LIVE : केजरीवाल भी पहुंचे गृह मंत्रालय, दिल्ली हिंसा पर हाईलेवल मीटिंग शुरू CAA : कई मेट्रो स्टेशन बंद, उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा में हेड कॉन्स्टेबल की मौत पत्नी संग आगरा ताज महल पहुंचे ट्रंप कहा वाह ताज साबरमती आश्रम पहुच विजिटर बुक मे ट्रंप ने लिखा 'थैंक्यू फ्रेंड मोदी' अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत की धरती पर रखा कदम ट्रम्प का भारत दौरा / मेलानिया दिल्ली के स्कूल में बच्चों से मिलेंगी, कार्यक्रम से केजरीवाल और सिसोदिया का नाम हटा भारत अमेरिका को व्यापार मे पाहुचा रहा है बड़ी चोट : डोनाल्ड ट्रम्प वायरल वीडियो में देखें उसका दर्द, नौ साल का बच्चा क्यों मरना चाहता है यूनिवर्सिटी से 93 की उम्र में मास्टर डिग्री ले सबसे उम्रदराज छात्र बने सीबीएसई स्कूलों के बच्चों ने ‘नो बैग डे’ को बताया ‘राइट चॉइस’ अब राम जी जुड़े स्थलों की यात्रा कराएगी 'श्री राम एक्सप्रेस'

अमेरिका / कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प : संसद की सलाहकार एजेंसी

अमेरिकी संसद को विदेश से जुड़े मामलों में अहम जानकारी मुहैया कराने वाले थिंक टैंक कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) का। एजेंसी ने बुधवार को कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 6 महीने के अंदर ही अपनी दूसरी रिपोर्ट पेश कर दी।

Deepak Chauhan 22-01-2020 17:13:07



भारत के जम्मू-कश्मीर पर लिए गए फैसले के खिलाफ अब पाकिस्तान के पास काफी सीमित विकल्प बचे हैं। यह कहना है अमेरिकी संसद को विदेश से जुड़े मामलों में अहम जानकारी मुहैया कराने वाले थिंक टैंक कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) का। एजेंसी ने बुधवार को कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 6 महीने के अंदर ही अपनी दूसरी रिपोर्ट पेश कर दी। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान में सैन्य कार्रवाई के जरिए कश्मीर की यथास्थिति बदलने की ताकत नहीं है। यानी इस्लामाबाद को आने वाले समय में सिर्फ कूटनीतिक जरियों पर ही भरोसा करना पड़ेगा। 

सीआरएस अमेरिकी कांग्रेस की स्वतंत्र रिसर्च विंग है। यह एजेंसी अमेरिकी सांसदों के लिए समय-समय पर रिपोर्ट्स तैयार करती है, ताकि संसद अंतरराष्ट्रीय मामलों पर फैसले ले सके। इससे पहले सीआरएस ने 13 जनवरी को भी रिपोर्ट पेश की थी। इसमें उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान कूटनीतिक तौर पर अलग-थलग पड़ चुका है। सिर्फ तुर्की ही उसे मजबूत समर्थन मुहैया करा रहा है। 


कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान की विश्वसनीयता कम

कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस ने 25 पन्नों की रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान ने चीन के समर्थन से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के सत्र में कश्मीर पर चर्चा की मांग की थी। यूएनएससी ने 16 अगस्त को लगभग 50 साल बाद कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए बैठक बुलाई। हालांकि, यह बैठक बेनतीजा रही। कई विशेषज्ञों का मानना है कि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान की विश्वसनीयता काफी कम है। इसकी एक वजह यह है कि इस्लामाबाद ने बीते सालों में कश्मीर में आतंकी संगठनों को बढ़ावा दिया। हालांकि, अब पाकिस्तानी नेताओं के पास कश्मीर में भारत की कार्रवाई के खिलाफ सीमित विकल्प हैं, इसके अलावा कश्मीर में आतंकवाद को समर्थन की उसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। 

 

पाकिस्तान की आखिरी उम्मीद- नीतियों से खुद को ही नुकसान पहुंचा ले भारत

एजेंसी ने आगे कहा, “पाकिस्तान और उसके साथी चीन की अंतरराष्ट्रीय विश्वसनीयता काफी सीमित है। खासकर मानवाधिकार के मामलों पर। हालांकि, इस्लामाबाद यह उम्मीद कर सकता है कि नई दिल्ली अपनी नीतियों के जरिए कश्मीर में खुद को ही नुकसान पहुंचा सकता है। पाकिस्तान अब यह सोच सकता है कि इससे सऊदी अरब और यूएई में भारत के कूटनीतिक फायदे कम होंगे।”


अमेरिका का पक्ष- भारत-पाकिस्तान बातचीत से निपटाएं मतभेद

सीआरएस के मुताबिक, अमेरिका का लंबे समय से पक्ष रहा है कि भारत और पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर मतभेद को खुद बातचीत के जरिए सुलझाएं। ट्रम्प प्रशासन ने भी दोनों देशों से मानवाधिकार के सम्मान और शांति स्थापित करने पर जोर दिया है। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि ट्रम्प ने जुलाई में इमरान के साथ बैठक में कश्मीर पर मध्यस्थता की बात की थी, इसकी वजह से ही भारत ने राज्य से अनुच्छेद 370 हटाने की जल्दी की।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :