सुशांत केस:-सूरज पंचोली, बोले- बेहतर होगा मैं इस मामले में कुछ ना बोलूं लंबी उम्र की ख्वाहिश होगी जल्द पूरी राजाराम के जयकारे के साथ भूमि पूजन प्रारंभ अयोध्या में मंदिर निर्माण से शेख रशीद ने कहा - भारत बन गया 'राम नगर' सुशांत सिंह राजपूत केस की CBI करेगी जांच प्रशांत भूषण को सुप्रीम कोर्ट की नसीहत भारतीय अर्थव्यवस्था का बुरा दौर बीता मुंबई की जूलरी कंपनी ने SBI को लगाया 387 करोड़ रुपए का चूना माइक्रोसॉफ्ट के लिए सदी की सबसे बड़ी डील होगी टिकटॉक देखें कैसे राम मंदिर भूमि पूजन से पहले तैयार है अयोध्या नगरी यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2019 का फाइनल रिजल्ट जारी राजस्थान सियासी संकट: क्या सच में कांग्रेस हाईकमान से बागी विधायकों ने लगाई गुहार- किसी तीसरे को बना दो CM सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की सीबीआई जांच की सिफारिश घरेलू रसोई गैस हुई महंगी आज का राशिफल भारत से बिगड़े रिश्ते का चालाकी से फायदा उठा रहा चीन गोल्ड बॉन्ड में निवेश है फायदे का सौदा जांबाज एयर फोर्स ऑफिसर के रोल में दिखीं जाह्नवी कपूर नया कानून-अब नहीं चलेगा बाइक या स्कूटर पर लोकल हेलमेट देना होगा चालान सुशांत सिंह राजपूत की बहन ने पीएम नरेंद्र मोदी से लगाई मदद की गुहार

भारत-चीन : विरोधी नहीं, दोनों देश बनें पार्टनर : चीनी राजदूत

चीनी राजदूत ने कहा कि भारत और चीन को प्रतिद्वंद्वियों के बजाए भागीदार होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'चीन और भारत के बीच दो हजार साल से ज्यादा समय से मित्रतापूर्ण संबंध हैं। मैंने देखा है कि हाल के दिनों में दोनों देशों में सीमा मुद्दे को लेकर तनाव पैदा हुआ।'

Deepak Chauhan 10-07-2020 17:24:02



पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर पैदा हुए तनाव में धीरे-धीरे कमी आ रही है। इस बीच भारत में चीन के राजदूत ने कहा है कि बातचीत के जरिए ही दोनों देशों को सीमा विवाद का हल निकालना चाहिए। चीनी दूतावास के यूट्यूब चैनल पर पोस्ट किए गए लगभग 18 मिनट के वीडियो में चीनी राजदूत सन विडोंग ने यह टिप्पणी की।  

[removed]

चीनी राजदूत ने कहा कि भारत और चीन को प्रतिद्वंद्वियों के बजाए भागीदार होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'चीन और भारत के बीच दो हजार साल से ज्यादा समय से मित्रतापूर्ण संबंध हैं। मैंने देखा है कि हाल के दिनों में दोनों देशों में सीमा मुद्दे को लेकर तनाव पैदा हुआ।'

सन विडोंग ने बयान जारी करते हुए कहा कि दोनों देशों की सीमाएं संबंधी प्रश्न संवेदनशील और जटिल है। हमें समान परामर्श और शांतिपूर्ण बातचीत के माध्यम से उचित समाधान खोजने की आवश्यकता है।

राजदूत ने कहा कि भारत और चीन को परस्पर सम्मान के माध्यम से विश्वास पैदा करने और एक दूसरे के साथ समान व्यवहार करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों को 'आपसी मूल हितों' और प्रमुख चिंताओं को समायोजित करने की जरूरत है। 

उन्होंने कहा, 'पांच जुलाई को चीनी विदेश मंत्री वांग यी और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने भारत-चीन सीमा मुद्दे पर टेलीफोन पर बात की थी। इस दौरान दोनों पक्ष सीमा पर शांति के लिए सहमत हुए। इसके अलावा शीर्ष सैन्य अधिकारी भी जमीनी तनाव को कम करने के लिए बातचीत कर रहे हैं।'

राजदूत का यह बयान पांच प्रमुख बिंदुओं पर केंद्रित था। इसमें कहा गया कि भारत और चीन को प्रतिद्वंद्वियों के बजाय, भागीदार होना चाहिए। दोनों देशों को टकराव के बजाय, शांति की आवश्यकता है। दोनों देश आमने-सामने आने के बजाय, शांति चाहते हैं। इसके अलावा संदेह लाने के बजाय, विश्वास बनाने की जरूरत है।

सन विडोंग ने पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसक झड़प का भी जिक्र किया। विडोंग ने कहा कि इस घटना से गलवान घाटी में कई हताहत हुए। उन्होंने कहा, 'यह एक ऐसी घटना थी, जिसे न तो भारत देखना चाहता है और न ही चीन देखना चाहता है।'

[removed]

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :